पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

खुल गई पोल:मैंने न मशीनें खरीदी, न स्टाफ रखे, 25 हजार की सैलरी में 12 महीने किया काम: डॉ. बंजारे

खैरागढ़3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • माधव मेमोरियल हॉस्पिटल के पहले मेडिकल डायरेक्टर ने उगला सच

माधव मेमोरियल हॉस्पिटल के पहले डायरेक्टर ने संचालक के बयान की पोल खोल दी। डॉ. अभिषेक बंजारे ने बंजारे ने कहा कि वे एजेंट सौरभ के जरिए हॉस्पिटल के संचालक (डॉ. साहू) से मिले थे। सप्ताह में चार दिन ओपीडी देखने की बात हुई थी। तब 25 हजार रुपए महीने की सैलरी में काम किया था। मशीनों की खरीदी बिक्री के बारे में उन्हें कुछ भी नहीं मालूम। माधव मेमोरियल हॉस्पिटल में छापेमार कार्रवाई के बाद कई गड़बड़ियां सामने आईं, लेकिन 24 जनवरी को नायब तहसीलदार के सामने दिए अपने बयान में संचालक डॉ. दुग्धेश्वर साहू ने सारा दोष मेडिकल डायरेक्टरों पर मढ़ दिया। इधर डॉ. बंजारे का कहना है कि उन्होंने माधव मेमोरियल हॉस्पिटल में 12 महीने काम किया। इसके बाद सरकारी नौकरी लग गई। फिलहाल वे बालोद के जिला अस्पताल में पदस्थ हैं। डॉ. बंजारे ने बताया कि उन्होंने 2018 में हॉस्पिटल ज्वाइन किया था, तब वहां आईपीडी में मरीज नहीं थे। ओपीडी ही चला करती थी और खुद संचालक (डॉ. साहू) भी ओपीडी देखते थे। हॉस्पिटल में खरीदी गई मशीनों के बारे में उन्हें कोई भी जानकारी नहीं है और न ही स्टाफ की नियुक्तियां उन्होंने की। डॉ. बंजारे ने बातचीत में यह भी स्पष्ट कर दिया कि वह किसी भी तरह के आर्थिक लेनदेन में शामिल नहीं थे। हॉस्पिटल का पूरा संचालन डॉ. साहू ही किया करते थे। वह तो यह भी नहीं जानते कि उनके बाद मेडिकल डायरेक्टर की जिम्मेदारी किसे दी गई। जबकि डॉ. दुग्धेश्वर का कहना है कि डॉ. बंजारे ने ही डॉ. निशिकांत शर्मा को संचालन की जिम्मेदारी सौंपी थी। उन्होंने अपने बयान में इकरारनामे का भी जिक्र किया है, जिसके तहत उन्हें प्रॉफिट का पांच फीसदी हिस्सा दिए जाने का करार हुआ था। इसी के एवज में उन्होंने अपनी एमबीबीएस की डिग्री दी थी।

डायरेक्टरों को ठहराया है लेनदेन का जिम्मेदार
नायब तहसीलदार को दिए अपने बयान में हॉस्पिटल के संचालक डॉ. दुग्धेश्वर साहू ने कहा है कि हॉस्पिटल में मौजूद लाखों की मशीनें डॉ. बंजारे लेकर आए। स्टाफ की नियुक्तियां भी उन्होंने की। मरीजों से लेनदेन का हिसाब भी उन्हीं के पास था। सरकारी नौकरी लगने के बाद उन्होंने जाते-जाते सारा हिसाब-किताब डॉ. निशिकांत शर्मा को सौंप दिया।
जब से माधव मेमोरियल हॉस्पिटल खुला है तब से इसके तीन मेडिकल डायरेक्टर बदल चुके हैं।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- किसी भी लक्ष्य को अपने परिश्रम द्वारा हासिल करने में सक्षम रहेंगे। तथा ऊर्जा और आत्मविश्वास से परिपूर्ण दिन व्यतीत होगा। किसी शुभचिंतक का आशीर्वाद तथा शुभकामनाएं आपके लिए वरदान साबित होंगी। ...

    और पढ़ें