पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

सफाई व्यवस्था ठप:नालियों का निर्माण नहीं तो गलियों से लेकर मुख्य सड़कों पर जलभराव, पंचायत नहीं कराती सफाई

मानपुर3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • मेवाड़ा के ग्रामीणों ने जताई गंदगी से बीमारियों की आशंका, नहीं दिया जा रहा है सफाई पर ध्यान

मेवाड़ा पंचायत में सफाई व्यवस्था ठप हो गई है। हालात यह हैं कि नालियों का निर्माण नहीं होने से गलियों से लेकर मुख्य मार्गों पर जलभराव है तो वहीं गंदगी के ढेर भी जगह-जगह देखने को आसानी से मिल रहे हैं। गंदगी बढ़ने से लोगों को मलेरिया और अन्य मच्छर जनित बीमारियों का सामना करना पड़ सकता है। लोगों को कहना है कि सफाई व्यवस्था शुरू कराने के लिए पंचायत की ओर से कोई पहल नहीं की जा रही है।

मेवाड़ा की सफाई की सफाई व्यवस्था के लिए जरूरत के हिसाब सफाई कर्मचारी नहीं है। यहां सिर्फ एक ही सफाई कर्मचारी हैं वह बीते एक महीने से सफाई करने के लिए ही नहीं आए। जमूर्दी रोड और बगीची गांव की ओर से आने वाले दोनों ही रास्ते कीचड़ में डूब गए हैं। पंचायत सरपंच भी समस्या पर ध्यान नहीं देते हैं।

लोगों का कहना है कि वह श्योपुर में रहते हैं और कभी कभार ही गांव में आते हैं। वहीं गलियों में स्थिति यह हो गई है कि सीसी सड़कें कचरे के ढेर के नीचे दब चुकी हैं चारों तरफ गंदगी के माहौल के बीच भयंकर दुर्गंध से भी लोग परेशान हो चुके हैं कई जगह तो यह स्थिति है कि लोग खुद ही मोहल्लों में झाड़ू लगाकर सफाई कर रहे हैं।

सफाई नहीं होने पर स्थानीय लोगों ने भयंकर बीमारियों का फैलने की आशंका जाहिर करते हुए गांव में जल्द से जल्द सफाई कराए जाने की मांग की है। इस संबंध में ग्रामीणों ने एक मांग पत्र कलेक्टर को भेजा है। उधर पंचायत सचिव का कहना है कि उन्होंने कुछ समय पहले भी सफाई कराई थी, लेकिन हालात जस के तस हो गए।

दो बार करा दी सफाई
^हमारे पास एक ही सफाईकर्मी है वही दफ्तर में सफाई करता है वहीं गांव में सफाई करता है। हमने हाल ही में दो बार सफाई करा दी। अब ग्रामीण पंचायत का कर भी नहीं भरते हैं इसलिए यह समस्या बन रही है।
इंदरराज आदिवासी, पंचायत सचिव, मेवाड़ा।

खबरें और भी हैं...