बाद में छोड़ दिया:पिता का नाम पूछ 7 साल के मासूम को किया अगवा, मांगी 50 लाख की फिरौती

मानपुरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
अपराधियों से मुक्त हो घर पहुंचा बच्चा - Dainik Bhaskar
अपराधियों से मुक्त हो घर पहुंचा बच्चा

मुफस्सिल थाना के रसलपुर में अपराधियों ने मासूम का दिनदहाड़े अपहरण कर लिया। दीपावली के एक दिन पहले इस घटना से गांव में दहशत का माहौल कायम हो गया। परिजनों का रो-रोकर बुरा हाल हो गया था। पुलिस ने अपहृत की बरामदगी के लिए छापेमारी शुरू की। ताबड़तोड़ छापेमारी का नतीजा रहा कि अपहरणकर्ता करीब 45 घंटे बाद अपहृत बच्चे को थाना क्षेत्र के परोरिया बाजार में स्कार्पियो से छोड़कर फरार हो गए। इस दौरान अपहरणकर्ता अपहृत मासूम को एक ऑटो में 20 रुपया देकर बैठा दिया और उक्त मासूम के हाथ मे उसके पिता का मोबाइल नम्बर भी लिखकर दिया। जानकारी हो कि इनोवा सवार दो अपराधियो ने सेवानिवृत्त आर्मी बाल्मीकि सिंह के एक बेटी व दो बेटों में सबसे छोटा सात वर्षीय मोहित कुमार को फिरौती के लिए अगवा किया, जिसके बाद परिजनों ने स्थानीय थाना को मामले की सूचना दी।

फिरौती की रकम के लिए एयरपोर्ट बुलाया, बार-बार बदला ठिकाना

अपहरण के बाद फिरौती की रकम को लेकर परिजनों को एयरपोर्ट बुलाया था। पुलिस और टेक्निकल सेल ने एयरपोर्ट वाले क्षेत्र की नाकेबंदी की तो अपराधियों ने बंधुआ रेलवे गुमटी बुलाया। पुलिस टीम जब तक बंधुआ गुमटी आती, अपहरणकर्ता स्कॉर्पियो से उतार कर बच्चे को ऑटो पर बैठा दिया। पुलिस ने मोहित को सकुशल बरामद कर लिया है। पुलिस की टीम उसे उसके घर को लेकर गई है।

45 घंटे बाद परोरिया बाजार में अपहृत को छोड़ भागे अपराधी
इधर, पुलिस की दबिश से घबराकर अपहरणकर्ता परोरिया बाजार में बच्चे को छोड़ा और एक ऑटो पर बैठा कर भाग निकले। इस बात की सूचना पर पहुंचे स्थानीय पुलिस व ग्रामीणों द्वारा मासूम को घर लाया गया। मासूम की सकुशल रिहाई की सूचना मिलते ही लोगों की भीड़ अपहृत के घर जमा हो गई। मासूम को देखते ही परिवार के लोगों की आंखों मे खुशी के आंसू छलक आए। अपहरण की इस घटना को गंभीरता से पुलिस ने लिया है।

अब पुलिस के रडार पर कई गिरोह हैं। संलिप्त अपराधियों के खुलासे का प्रयास किया जा रहा है। एएसपी मनीष कुमार ने कहा कि बच्चे की बरामदगी हो गई है। लड़का अभी तुरंत बरामद हुआ है। इसलिए कागजी कार्रवाई के बाद ही पूरी डिटेल्स लोगों के समक्ष रखी जाएगी। साथ ही इस वारदात को अंजाम देनेवाले कौन थे। इसका भी खुलासा किया जाएगा।

पिता का नाम पूछा फिर अपहरण कर ले गए

फोटो सिंह नामक युवक ने अपने रिश्तेदार बाल्मीकि सिंह के सबसे छोटा बेटा मोहित को अपने भतीजे के साथ 20 रुपया देकर साईकिल से समोसा लाने के लिए बुधगेरे बाजार भेजा था। साइकल सवार दोनों बच्चे बुधगेरे से दरग़हीया तालाब के रास्ते घर जा रहे थे। इधर, लगभग 4 बजकर 37 मिनट पर एक इनोवा दरग़हीया तालाब की ओर तेजी से गया। जैसे ही बच्चे तालाब के पास पहुंचे, वाहन सवार अपराधियो ने बच्चों से बाल्मीकि सिंह के घर जाने का रास्ता पूछा। बच्चों ने बताया कि बाल्मीकि सिंह का बेटा मोहित यही है। उसके बाद वाहन सवार ने मोहित को अपने वाहन में बैठा लिया और घर पहुंचाने की बात कही। इसके बाद उसका अपहरण कर अपराधी फरार हो गए। इसके बाद अपहरणकर्ताओं ने परिजन को फोन कर 50 लाख की फिरौती की डिमांड की और पुलिस को सूचना नहीं देने को धमकाया।

खबरें और भी हैं...