अभी कोरोना से खतरा टला नहीं है:3.40 लाख लोगों को लगा पहला डोज; 55,773 को ही लग पाया दोनों डोज, दावा- उनमें भी 35 हजार में बनी एंटीबॉडी

भिलाई6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
वैक्सीनेशन सेंटर में रोजाना लग रहा उम्मीदों का टीका। - Dainik Bhaskar
वैक्सीनेशन सेंटर में रोजाना लग रहा उम्मीदों का टीका।
  • 1.18 लाख लोग ऐसे भी जिन्हें पहला डोज लगे 28 दिन हो गए, पर वे दूसरा डोज लगवाने नहीं पहुंचे
  • ध्यान रखें: दो गज दूरी, मास्क का नियमित उपयोग और हाथों को सैनिटाइज करें

जिले में पॉजीटिव परसेंटेज कम जरूर हो गया, लेकिन जान का खतरा टला नहीं है। क्योंकि कोरोना से बचाने व उसके खतरे को कम करने वाली वैक्सीन के दोनों डोज जिले में केवल 55,773 लोगों को ही लगा है। 31 मार्च तक जिले में 1,18,785 को पहला डोज लग चुका था। इसके अनुसार 28 अप्रैल को इतने हितग्राहियों को पहला डोज लगे 28 दिन हो गए हैं।

वैक्सीन प्रोटोकॉल (28 से 56 दिनों के भीतर दूसरा डोज) अनुसार इतनों को दूसरा डोज लगाया जा सकता है, लेकिन वे केंद्रों तक नहीं पहुंचे हैं। यही नहीं इनमें करीब 90 हजार हितग्राहियों को पहला डोज लगे 30 से ज्यादा दिन हो रहा है। चूंकि वैक्सीन निर्माता कंपनी दूसरी डोज के 14 दिनों बाद संबंधित में कोरोना के विरुद्ध प्रतिरोधक क्षमता बनने की दावेदारी करती है, इसलिए 55,773 में से लगभग 35 हजार में ही प्रतिरोधक क्षमता बनना माना जा सकता है। क्योंकि 14 दिनों पहले तक वैक्सीन की दोनों डोज लगवाने वालों की संख्या 35,125 ही थी।

यहां करीब 4 लाख में 15 हजार को ही कोवैक्सीन

दुर्ग में अब तक के कुल वैक्सीनेशन में मात्र 15 हजार को ही को वैक्सीन लगी है। शेष करीब 3,85,000 हितग्राही कोवीशिल्ड वैक्सीन के हैं। चूंकि, जिन्हें पहला डोज कोवीशिल्ड का लगा, उन्हें दूसरा डोज भी उसी की लगना है। इसलिए दूसरी डोज लगवाने पूरा समय है।

कोवीशिल्ड : इस वैक्सीन की दूसरी डोज 28 दिनों से 56 दिनों के भीतर लगाई जानी है। लेकिन जिला टीकाकरण अधिकारी डॉ. सुदामा चंद्राकर इसकी दूसरी डोज 42 दिनों बाद लगाने की सलाह देते हैं। उनका कहना है कि 42 दिनों बाद यह वैक्सीन ज्यादा कारगर है। इसलिए इसी अवधि में यह लगे।

कोवैक्सीन : इस वैक्सीन की दूसरी डोज भी 28 से 56 दिनों के भीतर ही लगाने के निर्देश है। लेकिन इसकी दूसरी डोज 28 दिनों बाद कभी भी लगा लेने की सलाह है। इस वैक्सीन को 28 से 56 दिनों के अंदर जब भी लगाएंगे, तभी कारगर रहेगी। इसके लिए सेंटरों में सलाह भी दी जा रही।

तैयारियां पूरी, वैक्सीन मिलेगी तो लगाना शुरू करेंगे

1 मई से 18 से 45 वर्ष के लोगों के वैक्सीनेशन के लिए हमने 284 सेंटर और 321 वैक्सीनेट की ड्यूटी प्लान की है। हर सेंटर पर सभी इंतजाम कर लिए गए हैं। अब तक राज्य सरकार से 18 से 45 वर्ष के लोगों के लिए मिलने वाली वैक्सीन नहीं मिली है। वैक्सीन मिल जाएगी तो हम तय प्लान से वैक्सीनेशन शुरू करा देंगे।
-डॉ. सुदामा चंद्राकर, डीआईओ, दुर्ग।

खबरें और भी हैं...