11 माह में दुर्ग में 4510 बच्चे पैदा हुए:490 अंडरवेट, राज्य में सबसे ज्यादा 31% कम वजन के बच्चे दुर्ग में पैदा हुए, कारण कुपोषण

भिलाई5 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

प्रदेश में सबसे ज्यादा कम वजन के बच्चे जिले में पैदा हो रहे हैं। जिला अस्पताल की मदर चाइल्ड यूनिट में अप्रैल 2021 से 7 नवंबर तक हुई डिलीवरी और बच्चों के वजन के आंकड़ों से इसका पता चल रहा है। इस दौरान दुर्ग में 4623 डिलीवरी में 4510 बच्चों का जन्म हुआ है। इसमें 490 बच्चों को वजन 1800 ग्राम से कम मिला है। यानी 11 महीने में पैदा हुए कुल बच्चों में 31 % बच्चों को वजन कम है।

स्त्री व प्रसूति रोग विशेषज्ञ डॉ. मोनी दीपा साहा इसका कारण कुपोषण, एनीमिया, शिकल सेल और शूगर को बताती है। उनका कहना है कि गर्भ में पल रहे बच्चे और मां का समय-समय पर प्रापॅर चेक-अप नहीं होने के कारण बच्चों को विकास नहीं हो पाता है। लो बर्थ डिलीवरी में रायगढ़ का प्रदेश में दूसरा स्थान आता है। 11 माह में पैदा हुए 1540 बच्चों में 471 का वजन 1800 ग्राम से कम रहा।

छग में सबसे ज्यादा डिलीवरी दुर्ग अस्पताल में
प्रदेश में सबसे ज्यादा डिलीवरी जिला अस्पताल दुर्ग में हो रही है। यहां की मदर चाइल्ड यूनिट ने पिछले 3 वर्षों से यह बढ़त बनाए हुए हैं। कोरोना काल के दौरान भी यहां डिलवरी कम नहीं हुई। हर साल से ज्यादा डिलीवरी कराई गई है। अस्पताल में प्रसव के मामले काफी अच्छे रहे हैं पर अंडरवेट बच्चों का जन्म भी हुआ है।

जन्म लेते ही सरगुजा में सबसे ज्यादा बच्चों की मौत
11 महीने में जन्म लेते ही सरगुजा के जिला अस्पताल में 317 बच्चों ने दम तोड़ दिया है। ये प्रदेश में सबसे ज्यादा है। दुर्ग की बात करें तो इस दौरान यहां केवल 113 नवजातों की मौत हुई है। जबकि दुर्ग में पूर प्रदेश में सबसे ज्यादा 4510 बच्चे पैदा हुए हैं। दुर्ग में स्थिति थोड़ी अच्छी रही है पर 113 बच्चों की मौत शुभ संकेत नही है।

सबसे अच्छी एसएनसीयू यूनिट भी दुर्ग जिला अस्पताल में मौजूद
नवजातों के उपचार के लिए सबसे अच्छी एसएनसीयू यूनिट दुर्ग में ही है। इसे यहां की मदर चाइल्ड यूनिट में संचालित किया जा रहा है। इस यूनिट में बच्चों के केयर के लिए सभी इंतजाम है। सबसे बड़ी बात यह कि इस यूनिट का संचालन वेल-ट्रेंड स्टॉफ करता है।

लाइव बर्थ में हम बेहतर
लाइव बर्थ में हम सबसे अच्छे हैं। हमारे अस्पताल में प्रदेश में सबसे ज्यादा डिलवरी कराई जा रही है। मदर चाइल्ड यूनिट की एसएनसीयू में कम वजन के बच्चों के इलाज के पूरे इंतजाम है। इस यूनिट का संचालन वेल ट्रेंड स्टॉफ करता है।
-डॉ. पी बालकिशोर, सिविल सर्जन।

खबरें और भी हैं...