पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Chhattisgarh
  • Bhilai
  • Action Is Not Being Taken Even After Getting The Suicide Note, Nandini Police Is Searching For The Absconding Doctor For The Last 21 Days, The Family Is Preparing To Appeal To The DGP And IG, Chhattisgarh

मरने के बाद भी इंसाफ का इंतजार:सुसाइड नोट मिलने के बाद भी नहीं हो रही कार्रवाई, नंदिनी पुलिस पिछले 21 दिनों से फरार डॉक्टर की कर रही तलाश

भिलाई2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
मृतक के परिजन इंसाफ का इंतजार कर रहे है। नंदिनी पुलिस सिर्फ आश्वासन दे रही है। - Dainik Bhaskar
मृतक के परिजन इंसाफ का इंतजार कर रहे है। नंदिनी पुलिस सिर्फ आश्वासन दे रही है।

दुर्ग जिले के नंदिनी थाना क्षेत्र में 21 दिन पहले एगेश्वर यादव (28 वर्ष) ने खुदकुशी कर ली थी। उसकी जेब से पुलिस ने सुसाइड नोट बरामद किया था। जिसमें उसने जे.के. लक्ष्मी सीमेंट में कार्यरत डॉ. मदन मोहन सिंह पर मानसिक रूप से प्रताड़ित करने व एक्स-रे टेक्नीशियन का डिप्लोमा बनवाने के नाम पर 3 लाख रुपए लेने का आरोप है। परंतु पुलिस अभी तक आरोपी डॉक्टर पर कोई कार्रवाई नहीं कर पायी है। इसके बाद अब मृतक के बड़े भाई यशवंत यादव डीजीपी और आईजी से शिकायत करने की तैयारी में है।

एगेश्वर यादव ने परेशान होकर की थी खुदकुशी
यह मामला नंदनी थाना क्षेत्र के अहिवारा में वार्ड-5 में रहने वाले एगेश्वर यादव जो जे.के. लक्ष्मी सीमेंट में कार्यरत डॉ. मदन मोहन सिंह के पास वार्ड ब्यॉय का काम करता था। परिजनों के मुताबिक डॉक्टर ने साल 2020 में उसने 3 लाख रुपए लिए थे। लेकिन समय बीतने के बाद भी नौकरी और डिप्लोमा का सर्टिफिकेट नहीं मिला था। जिसके कारण वो मानसिक रूप से परेशान रहने लगा ।

परेशान होकर युवक डॉक्टर की शिकायत करने नंदिनी थाने भी गया था, लेकिन वहां भी कोई सुनवाई नहीं हुई। जिसके बाद थक हार कर उसने 16 मई 2021 को शिव मंदिर के पास बीएसपी रोड जंगल के अंदर पेड़ में फांसी लगाकर खुदकुशी कर ली थी।

नौकरी पाने के लिए पत्नी के जेवर गिरवी रखे थे
मृतक एगेश्वर यादव नौकरी पाने के लिए अपनी पत्नी के जेवर गिरवी रख दिए। इतना ही नहीं पीएफ से पैसा भी निकलवा कर दे दिए थे, लेकिन न ही नौकरी मिली और न ही डिप्लोमा मिला। परिजनों ने डॉ एम.एम. सिंह पर युवक को मानसिक रूप से परेशान करने और ठगी करने का आरोप लगाया है। इतना ही नहीं परिजनों का आरोप है कि डॉक्टर ड्यूटी के बाद भी युवक से अपने घर का काम करवाता था।
पुलिस फरार डॉक्टर की कर रही तलाश
नंदिनी थाना प्रभारी लक्ष्मण कुमेटी ने बताया कि पूरे मामले में अपराध पंजीबद्ध कर लिया गया है। और फरार डॉक्टर की तलाश की जा रही है, तो वहीं इस मामले में एएसपी संजय ध्रुव ने कहा कि सुसाइडल नोट को हैंडराइटिंग एक्सपर्ट से जांच करवाया जा रहा है। जांच रिपोर्ट आने के बाद आगे की कार्रवाई होगी।

खबरें और भी हैं...