पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Chhattisgarh
  • Bhilai
  • Between The Lockdown In Durg District, The Politics, Congress And Jogi Congress Justified This Period, BJP Raised Questions On The Government's Infrastructure

36 दिन के लॉकडाउन पर 36 का आंकड़ा:कांग्रेस व जोगी कांग्रेस ने इसे सही ठहराया; भाजपा ने सरकार के इंफ्रास्ट्रक्चर पर उठाए सवाल

भिलाई3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
दुर्ग जिले में लॉकडाउन के बीच सियासत जारी है। सभी राजनीतिक दल अपनी-अपनी तरह से तर्क दे रहे हैं। - Dainik Bhaskar
दुर्ग जिले में लॉकडाउन के बीच सियासत जारी है। सभी राजनीतिक दल अपनी-अपनी तरह से तर्क दे रहे हैं।

छत्तीसगढ़ के दुर्ग में लॉकडाउन घोषणा सबसे पहले की गई थी। यहां पर जिला प्रशासन ने 6 अप्रैल 2021 से निरंतर इसे लागू करके रखा है, जो 17 मई तक रहेगा। इस 36 दिन के लॉकडाउन के कांग्रेस और जोगी कांग्रेस ने सही ठहराया है तो वहीं भाजपा ने इसे राज्य सरकार की नाकामी बताया है।

लॉकडाउन व सियासी दल
भिलाई के कांग्रेस विधायक देवेन्द्र यादव बताते हैं कि जब से लॉकडाउन लगा है, उस दिन से लेकर अब तक कोरोना संक्रमण की दर में गिरावट आई है, लेकिन वो यह भी मानते हैं कि व्यवसायिक गतिविधियों को दिक्कत का सामना करना पड़ा है। जब लॉकडाउन के माध्यम से संक्रमण को कंट्रोल कर लिया जाए, फिर जब नई शुरुआत हो तो कोरोना गाइडलाइन के हिसाब से काम करें।

दूसरी ओर दुर्ग कांग्रेस विधायक अरुण वोरा का कहना है कि लॉकडाउन से तो फायदा हुआ है, कोरोना का संक्रमण कम होता जा रहा है। कोरोना मरीजो की संख्या निरंतर घटती नजर आ रही है। उन्होंने यह भी बताया कि कुछ क्षेत्रों में कंटेनमेंट जोन बनाना चाहिए। जहां पर ज्यादा संक्रमित मरीज हो। इसके अलावा ऐसे क्षेत्रों में सतत निगरानी रखी जानी चाहिए। फिलहाल लॉकडाउन में 40 से 60 प्रतिशत की छूट देनी चाहिए, क्यों कि अभी खतरा टला नहीं है।

जोगी कांग्रेस लॉकडाउन के सपोर्ट में

जोगी कांग्रेस के प्रदेश प्रवक्ता भगवानू नायक लॉकडाउन की अवधि को लेकर कहते है कि राज्य सरकार को आर्थिक रुप से गरीब लोगों की मदद करनी चाहिए। और लॉकडाउन को आगे बढाना चाहिए, अगर अभी इसे खोल दिया जाएगा तो फिर से संक्रमण की स्थिति ओर भयावह हो सकती है। कोरोना को रोकने का एक ही उपाय लॉकडाउन ही है। और लोगो को भी जागरुक होना पड़ेगा।

भाजपा ने सरकार के इंफ्रास्ट्रक्चर पर उठाए सवाल
भाजपा के पूर्व मंत्री प्रेम प्रकाश पांडेय ने लॉकडाउन की अवधि को लेकर उनका कहना है कि इससे मरीजों की संख्या तो कम हुई है। लेकिन लॉकडाउन दो वजहों के लिए लगाया जाता है। सबसे पहले जो कोरोना की चेन होती है, वो ब्रेक होती है। दूसरा इसमें जो समय मिलता है, उसमें अपनी जरुरतों के हिसाब से इंफ्रास्ट्रक्चर को तैयार करना होता है। कोरोना की पहली लहर में तो राज्य में इंफ्रास्ट्रक्चर शून्य था। और दूसरी लहर में भी इंफ्रास्ट्रक्चर सरकार विकसित नहीं कर पायी, यहां पर लोगो को सबसे ज्यादा दिक्कत ऑक्सीजन व वेंटिलेटर को लेकर इस बार हो रही है। अब तो हालात यह बन गए कि कोरोना का संक्रमण शहर से गांव की ओर तेजी से बढ़ रहा है।
खतरे का संक्रमण अभी है मौजूद
जिले में लॉकडाउन के चलते कोरोना का संक्रमण जरूर कम हुआ है। लेकिन खतरा अब भी पूरी तरह से टला नहीं है। पूरे अप्रैल महीने में 1 हजार से ज्यादा मामले रोज सामने आ रहे थे, संक्रमण की दर 25 से 30 के बीच बनी हुई थी। लेकिन अभी एक हजार से कम संक्रमण के मरीज आ रहे है, लेकिन यहां पर संक्रमण की दर घट व बढ़ रही है, कभी 7 तो कभी 18 प्रतिशत हो जा रही है। जबकि ICMR की गाइडलाइन के मुताबिक 5 प्रतिशत में ही कोरोना को महामारी माना गया है। इस प्रकार अब भी कोरोना का संक्रमण जिले मौजूद है।
कोरोना से हो रही मौतों की चिंता
कोरोना संक्रमित मरीजो से मौतों के आंकड़ों को लेकर जिला प्रशासन अभी भी चिंतित है। अगर 2 मई 2021 को छोड़ दे, तो 10 से अधिक मौके हर दिन हो रही है। 2 मई को केवल 3 लोगो की मौत हुई थी। और पिछले 7 दिनों में कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या 3179 और 88 लोगो की मौत हुई है।

दुर्ग जिले में कोरोना मरीजो की मौत चिंता पैदा कर रही है।
दुर्ग जिले में कोरोना मरीजो की मौत चिंता पैदा कर रही है।

कोरोना वायरस से मौत के कारण
जिले में कोरोनावायरस के संक्रमण से लोगो की मौत हो रही हैं। मौतो के पीछे जानकार बताते है कि खुद लोग इसके लिए जिम्मेदार है। सिविल सर्जन डा0 बाल किशोर ने बताया कि अब कोरोनावायरस का पीक नीचे जा रहा है। इस लिए थोड़े से हालात सुधर रहे है। उन्होने बताया कि कोरोना मरीजों की मौत के पीछे 3 से 4 वजह हो सकती हैं। पहली वजह लोगो की लापरवाही है। दूसरी बड़ी वजह यह है कि लोग मास्क व फिजिकल डिस्टेंसिंग का पालन नहीं करते है। तीसरी वजह अपनी सफाई पर ध्यान नहीं देते है। और जब तक कोई जरुरी काम न हो तो घर से बाहर न निकलें। किसी तरह से सर्दी,बुखार व अन्य दिक्कत हो तो डाक्टर से परामर्श जरुर लेंवे।

खबरें और भी हैं...