पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

पोला पर्व:मड़ियापार के दौड़ में भुरवा का बैल बना चैंपियन, अंकालु के बैल को दूसरा स्थान

भिलाई21 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
ग्राम मड़ियापार में कोरोनाकाल के बाद स्थानीय स्तर पर बैल दौड़ कराया गया। - Dainik Bhaskar
ग्राम मड़ियापार में कोरोनाकाल के बाद स्थानीय स्तर पर बैल दौड़ कराया गया।
  • दुर्ग-भिलाई में केवल घरों मंे ही हुई मिट्‌टी के खिलौनों की पूजा, गांवों में आयोजन

भादो माह की अमावस्या पर सोमवार को पोला का पर्व ट्विनसिटी समेत जिलेभर में मनाया गया। इस दिन पारंपरिक रूप से घर-घर में मिट्‌टी के बैल व खिलौनों की पूजा की गई। घर में बने पारंपरिक पकवान ठेठरी, खुरमी, मीठा चिला का भोग लगाया गया। इसके बाद गलियों में बच्चे मिट्‌टी के बैल दौड़ाते नजर आए।

इस पर शहर में पर्व पर कोई बड़ा आयोजन नहीं हुआ। वहीं ग्रामीण क्षेत्रों में कुछ स्थानों पर ही बैल दौड़ प्रतियोगिता के साथ महिलाओं के लिए पारंपरिक खेलों का आयोजन किया गया। बैल दौड़ के लिए प्रसिद्ध जिले के ग्राम मड़ियापार में भी इस पर औपचारिक रूप से ही बैल दौड़ कराई गई। यहां भुरवा निषाद के बैल विजेता बने। वहीं दूसरे स्थान पर अंकालु साहू, तीसरे स्थान पर बृजलाल साहू के बैल रहे। वहीं दुर्ग के ग्राम धनोरा में महिलाओं के लिए कबड्‌डी, खो-खो की पारंपरिक स्पर्धाएं हुई।

धनोरा में बैल जोड़ी सजाओ स्पर्धा भी हुई।
धनोरा में बैल जोड़ी सजाओ स्पर्धा भी हुई।

घर-घर बने ठेठरी, खुर्मी जैसे पारंपरिक व्यंजन
पोरा पर्व पर घरों में ठेठरी-खुर्मी, बरा और गुड़ चीला जैसे पारंपरिक व्यंजन बने। सुबह नांदिया बइला, जाता पोरा की पूजा के बाद इन्हीं व्यंजनों का भोग लगाया गया। वहीं किसान परिवारों ने सुबह गाय-बैलों का स्नान-श्रृंगार किया। सींग और खुर यानी पैरों में माहुर लगाया। गले में घुंघरू, घंटी पहनाई। मान्यता है कि श्रीकृष्ण को मारने पोलासुर को भेजा गया था। श्रीकृष्ण ने भाद्रपद अमावस्या के दिन वध किया था।

महिलाओं ने खेलों में दिखाई प्रतिभा
धनोरा में पोला महोत्सव पर महिलाओं व बच्चों के लिए पारंपरिक खेल कराए गए। दोपहर बाद फुगड़ी, रस्साकसी, मटका फोड़, पिट्ठू दौड़, गोला फेंक, कबड्डी, नंदी बैल सजाओ जैसे पारंपरिक खेल हुए। सरपंच मनीष साहू ने बताया कि ग्रामीण क्षेत्रों में विलुप्त हो रहे पारंपरिक खेलों को संजोए रखने आयोजन कराया। सोनू कोसरे, विभीषण साहू, नरेश साहू, वासुदेव सप्रे आदि उपस्थित थे।

सांस्कृतिक क्रीड़ा मंडल के सदस्यों ने भवन में की पूजा
आदर्श सास्कृतिक व क्रीड़ा मंडल रिसाली द्वारा पोला उत्सव का आयोजन सांकेतिक रूप से किया गया। मंडल पदाधिकारियों व सदस्यों ने नादिया बैला व पोला जाता की पूजा-अर्चना की। साथ ही पर्व पर खुशहाली का संदेश दिया। कार्यकारी अध्यक्ष शिवराज शर्मा, महासचिव पंचराम साहू, रामसेवक वर्मा, गेंदलाल वर्मा, विक्की सोनी, डीएल भार्गव, चंदेशेखर देवांगन, ईश्वरी वर्मा आदि उपस्थित थे।

खबरें और भी हैं...