BJP महामंत्री के बयान पर गरमाई राजनीति:सीटी रवि ने कहा था- CM भूपेश गोबर खाकर गोबर घोटाला कर रहे; अब कांग्रेस का जवाब- जो जैसा खाता है वैसा सोचता है

भिलाई2 महीने पहले
रायपुर में भी मोर्च प्रकोष्ठ के पदाधिकारियों को सीटी रवि ने संबोधित किया।

भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय महामंत्री सीटी रवि इन दिनों छत्तीसगढ़ के दौरे पर हैं। भिलाई में गुरुवार को हुए एक कार्यक्रम में उन्होंने कह दिया कि प्रदेश के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल गोबर खाकर गोबर घोटाला कर रहे हैं। उन्होंने लालू यादव से भूपेश बघेल की तुलना की थी। अब इस मामले में प्रदेश कांग्रेस ने सियासी पलटवार करते हुए सीटी रवि के बयान पर कहा है कि जो जैसा खाता है वैसा सोचता है।

सीटी रवि के बयान की कांग्रेस नेता सोशल मीडिया पर भी आलोचना कर माफी मांगने की मांग कर रहे हैं। कुछ दिन पहले भाजपा की प्रदेश प्रभारी डी पुरंदेश्वरी ने बस्तर के कार्यक्रम में कह दिया था कि भाजपा कार्यकर्ता अगर थूकें तो भूपेश कैबिनेट बह जाएगी। इस बयान के बाद भी भाजपा की जबरदस्त किरकिरी हुई थी।

भिलाई में आयोजित कार्यक्रम के दौरान सीटी रवि।
भिलाई में आयोजित कार्यक्रम के दौरान सीटी रवि।

भिलाई में आयोजित कार्यकर्ता सम्मलेन को संबोधित करते हुए सीटी रवि ने कहा कि सरकार ने जनता से किए वादे नहीं निभाए। जिस तरह बिहार में लालू प्रसाद यादव ने चारा खाकर घोटला किया, वैसा ही घोटाला छत्तीसगढ़ में हो रहा है। भिलाई में हुए कार्यक्रम में सीटी रवि ने भाजपा के इन दिनों जारी अभियान सेवा और समर्पण को भी मजबूती देने की अपील कार्यकर्ताओं से की।

भिलाई के कार्यक्रम में कुछ कार्यकर्ता सुस्ताते भी दिखे।
भिलाई के कार्यक्रम में कुछ कार्यकर्ता सुस्ताते भी दिखे।

भाजपा को बताया मजबूत विकल्प
सीटी रवि ने गुरुवार को ही रायपुर के प्रदेश कार्यालय कुशाभाऊ ठाकरे परिसर में भाजपा के मोर्चा-प्रकोष्ठ के पदाधिकारियों को संबोधित किया। उन्होंने कहा कि हम सबको अभी से मिशन 2023 के लिए सक्रियता से कार्य करना होगा। हमारे सत्ता में वापसी के लिए सेवा, समर्पण व संघर्ष का सूत्र वाक्य है। इसके माध्यम से बूथ व शक्ति केन्द्रों तक और अधिक मजबूत से कार्य करना होगा।

भाजपा के राष्ट्रीय नेताओं की मानसिक दशा ठीक नहीं
कांग्रेस प्रवक्ता धनंजय सिंह ठाकुर ने सीटी रवि के बयान को अशोभनीय बताया। उन्होंने कहा कि जो जैसा खाता है, वैसा सोचता है। भाजपा के राष्ट्रीय नेताओं की मानसिक दशा ठीक नहीं है। 2018 में विधानसभा चुनावों की करारी हार से बौखलाए भाजपा नेता लगातार छत्तीसगढ़ के मान सम्मान स्वाभिमान को चोट पहुंचाने में लगे हैं। छत्तीसगढ़ियों को अपमानित कर रहे हैं। भाजपा छत्तीसगढ़ में घृणा और नफरत का बीज बोकर राजनीति करना चाह रही है।

खबरें और भी हैं...