कोरोना टीके पर भरोसा:दुर्ग के नायब तहसीलदार हुलेश्वर पटेल की जुबानी- भरोसा था कि होगा कोरोना, संक्रमित हुए, लेकिन बेहद मामूली संक्रमण रहा

भिलाई7 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
दुर्ग जिले में नायब तहसीलदार के पद पर पदस्थ हुलेश्वर पटेल को दोनो कोरोना टीका लगने के बाद भी कोरोना हुआ। - Dainik Bhaskar
दुर्ग जिले में नायब तहसीलदार के पद पर पदस्थ हुलेश्वर पटेल को दोनो कोरोना टीका लगने के बाद भी कोरोना हुआ।

छत्तीसगढ़ के दुर्ग जिले में पदस्थ धमधा नायब तहसीलदार दोनों टीके लगाने के बाद भी कोरोना संक्रमित हो गए थे। लेकिन, वो बताते हैं कि शरीर में इतनी प्रतिरोधक क्षमता आ जाती है कि कोई व्यक्ति कोविड से संक्रमित तो हो सकता है। इसके वायरल लोड की प्रभावशीलता बहुत कम रहेगी। ऐसा हुआ भी, वे संक्रमित हुए लेकिन बेहद मामूली संक्रमण रहा।

कोरोना टीके पर भरोसे की कहानी, उन्हीं की जुबानी !

दुर्ग जिले के धमधा तहसील में पदस्थ नायब तहसीलदार हुलेश्वर पटेल ने जैसा बताया कि पिछले साल फरवरी-मार्च में जब कोरोना शुरू हुआ। मैंने 15 मई 2020 को नायब तहसीलदार का पद दुर्ग जिले में ज्वाइन कर कैरियर की शुरुआत की। तभी से मैंने सैकड़ों डाक्टरों और स्वास्थ्य कर्मियों को इस वायरस से लड़ते हुए नजदीक से देखा। सभी लोगों की तरह मै भी भी उस दिन का इंतजार कर रहा था। जब वैज्ञानिक इस घातक वायरस से लडने के लिए वैक्सीन बनाएंगे। आखिरकार यह सपना जल्द पूरा हो गया। जब यह घोषणा हुई कि जनवरी 2021 से सभी फ्रंटलाइन कर्मियों को वैक्सीन का डोज दिया जाएगा।

कोरोना के लगे दोनों टीके

नायब तहसीलदार राजस्व विभाग का फ्रंट लाइन वर्कर होने के नाते मुझे भी 12 फरवरी को वैक्सीन का पहला डोज़ लगा, फिर 18 मार्च को दूसरा डोज़ लगा। सब कुछ सामान्य चल रहा था। 29 मार्च को होली के दिन हमने पुलिस अधिकारियों और अपने राजस्व विभाग की टीम के साथ चेक पोस्ट में खूब ड्यूटी की और शाम को घर आए। अगले दिन 30 मार्च को सुबह उठा तो बिल्कुल सामान्य महसूस कर रहा था। थोड़ा थकान महसूस किया लेकिन कामकाजी दिन था, तो मैं अपने समय पर ऑफिस पहुंच गया।

ऑफिस में काम करते हुए मुझे थोड़ा बीच मे मुझे मेरे शरीर का तापमान बढ़ा हुआ महसूस हुआ, शाम को घर लौटा। अगली सुबह 31 मार्च को मुझे बुखार महसूस हुआ मेरा तापमान 98.8 फारेनहाइट था। मैं बहुत चिंतित नहीं था। मुझे अन्दर से विश्वास था कि मैंने टीकाकरण करा लिया है। इसलिए कुछ नहीं होगा। परन्तु फिर भी मैं फीवर क्लीनिक जाकर अपना और अपनी पत्नी का कोविड टेस्ट करवा कर आया।

मेरी रिपोर्ट पॉजिटिव व पत्नी निगेटिव

कोविड रिपोर्ट 4 अप्रैल 2021 को पॉजिटिव आने के बाद, मैंने तुरन्त डॉक्टर से परामर्श कर अपने आपको आइसोलेट किया।अपनी चेस्ट का सीटी स्कैन करवाया तो सीटी स्कोर बहुत ही कम आया। और मैंने होम आइसोलेशन में रहकर डॉक्टर के बताए अनुसार दवाई लेना शुरू किया। मेरा स्वाद सुगंध सब चला गया था। लेकिन, जल्द ही वापस आ गया। सबसे अच्छी यह बात थी कि मेरे साथ संपर्क में आये व्यक्ति, मेरे कारण संक्रमित नहीं हुए। मेरी पत्नी की रिपोर्ट निगेटिव आयी थी। और मैं अभी एकदम ठीक हो गया हूं।

खबरें और भी हैं...