भिलाई और रिसाली की तस्वीर लगभग साफ:कांग्रेस ने पांच एमआईसी मेंबर सहित 66 तो भाजपा ने 12 पूर्व पार्षदों सहित 57 की सूची देर रात की जारी

भिलाई2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

भाजपा-कांग्रेस ने दो दिनों के मंथन के बाद अंतत: बुधवार की देर रात करीब साढ़े 12 बजे पार्षद प्रत्याशियों की सूची जारी कर दी। सबसे देर से भिलाई निगम के वार्डों की सूची जारी की गई। कांगेस ने जहां युवा चेहरों पर ज्यादा भरोसा जताया है, वहीं भाजपा ने अनुभव पर अपनी मुहर लगाई है। रिसाली में अलग निकाय बनने के बाद पहली बार वार्ड चुनाव होने हैं। यहां बीजेपी ने सभी नए चेहरों को प्रत्याशी बनाया है। भाजपा ने 36 प्रत्याशियों की घोषणा की है, जिसमें दो संगठन के पुराने नेताओं को छोड़कर सभी पहली बार मैदान में उतरेंगे।

हालांकि कांग्रेस ने 8 सिटिंग और 2 एल्डरमैन को दोबारा मौका दिया है। लेकिन बाकी 30 उम्मीदवार नए हैं। प्रत्याशियों की घोषणा के साथ ही तस्वीर साफ हो गई है। कांग्रेस ने 5 पूर्व एमआईसी मेंबरों को मैदान में उतारा है। वहीं बीजेपी ने 12 पूर्व पार्षदों पर दाव लगाया है। कांग्रेस ने 66 वार्डों की सूची जारी की है। वहीं भाजपा ने भिलाई में 57 वार्डों के प्रत्याशी तय कर दिए हैं।

शेष वार्डों में संभागीय चयन समिति किसी नतीजे पर नहीं पहुंच सकी है। इसके चलते पार्टी के शीर्ष नेता अब इन वार्डों पर अंतिम निर्णय लेंगे। दो निकायों में जामुल और चरोदा में अब भी कांग्रेस ने प्रत्याशियों की सूची जारी नहीं की है। बुधवार को भी नामों पर मंथन जारी रहा। अंतिम निर्णय नहीं हो सका। पार्टी पदाधिकारियों के मुताबिक अब गुरुवार को सूची जारी की जाएगी।

मंगलवार को केवल कांग्रेस ने जामुल पालिका के उम्मीदवार की घोषणा की थी। इसके अलावा रिसाली, भिलाई और भिलाई-चरोदा के लिए दोनों पार्टियां रातभर मंथन करती रहीं। बुधवार को सुबह से बैठकों का दौर जारी रहा। इसके देर शाम रिसाली, भिलाई, चरोदा तीनों निकायों के लिए दोनों पार्टियों ने सूची जारी की। लेकिन कांग्रेस का पेंच जामुल की 20 सीटों के लिए फिर भी अटका रहा। इस पर अब गुरुवार को पुन: चर्चा होगी। इसके बाद दोपहर तक सूची जारी किए जाने की तैयारी है।

कांग्रेस में चार और भाजपा में 13 प्रत्याशियों के नाम तय नहीं कर पाई पार्टी
बुधवार देर शाम दोनों दलों ने बहु प्रत्याशित भिलाई निगम के लिए उम्मीदवारों की सूची जारी की। लेकिन तमाम दौर के मंथन के बाद कई सीटों पर दोनों पार्टियां मन नहीं बना सकी। इसके चलते कांग्रेस ने 66 प्रत्याशियों के नाम की घोषणा की। जबकि भाजपा का पेंच 13 सीटों पर फंस गया। बताया जा है कि इन वार्डों में एक से ज्यादा दावेदार की वजह से आला नेता एक मन नहीं बना सके। इसके चलते पार्टी ने 57 लोगों के नाम की घोषणा की। बाकी बची हुई सीटों पर देर रात तक मंथन चलता रहा।

खबरें और भी हैं...