पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

18+ का वैक्सीनेशन:दुर्ग में शहरी व ग्रामीण इलाके के सेंटरों पर रही युवओं की भीड़, अव्यवस्थाओं के चलते परेशान हुए लोग; बेमेतरा में हंगामा

भिलाई3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
दुर्ग जिले में भी 18 साल से ज्यादा उम्र वालों का वैक्सीनेशन शुरू हो गया। लेकिन, कई सेंटरों पर लोग बेपरवाह दिखे। सोशल डिस्टेसिंग का पालन नहीं दिखा। - Dainik Bhaskar
दुर्ग जिले में भी 18 साल से ज्यादा उम्र वालों का वैक्सीनेशन शुरू हो गया। लेकिन, कई सेंटरों पर लोग बेपरवाह दिखे। सोशल डिस्टेसिंग का पालन नहीं दिखा।

छत्तीसगढ़ के दुर्ग में करीब 32 केंद्रों पर 18+ का वैक्सीनेशन कई सेंटरों पर देरी से शुरू हुआ। जिससे लोग कतारों में खड़े परेशान होते रहे। नगरीय क्षेत्रों दुर्ग शहर में 6 सेंटर, भिलाई में 20 और रिसाली में 6 वैक्सीन सेंटरों पर लोग सुबह 8 बजे से ही पहुंच गए थे। लेकिन जो पहले पहुंचा उसका पंजीयन किया गया। वैक्सीन आई तो टीका भी लगा। लेकिन, कई सेंटरों पर सोशल डिस्टेसिंग की धज्जियां उड़ती दिखीं, तो कहीं-कहीं पहचान पत्र के तौर राशन कार्ड को लेकर स्वास्थ्य कर्मचारियों से कहा-सुनी भी हुई।

ग्रामीण क्षेत्र में वैक्सीनेशन केंद्र को लेकर परेशानी
कोरोनावायरस के संक्रमण से बचाव के लिए जिले में अंत्योदय कार्डधारियों के लिए 22 केंद्र बनाए गए थे। लेकिन, सेंटर के निर्धारण में विसंगति सामने आ रही है। स्वास्थ्य विभाग द्वारा ग्राम पंचायत थनौद में वैक्सीनेशन सेंटर बनाया गया है। यहां थनौद के अलावा आस-पास के और पंचायत के पात्र लोगों को वैक्सीनेशन के लिए बुलाया जा रहा है। इसमें ग्राम पंचायत मोहलई और कोटनी भी शामिल है। इन पंचायतों में 40 और 100 अंत्योदय कार्डधारी हैं, जिन्हें वैक्सीन लगना है। लेकिन मोहलई से थनौद की दूरी करीब 10 किमी और कोटनी से करीब 13 किमी है। जिसको लेकर दोनो गांव के लोग वैक्सीनेशन से इंकार कर रहे हैं।

ग्राम पंचायत मोहलई के सरपंच खेमिन निषाद ने बताया कि 40 अंत्योदय कार्डधारी हैं, जिनका वैक्सीनेशन होना है। लेकिन सेंटर की दूरी अधिक होने के कारण लोग जाने से इंकार कर रहे हैं। कोटनी गांव के सरपंच मनोज सार्वा ने बताया कि हमारे वहां 100 अंत्योदय कार्डधारी हैं।

ग्रामीण क्षेत्र में वैक्सीनेशन के लिए बनाए गए सेंटर की दूरी बाधा बनी ।
ग्रामीण क्षेत्र में वैक्सीनेशन के लिए बनाए गए सेंटर की दूरी बाधा बनी ।

शहरी क्षेत्रों में टीकाकरण केन्द्र
दुर्ग जिले के कुछ सेंटरों पर लोग परेशान हुए, सोशल डिस्टेंसिंग सेंटरों पर नहीं दिखी, जो काफी जरूरी थी। पुलिस का पहरा तो रहा लेकिन, लोग एक साथ भीड़ इक्कठा करके पूछताछ करते दिखे।

भिलाई के वैक्सीनेशन सेंटर पर भीड़ को नियंत्रित करने के लिए पुलिस बल को तैनात किया गया।
भिलाई के वैक्सीनेशन सेंटर पर भीड़ को नियंत्रित करने के लिए पुलिस बल को तैनात किया गया।

भिलाई के कन्या शाला केंद्र में एम.टेक के छात्र अभिषेक सिंह ने टीका लगवाया। वहीं इंजीनियरिंग की छात्रा आकांक्षा ने बताया कि वे कोविड का पहला टीका लग जाने के बाद काफी खुश हैं। केंद्र में आए 30 वर्षीय युवक चंदन शर्मा ने बताया कि कोविड से लड़ने का स्थाई उपाय टीका लगाना ही है। 35 वर्षीय सुमन यादव ने बताया कि इस बार कोविड से युवाओं की भी जान गई है। अपनी सुरक्षा के लिए टीका लगवाना जरूरी है।

भिलाई के वैक्सीनेशन सेंटर में युवा वर्ग में उत्साह दिखा।
भिलाई के वैक्सीनेशन सेंटर में युवा वर्ग में उत्साह दिखा।

बेमेतरा जिले के वैक्सीनेशन सेंटर पर लापरवाही
जानकारी के मुताबिक, बेमेतरा शहर के कन्या शाला में बने वैक्सीनेशन सेंटर में एकाएक युवाओं की भीड़ इक्कठा हो गई। लंभी कतार, गर्मी और सेंटर पर अव्यवस्था के कारण लोगों ने जमकर हंगामा कर दिया। मामले की सूचना मिलने के बाद मौके पर पुलिस व प्रशासनिक अधिकारियों का अमला पहुंचा। उसके बाद व्यवस्थाओं को सुधारा जा सका। बेमेतरा एएसपी विमल बैस ने बताया कि वैक्सीनेशन के चलते युवाओं में ज्यादा उत्साह है। इस लिए भीड़ ज्यादा आ जाने की वजह से दिक्कत हुई, लेकिन व्यवस्था को सुधार करके वैक्सीनेशन को शुरू कर दिया गया।

बेमेतरा शहर के कन्या वैक्सीनेशन सेंटर में हंगामा होने के बाद पुलिस व प्रशासन की टीम ने मोर्चा संभाला।
बेमेतरा शहर के कन्या वैक्सीनेशन सेंटर में हंगामा होने के बाद पुलिस व प्रशासन की टीम ने मोर्चा संभाला।

वैक्सीनेशन के लिए दस्तावेज
अन्त्योदय और BPL श्रेणी के लिए कार्ड धारकों को निर्धारित दस्तावेज के साथ-साथ राशन कार्ड भी दिखाना होगा। जबकि APL श्रेणी के लिए निर्धारित पहचान पत्र जैसे आधार कार्ड, पेन कार्ड या अन्य मान्य दस्तावेज में से कोई एक दिखाना होगा। APL श्रेणी के लिए राशन कार्ड दिखाने की आवश्यकता नहीं होगी।

खबरें और भी हैं...