पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

पहेली बना खुड़मुड़ा हत्याकांड:दुर्गेश की मनोरोगी विशेषज्ञ से अब जाकर कराई गई काउंसिलिंग

भिलाईएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • हत्या की गुत्थी अब भी अनसुलझी, पुलिस अब तक नहीं पहुंच पाई मामले के हत्यारों तक

अमलेश्वर के खुड़मुड़ा गांव में 21 दिसंबर को सोनकर परिवार के 4 सदस्यों की हत्या की गुत्थी अब तक अनसुलझी है। पुलिस एक्सपर्ट्स से लेकर बनाई गई एसआईटी टीम भी इस अंधे कत्ल की गुत्थी को सुलझाने में अब तक असफल साबित हुई है। क्राइम सीन को रिक्रिएट करने के अलावा घटना के चश्मदीद 11 वर्षीय दुर्गेश से लगातार पूछताछ जारी है। गुरुवार को रोहित की मनोरोगी विशेषज्ञ चिकित्सक से काउंसिलिंग भी कराई गई। वह भी बेनतीजा रही। भास्कर ने क्राइम सीन को लेकर तीन एक्सपर्ट्स की मदद ली। आइए जानते हैं क्या कुछ कहना है उनका...

फॉरेंसिक रिपोर्ट से सिर्फ हत्या करने का तरीका ही पता चल पाया
मुझे तक पूरे मामले की जानकारी है कि एफएसएल रिपोर्ट से सिर्फ यह पता चला था कि चारों की मौत का तरीका क्या था। रोहित और उसके पिता की हत्या गला दबाकर की गई थी। जबकि रोहित की मां दुलारी बाई की मौत सिर के पिछले हिस्से में किसी वस्तु से हमला करने से हुई थी। रोहित की पत्नी कीर्तिन के सिर पर सिलबट्टे से वार किया गया। चारों को मौत के घाट उतारने के बाद तीन के शव पानी के टंकी में फेंक दिया गया। बहुत सारे मूवमेंट की वजह से फिंगर और फुट प्रिंट नहीं मिल सके। घटना का एक मात्र प्रत्यक्षदर्शी 11 साल का नाबालिग है। उससे ही सुराग मिलेगा। उसकी काउंसिलिंग जरूरी है।

बच्चे की सच्चाई जानने के लिए मनोवैज्ञानिक की मदद ले पुलिस
बच्चे का बयान लंबे अंतराल के बाद अलग अलग सामने आया है। बच्चा पहले हत्या में एक व्यक्ति के शामिल होने की जानकारी दे रहा था। लेकिन कुछ दिन पहले उसने रात में अलग और हत्या करने के बाद जाने वाला व्यक्ति अलग था। इससे लग रहा है कि अनजाने में बच्चा मिस लीड करने की कोशिश कर रहा है। इससे विवेचना में समस्या आ रही होगी। यह भी पता चला है कि बच्चे ने जो स्कैच बनवाया था, वह भी महज उसकी कल्पना थी। 11 साल के बच्चे से सच्चाई जानने के लिए पुलिस को साइकैट्रिस्ट या साइकोलॉजिस्ट के पास ले जाना चाहिए। तभी कुछ मदद मिल पाएगी।

कई बार अक्षरों को साफ देखने के लिए किताब को दूर करना पड़ता है
किसी भी मर्डर की जांच तीन थ्योरी पर आधारित होती है। जर-जोरी और जमीन। दुश्मनी, महिला और प्रॉपर्टी विवाद। हत्या का कारण इन्ही में से एक निकलेगा। चोरी की घटनाओं को खुलासा हो ना हो, लेकिन हत्या जैसे अपराधों से पर्दा उठ जाता है। कई बार मर्डर की गुत्थी सुलझने में लंबा समय लग जाता है। कई बार ऐसा होता कि नजदीक से किताब पढ़ने की कोशिश की जाती है। ऐसे में अक्षर साफ दिखाई नहीं देते है। अक्षरों को साफ देखने के लिए किताब को दूर करना पड़ता है। मर्डर की सिरा घटना स्थल के आस पास ही रहता है। लेकिन देख नहीं पाते है। इस बात को पुलिस को समझनी होगी।

अब तक हुई एक्सरसाइज: नई टीम गठित
1 एसआईटी गठित की, अब सीएसपी और टीआई शामिल:
जांच के लिए गठित एसआईटी मेंं सीएसपी भिलाई नगर और जामुल, खुर्सीपार, साइबर सेल प्रभारी समेत कई विवेचकों को शामिल किया गया। पहले एसडीओपी बेमेतरा भी टीम में शामिल किए गए। 14 लोगों की एसआईटी के बाद भी जिले के कई थाना प्रभारी मौखिक आदेश पर जांच में जुटे हुए हैं। अमलेश्वर थाने में तंबू लगा हुआ है।

2 हर एंगल से जांच: आरोपी 21 दिसंबर को तड़के रोहित सोनकर उसके पिता बालाराम, मां दुलारी बाई और पत्नी कीर्तिन बाई की हत्या करके फरार हो गया। हत्याकांड का पता चलने के बाद से पुलिस लगातार कारणों तक पहुंचने की कोशिश कर रही है। जर-जोरू-जमीन की थ्योरी पर जांच की। हर एंगल से जांच की।

3 कॉल डिटेल खंगाला: साइबर टीम ने 1 महीने में करीब 1 हजार लोगों के कॉल नंबर को ट्रेस किया। घटना के वक्त सिर्फ रोहित का मोबाइल ही चालू मिला। हर संदेही के कॉल डिटेल खंगाले गए। संदेह के आधार पर कुछ को हिरासत में भी लिया गया। अमलेश्वर, रायपुर, भाठागांव, शास्त्री मार्केट, बैजनाथ पारा से फुटेज की जांच की हुई।

4 स्कैच किया तैयार, फिर भी फेल: दुर्गेश के बताए आधार पर ब्लैक एंड वाइट स्कैच तैयार कराया गया। संदेह के आधार पर दूसरा स्कैच बनवाया गया। इसके बाद फिर तीसरा कलर स्कैच बनाया गया। करीब 25 दिन तक पुलिस इन्हीं तीनों स्कैच के आधार पर 1 हजार लोगों की तस्वीर से मैच करने की कोशिश करते रही। रोहित के एक भाई ने पार्टी की, जिसमें करीब 6 लोग शामिल थे। उनसे भी पूछताछ की गई।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- इस समय ग्रह स्थितियां पूर्णतः अनुकूल है। सम्मानजनक स्थितियां बनेंगी। विद्यार्थियों को कैरियर संबंधी किसी समस्या का समाधान मिलने से उत्साह में वृद्धि होगी। आप अपनी किसी कमजोरी पर भी विजय हासिल...

    और पढ़ें