पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

कोरोना का कहर:बीएसएफ जवान और बुजुर्ग की मौत, 10 दिनों के भीतर 10 मरीजों की मौत, सोमवार को 40 नए मरीज मिले

भिलाईएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • बिना सिमटम वाले मरीजों के लिए बनाए गए कोविड केयर में पहली मौत, डॉक्टरों को देखने तक का मौका नहीं मिला

कोरोना के नए मरीजों के साथ-साथ इससे मरने वालों की संख्या जिले में बढ़ती जा रही है। सोमवार को बीएसएफ जवान सहित दो कोरोना मरीजों की मौत हो गई। बीएसएफ जवान ने एम्स में इलाज के दौरान दम तोड़ दिया, जबकि दूसरे मरीज की मौत जिले के कोविड केयर सेंटर में ही हो गई। बीएसएफ जवान 5 दिन पहले जिले के कोविड अस्पताल से एम्स भेजा गया था और दूसरे मरीज में कोई सिमटम नहीं होने से कोविड केयर सेंटर में रख दिया था। सोमवार की शाम गया नगर दुर्ग के इस 57 वर्षीय मरीज की अचानक तबीयत बिगड़ी और जान चली गई। इस तरह से जिले में कोरोना मरीजों की मौत का सरकारी आंकड़ा 20 पहुंच गया। 10 मौतें तो अगस्त के इन 10 दिनों के भीतर ही हो गई।
मौत ने खड़े किए सवाल, क्या वायरस ज्यादा खतरनाक हो गया? : जिले के कोविड केयर सेंटर में हुई मौत ने वायरस के स्ट्रेन को लेकर सवाल खड़े कर दिए हैं? बुजुर्ग के बेटे ने कहा कि, कोविड केयर सेंटर में पिता को क्यों रखा गया? यह समझ से परे है। डॉक्टर दोपहर तक बोलते रहे कि उनकी तबीयत ठीक है। अगर ठीक थी तो मौत कैसे हो गई?

दोनों मौतों के बारे में जानिए, यह हम सबको सजग करेगा
पांच दिनों पहले एम्स भेजा गया, फिर भी जान नहीं बची:
57 वर्षीय बीएसएफ जवान को 5 अगस्त को ही जिले से एम्स भेजा गया था। सांस लेने में तकलीफ ज्यादा बढ़ गई थी। वहां के डॉक्टर उसी दिन से सिमटम के अनुसार ट्रीटमेंट दे रहे थे। हालत गंभीर होने के कारण आईसीयू में रखा गया था। बेहतर से बेहतर उपचार हो रहा था, फिर भी सोमवार की दोपहर मौत हो गई। इससे पहले बीएसएफ के एक 28 वर्षीय जवान की भी इन्हीं परिस्थितियों में वहां मौत हो गई थी। जिले में किसी बीएसएफ जवान की कोरोना से वह पहली मौत थी। जिले में अब तक दो जवानों की मौत हो चुकी है।

सिमटम नहीं था, इसीलिए केयर सेंटर में रखा, मौत हो गई: कचांदुर के कोविड केयर सेंटर में दम तोड़ने वाले कोरोना मरीज में कोई सिमटम नहीं था। इसलिए उसे कोविड अस्पताल की बजाय कोविड केयर सेंटर में रखा गया। लेकिन सोमवार की शाम उसको अचानक सांस लेने में तकलीफ हुई। जब तक आन ड्यूटी डॉक्टर और स्टॉफ कुछ करते सांसें थम गई। सबकुछ एक से लेकर डेढ़ घंटे के भीतर हो गया। इस तरह से जिले में किसी ए सिमटोमेटिक पेशेंट के पहली मौत सोमवार को हुई। कोरोना ने इलाज करने का भी समय नहीं दिया। बुजुर्ग बेटे ने सिस्टम पर सवाल उठाया है।

दुर्ग जिले में यहां से मिले 40 नए मरीज, जानिए
इसके अलावा सोमवार को जिले में कोरोना के 40 मरीज भी मिले। इनमें 1 पुरुष वृंदा नगर दुर्ग से, 1 पुरुष मिलन चौक से, एक महिला वार्ड-3 दुर्ग से, 1 पुरुष शंकर नगर वार्ड-11 से, 2 महिला ब्लॉक धमधा से, 1 महिला अम्बेडकर नगर वार्ड-9 से, 1 पुरुष सेक्टर 9 से, 1 महिला वार्ड-11 से, 1 पुरुष लेबर कैम्प जामुल से, 1 मरीज वार्ड- 8 भिलाई से, 1 पुरुष सिरसाकला से, 1 महिला अटारी वार्ड-22 से, 1 पुरुष गंजपारा दुर्ग से, 1 पुरुष खुर्सीपार भिलाई वार्ड-36 से, 1 पुरुष पुरई से, 1 महिला और 1 पुरुष महाराणा प्रताप चौक से, 1 महिला कैम्प-1 मदर टेरेसा नगर से, 1 महिला वसुंधरा नगर भिलाई-3 से, 1 महिला वार्ड-16 निषाद पारा कुरीडीह दुर्ग से, 1 पुरुष कैम्प-1 भिलाई से तथा अन्य जिले के अन्य स्थानों से शामिल हैं।

जिले से 11 मरीज डिस्चार्ज भी हुए
कोरोना की चपेट में आने से कोविड अस्पताल में भर्ती हुए 11 मरीज सोमवार को स्वस्थ्य हो गया। उनमें किसी भी प्रकार को काम्प्लीकेशन नहीं होने से छुट्टी दे दी गई। अलग-अलग तारीखों में रिपोर्ट आने के बाद इन सबको जिले के कोविड अस्पताल में भर्ती कर इलाज शुरू किया गया था। सोमवार को डिस्चार्ज कर दिया गया।

0

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आज घर से संबंधित कार्यों को संपन्न करने में व्यस्तता बनी रहेगी। किसी विशेष व्यक्ति का सानिध्य प्राप्त हुआ। जिससे आपकी विचारधारा में महत्वपूर्ण परिवर्तन होगा। भाइयों के साथ चला आ रहा संपत्ति य...

और पढ़ें