दो गुटों में खूनी संघर्ष:दुकान की जगह को लेकर दो गुटों में विवाद, फल विक्रेता ने महिला दुकानदार पर पत्थर से किया हमला

दुर्ग.2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
फल विक्रेता का सामान फेंकती महिला पर पत्थर से किया हमला। - Dainik Bhaskar
फल विक्रेता का सामान फेंकती महिला पर पत्थर से किया हमला।

दुर्ग में मंगलवार सुबह सड़क पर दुकान लगाने की जगह को लेकर दो पक्षों में विवाद हो गया। मामला बढ़ने पर फल विक्रेता ने महिला दुकानदार के ऊपर पत्थर से हमला कर दिया। सूचना पाकर दुर्ग कोतवाली पुलिस मौके पर पहुंची और महिला को इलाज के लिए अस्पताल भिजवाया। पुलिस ने आरोपियों के खिलाफ हत्या के प्रयास का मामला दर्ज किया है।

कोतवाली टीआई भूषण एक्का ने बताया कि प्रार्थी कुंद्रापारा निवासी उषा कनौजे, कुरमला मराठे और इंदु करवे के साथ लम्बे समय से पटेल चौक पर सब्जी व मनहारी की पसरा दुकान लगाते आ रहे हैं। उन्हीं के पास ही राजीव नगर निवासी राजू सोनकर और राधिका ढीमर फल व सब्जी की दुकान लगाते थे। दुकान लगाने की जगह को लेकर दोनों पक्षों में आए दिन विवाद होता था। मंगलवार सुबह 9 बजे के करीब दोनों के बीच झगड़ा इतना बढ़ गया कि 48 वर्षीय राजू सोनकर ने बेटे प्रदीप सोनकार (28 वर्ष) को बुला लिया। दोनों मिलकर राधिका के साथ मिलकर मारपीट करने लग गए। गुस्से में आकर पीड़िता उषा कनौजे ने वहां रखे सभी फल फेंकने लगी। इससे आरोपी राजू सोनकर इतने गुस्से में आ गया कि उसने पास रखे पत्थर से महिला के सिर में कई वार किए। इससे महिला वहीं पर अचेत होकर गिर गई। दोनों गुटों में हो रहे झगड़े के चलते चौराहे के पास काफी भीड़ जमा हो गई। सूचना पर पुलिस मौके पर पहुंची और विवाद को शांत कराया। इसके बाद महिला को जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया। बताया जा रहा है कि महिला की हालत गंभीर होने से उसे रायपुर रेफर किया गया है। पुलिस ने फल विक्रेता आरोपी राजू सोमनकर, प्रदीप सोनकर और राधिका ढीमर के खिलाफ धारा 307, 323, 294, 506 और 34 के तहत जुर्म दर्ज किया है। तीनों आरोपियों को हिरासत में लेकर पुलिस पूछताछ कर रही है।

निगम प्रशासन की कार्य शैली पर उठ रहे सवाल

आसपास मौजूद लोगों का कहना है कि पटेल चौक के पास काफी संख्या में लोग सब्जी व फल सहित अन्य दुकान लगाकर बैठ जाते हैं। वह शहर का काफी व्यस्ततम चौक है। दुकानों के चलते आने-जाने वाले लोगों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ता है। यदि निगम प्रशासन समय पर ऐसा दुकान संचालकों पर कार्रवाई करके वहां हटाए और उन्हें दुकान लगाने के लिए सही जगह दे तो इस तरह के झगड़े तो बंद होंगे ही साथ ही लोगों को भी परेशानी नहीं होगी।

खबरें और भी हैं...