• Hindi News
  • Local
  • Chhattisgarh
  • Bhilai
  • District And Chandulal Chandrakar Hospital Will Have Notice Of Esma To The Doctors And Other Staff, Action Will Be Taken To Cancel The Registration,

प्रदेश में एस्मा का पहला नोटिस:दुर्ग के सरकारी अस्पतालों में ड्यूटी से नदारद डाक्टरों और स्टाफ को CMHO ने तुरंत हाजिर होने को कहा, पंजीयन रद्द करने की होगी कार्रवाई

दुर्ग7 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

छत्तीसगढ़ के दुर्ग जिले के जिला चिकित्सालय और चंदूलाल चंद्राकर अस्पताल में लगाई गई ड्यूटी से गायब डाक्टरों और अन्य स्टाफ को एस्मा के अंतर्गत नोटिस जारी किया गया है। अगर सभी चिकित्सक व स्टाफ उपस्थिति नहीं होंगे, तो उनका पंजीयन रद्द कर दिया जाएगा। CMHO ने सभी को एस्मा एक्ट के तहत नोटिस जारी किया है।

जिले में इस तरह का पहला नोटिस

छत्तीसगढ़ में कोविड संकट को देखते हुए स्वास्थ्य सेवाओं की आवश्यक स्थिति के चलते एस्मा एक्ट लागू है। कोरोना संक्रमण की रोकथाम के लिए मरीजों के इलाज व अन्य स्वास्थ्य सेवाओं के लिए स्वास्थ्य अमले की ड्यूटी जिला चिकित्सालय और चंदूलाल चंद्राकर हास्पिटल में लगाई गई है। इनमें कुछ स्टाफ ने अब तक उपस्थिति नहीं दी है। CMHO डॉक्टर गंभीर सिंह ठाकुर ने इन्हें प्रदेश में प्रभावी एस्मा एक्ट के अंतर्गत ड्यूटी में तत्काल उपस्थित होने के निर्देश दिये हैं।

कहां-कहां से कौन है गैरहाजिर

जिले के चंदूलाल चंद्राकर मेडिकल कालेज कोविड केयर सेंटर में ड्यूटी लगाये जाने पर अभी तक उपस्थिति नहीं देने वाले 1 चिकित्सा अधिकारी, 1 BDS, 2 इंटर्न डॉक्टर, 5 ICU स्टाफ नर्स, 9 स्टाफ नर्स और 3 ANM को यह नोटिस दिया गया। वहीं जिला चिकित्सालय दुर्ग में ड्यूटी लगाये जाने बावजूद उपस्थिति नहीं देने वाले 1 ICU स्टाफ नर्स, 1 स्टाफ नर्स, 8 वार्ड ब्वॉय और 2 आया को शो-काॅज नोटिस जारी किया गया है।

गंभीर सिंह ठाकुर ने बताया कि प्रदेश में 15 अप्रैल से एस्मा एक्ट लागू है, जिसके तहत समस्त स्वास्थ्य सुविधाएं और डाक्टर, नर्स व अन्य स्वास्थ्य कर्मियों को आवश्यक सेवाओं में शामिल किया गया है। जो लोग ड्यूटी में अनुपस्थित हैं, उन सभी को एस्मा के तहत नोटिस जारी किया गया है।

क्या है एस्मा

एस्मा का उपयोग किसी भी सेवा को निर्बाध बनाए रखने के लिए किया जाता है। इसके लागू होने के बाद उससे संबंधित काम करने वाले कर्मचारी काम से न तो इनकार कर सकते हैं और न हड़ताल कर सकते हैं। एस्मा का नियम अधिकतम छह माह के लिए लगाया जा सकता है। एस्मा लागू होने के बाद यदि कर्मचारी हड़ताल पर जाता है तो वह अवैध और दंडनीय है। इस आदेश से संबंधी किसी भी कर्मचारी को बिना किसी वारंट के गिरफ्तार किया जा सकता है।

इन सेवाओं पर एस्मा

  • सभी तरह की स्वास्थ्य सुविधाएं।
  • डाक्टर, नर्स और स्वास्थ्यकर्मी।
  • स्वास्थ्य संस्थानों में स्वच्छता कार्यकर्ता।
  • मेडिकल उपकरणों की बिक्री संधारण व परिवहन।​​​​​​
  • दवाईयों और ड्रग्स की बिक्री, परिवहन व विनिर्माण।
  • एंबुलेंस सेवाएं।
  • पानी और बिलजी की आपूर्ति।
  • सुरक्षा संबंधी सेवाएं।
  • खाद्य व पेयजल प्रावधान एवं प्रबंधन।
  • BMW प्रबंधन।
खबरें और भी हैं...