कार्यशाला में चर्चा:कोरोना से डरें नहीं उसका सामना करें घरेलू उपाय अपनाएं, मिलेगा लाभ:उइके

भिलाई6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
हेमचंद यादव विश्वविद्यालय में हुई कार्यशाला में राज्यपाल समेत वॉयरोल़जिस्ट और विशेषज्ञ भी शामिल हिुए। - Dainik Bhaskar
हेमचंद यादव विश्वविद्यालय में हुई कार्यशाला में राज्यपाल समेत वॉयरोल़जिस्ट और विशेषज्ञ भी शामिल हिुए।
  • हेमचंद यादव विवि में कोरोना से डरो ना, वैक्सीन है ना, विषय पर हुई चर्चा
  • प्राध्यापकों व छात्रों की जागरूकता के लिए पोर्टल लांच

राज्यपाल अनुसूइया उइके ने कहा कि कोरोना संक्रमित होने पर घबराएं नहीं बल्कि उचित चिकित्सक से परामर्श लें। साथ ही मास्क पहनना, सैनिटाइजर का प्रयोग तथा सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करें। इसके अलावा घरेलू सामग्री नींबू, दालचीनी, मेथी, काली मिर्च, सोंठ, अदरक, कपूर, लौंग, इलायची का प्रयोग करें। प्रतिदिन भाप लेना तथा गर्म पानी से गरारे को अपनी दिनचर्या में शामिल कर लें। इस अवसर पर उन्होंने कोरोना जागरूकता अभियान से संबंधित डीयू का पोर्टल लांच किया।

हेमचंद यादव विश्वविद्यालय में बुधवार को कोरोना से डरो ना, वैक्सीन है ना विषय पर हुए ऑनलाइन कार्यक्रम में यह बातें कहीं। उन्होंने कहा कि शैक्षणिक संस्थानों का यह दायित्व है कि वह समाज के हित में अपनी जिम्मेदारी निभायें। शिक्षित होने के कारण उनकी समाज के प्रति और जिम्मेदारी बढ़ जाती है।

वर्तमान कोविड- 19 संकट की अवधि में हमारा दायित्व है कि कोविड- 19 के प्रोटोकॉल का पालन कराने तथा कोरोना वैक्सीन लगाने के लिए समाज के हर वर्ग को प्रेरित करें। हर परिस्थिति में कोविड-19 के प्रोटोकाल का पालन करें। उन्होंने 1 मई से होने वाले 18 वर्ष से अधिक आयु के सभी छात्र-छात्राओं से कोरोना वैक्सीन लगाने का आह्वान किया। उन्होंने दुर्ग विवि और उसके एनएसएस विंग के कार्यों की सराहना की। अन्य अतिथियों ने भी विचार रखे।

टीका लगाने से बढ़ जाती है इम्युनिटी : डॉ. अरविंद नेरल

पं. जवाहर लाल नेहरू मेडिकल कॉलेज के वॉयरोलॉजिस्ट डॉ. अरविंद नेरल ने कहा कि वैक्सीन पूरी तरह सुरक्षित है। विद्यार्थी किसी भी प्रकार के भ्रामक बातों में ना पड़ें। वैक्सीन लगाने के बाद इम्युनिटी बढ़ जाती है तथा कोरोना का यदि आक्रमण होता भी है तो उसकी तीव्रता कम हो जाती है। कोरोना से ठीक हो जाने के बाद भी कोविड-19 के प्रोटोकॉल का पालन अवश्य करें। बार-बार साबुन से हाथ धोने तथा सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करने से संक्रमण से बचा जा सकता है। 18 साल से अधिक आयु वालों का टीकाकरण के लिए पंजीयन शुरू हो गया है।

टीका सभी लोग लगवाएं, यह आपकी सेहत के लिए: पल्टा

इससे पहले कुलपति डॉ. अरुणा पल्टा ने स्वागत भाषण में दुर्ग विवि के सामाजिक सरोकार की दिशा में हो रहे कार्यों का उल्लेख किया। साथ ही समाज के सभी वर्ग के लोगों से टीकाकरण कराने का आह्वान किया। कहा कि यह उनके अच्छे स्वास्थ्य के लिए है। साथ ही जानकारी दी कि नए शिक्षा सत्र से विवि में अध्ययन शालाएं खुल जाएं, इसके लिए प्रयास किया जा रहा है। इससे पहले अधिष्ठाता छात्र कल्याण डॉ. प्रशांत श्रीवास्तव ने कार्यक्रम की रूपरेखा प्रस्तुत की। विवि की ओर से कोरोना की रोकथाम के लिए अब तक किए गए कार्यों का उल्लेख किया।

हमेशा मनोबल को ऊंचा रखें और घबराएं नहीं : सिन्हा

कोरोना की जंग जीतकर लौटे रायपुर के वरिष्ठ अधिवक्ता दिवाकर सिन्हा ने अपना अनुभव बांटा। कहा कि दवाइयां और उपचार तो अपने स्थान पर है ही। कोरोना से बचाव का प्रमुख उपाय अपनाया। मनोबल को ऊंचा रखा। मैने देखा कि घबराहट में सांस लेने में दिक्कत अपने आप बढ़ जाती है। कोरोना से स्वस्थ होकर लौटा तब भी कमजोरी रही। ऐसे में यही कहूंगा कि मरीज अपना मनोबल ऊंचा रखें और घबराएं नहीं। कार्यक्रम में राज्यपाल ने विवि के विद्यार्थियों को भेजे जाने वाले कोरोना से बचाव और टीकाकरण संबंधी संदेशों का पोर्टल लांच किया।

खबरें और भी हैं...