निकाय चुनाव में प्रचार का नया ट्रेंड:धागे वाले मफलर और गांधी टोपी लगाकर मैदान में दिखेंगे प्रत्याशी; 20 से 25 प्रतिशत तक बढ़े प्रचार सामग्री के दाम

भिलाई5 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
चुनाव प्रचार सामग्री - Dainik Bhaskar
चुनाव प्रचार सामग्री

नगरीय निकाय चुनाव का बिगुल बजते ही दुर्ग जिले में भी चुनावी सरगर्मियां तेज होने लगी हैं। भाजपा और कांग्रेस से टिकट फाइनल होने के बाद अब प्रत्याशियों और कार्यकर्ता को चुनाव प्रचार सामग्री की जरूरत भी महसूस होने लगी है। इसे देखते हुए भिलाई शहर में चुनाव प्रचार सामग्री की दुकानें भी सज गई हैं। चुनाव के लिए उम्मीदवारों ने चुनाव सामग्री के ऑर्डर भी दे दिए हैं। इस बार सबसे अधिक मांग नए ट्रेंड में आया धागा मफलर और गांधी टोपी होगी। इन सभी मफलर और टोपी में पार्टियों के सिंबॉल बने हैं।

नगर निगम चुनाव को देखते हुए चुनाव प्रचार सामग्री तैयार हैं। चुनाव प्रचार सामग्री से सजी दुकानों में रेट का मुकाबला भी दिखने लगा है। शुक्रवार को नामांकन का अंतिम दिन है। इसके बाद अब सभी प्रत्याशी चुनाव मैदान में प्रचार करने उतर जाएंगे। यही वजह है कि बाजार में चुनाव प्रचार सामग्री की दुकानें सज गई हैं। दुकानों पर हर प्रकार की चुनाव प्रचार सामग्री है, लेकिन नए ट्रेंड पर आई चुनाव सामग्री को सामने डिस्प्ले किया गया है।

ऊनी मफलर भी उपलब्ध

चुनाव प्रचार सामग्री की दुकानों में रंगबिरंगे हैंड बैंड, दुपट्टा, मफलर, बैच, झंडे-बैनर के अलावा पोस्टर व लड़ी झंडी रखे गए हैं। वर्तमान में ठंड भी पड़ने लगी है, इसलिए सर्दी से बचाव के लिए ऊनी मफलर की डिमांड अधिक दिख रही है। दुकानदार लकी ने बताया कि चुनाव प्रचार सामग्री के ऑर्डर मिलने शुरू हो गए हैं। पिछली बार से इस बार अधिक डिमांड दिख रही है। इसके देखते हुए उन्होंने अधिक माल भी पहले से ही मंगवा लिया है।

प्रचार सामग्री की दुकान
प्रचार सामग्री की दुकान

20 से 25 प्रतिशत बढ़े रेट

दुकानदार ने बताया कि पिछले निकाय चुनाव के मुकाबले इस बार प्रचार सामग्री के रेट 20 से 25 प्रतिशत तक बढ़ गए हैं। इस बार ऊनी मफलर आया है। इसके रेट 40-50 रुपए हैं। इसी तरह छोटा झंडा की बात करें तो यह 4.5 रुपए में बिक रहा है, जबकि पिछली बार यह 3 रुपए था। बड़ा साटन का झंडा 70 रुपए का है, इसका रेट भी बढ़ा है। झालर पंपलेट भी 1000 का बंडल 600 रुपए में बिक रहा है, जबिक पछले निकाय चुनाव में यह 500 से 550 रुपए में बिका था।

मास्क की भी आ रही डिमांड

चुनाव प्रचार सामग्री बेचने वाले ने बताया कि कोरोना को देखते हुए निर्वाचन आयोग ने सभी को मास्क लगाना अनिवार्य किया है। ऐसे में पार्ट प्रत्याशी यहां तक की निर्दलीय उनके सिंबॉल और फोटो वाला मास्क का ऑर्डर दे रहे हैं। मास्क को ऑर्डर के मुताबिक तैयार किया जा रहा है। यह रेडीमेड नहीं है। पार्टी प्रत्याशियों का कहना है वह मास्क अपने समर्थकों के साथ वार्ड के लोगों को भी बांटेंगे।

खबरें और भी हैं...