डोरटूडोर सर्वे:स्वास्थ्य विभाग का नया एक्शन प्लान सुरक्षित प्रसव के लिए शुरू की कवायद

भिलाई4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • सामान्य और गंभीर गर्भवति महिलाओं की पहचान के लिए होगा सर्वे

कोरोना की लहर कमजोर होने के साथ ही स्वास्थ्य विभाग ने सुरक्षित प्रसव के लिए कमर कस ली है। डोर-टू-डोर सर्वे कर हर गर्भवती का चिंहाकन किया जा रहा है। सामान्य, गंभीर, अति गंभीर के हिसाब से सूची तैयार की जा रही है। कलेक्टर डॉ. सर्वेश्वर नरेंद्र भुरे के निर्देश के बाद पूरे जिले में डोर-टू-डोर सर्वे शुरू कर दिया गया है। ग्रामीण क्षेत्रों में 80 फीसदी गर्भवतियों का चिंहाकन कर लिए हैं। अब गंभीरता के अनुसार उनकी सूची तैयार की जा रही है।

ग्रामीण क्षेत्रों में 80 फीसदी गर्भवतियों की हुई पहचान

जानिए सूची बनाने के बाद क्या होगा
सीएमएचओ डॉ. गंभीर सिंह के अनुसार हर गर्भवती की सूची तैयार करने के बाद विभाग की वेब साइट पर उसे अपडेट करेंगे। इस डाटा को डाउन-टू-टाप अधिकारी देख सकेंगे। उसी अनुसार एक-एक गर्भवती के बारे में अपडेट लिया जाता रहेगा। जिससे गर्भवती महिलाओं की सही मॉनिटरिंग होगी। यह भी तय किया गया है।

इसे लेकर लगातार समीक्षा भी की जाएगी
सुरक्षित प्रसव के लिए गर्भवतियों से सीधे जुड़ी रहने वाली आशाओं और मितानिनों का टॉप अधिकारियों से सीधे कम्युनिकेशन होगा। अधिकारी उनकी हर सूचना को गंभीरता से लेंगे। जो नजर अंदाज करेगा उस पर कलेक्टर द्वारा कार्रवाई की जाएगी। सभी डाटा को विभाग के सर्वर में फीड किया जाएगा।

दुर्ग में इस संदर्भ में शीघ्र ही बैठक कर तय
दुर्ग निगम क्षेत्र में गर्भवतियों का डोर-टू-डोर सर्वे अभी नहीं होगा। इसके लिए पहले निगम स्तर पर बैठक होगी। भिलाई निगम में रिसाली और चरोदा निगम क्षेत्र के बैठक हो गई है। इसलिए तीनों निगम में सर्वे का काम शुरू करा दिया गया है। हर हफ्ते इसे लेकर बैठकें आयोजित की जाएंगी। सुधार भी किए जाएंगे।

खबरें और भी हैं...