पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

एटीएम में सेंध:5 दिन में रायपुर, बिलासपुर, पेंड्रा व भिलाई के 25 एटीएम के कैश डिस्पेंसर को टेंपर कर निकाले

भिलाई17 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
राजस्थान से ले रहे ट्रेनिंग- आरोपियों की तस्वीरें कैद - Dainik Bhaskar
राजस्थान से ले रहे ट्रेनिंग- आरोपियों की तस्वीरें कैद
  • पैटर्न बिल्कुल नया, कैश डिस्पेंसर को टेंपर कर के निकाल रहे पैसे, इस पैटर्न में न बैंक का नुकसान न ही किसी के एकाउंट से पैसे कट रहे

मध्यप्रदेश, यूपी के बाद छत्तीसगढ़ में एटीएम से पैसा उड़ाने वाला गिरोह पांच दिनों से सक्रिय है। गिरोह ने भिलाई, बिलासपुर, रायपुर और पेंड्रा के 25 एटीएम से पैसे निकाले है। एटीएम से हर बार दस हजार रुपए का ट्रांजिक्शन किया है। भिलाई से तीन एटीएम से 40 हजार रुपए निकाले गए हैं।

एटीएम पर लगे सीसीटीवी फुटेज में दो बदमाशों की तस्वीर कैद हो गई है। भिलाई और रायपुर के एटीएम से पैसा निकालने वाले बदमाशों का हुलिया मिल रहा है। इससे शंका है कि गिरोह में कई लोग शामिल है। भिलाई में चरोदा और सेक्टर इलाके से पैसे निकालने की जानकारी पता चलने के बाद एटीएम की देखरेख करने वाली कंपनी के अधिकारी ने पुलिस से संपर्क किया है।

एएसपी ने कंपनी के कर्मचारी के साथ एटीएम की चेकिंग के लिए दो अलग अलग टीम लगा दी है। इसके साथ यह भी स्पष्ट किया है कि एटीएम में तोड़फोड़ और पैसे निकलने की घटना में सबसे पहले जिम्मेदार के खिलाफ केस दर्ज होगा। इसके बाद पैसा निकालने और अपराध करने वालों पर एफआईआर दर्ज की जाएगी। आरोपियों की तस्वीर सीसीटीवी कैमरे में कैद हो गई है। इस आधार पर उनकी खोज जारी है।

डिस्पेंसर की शटर टेंपरिंग करके निकाले पैसे

इंजीनियर के मुताबिक इस बार सभी 25 एटीएम से कैश डिस्पेंसर की शटर टैंपरिंग करके पैसे निकाले गए हैं। ठग मशीन में कार डालने के बाद ट्रांजेक्शन करते हैं। इसके बाद कैश डिस्पेंसर तक पैसा पहुंचते ही ट्रांजेक्शन कैंसिल करने के लिए बटन प्रेस करते हैं।

इससे मशीन एरर कोड़ बताकर ट्रांजेक्शन डिक्लाइन कर देती है। लेकिन पैसा कैश डिस्पेंसर तक पहुंच जाता है। इसी दौरान बदमाश कैश डिस्पेंसर पर लगे शटर पर लोहे का औजार फंसा देते है। इसके बाद हाथ डालकर पैसा निकाल लेते है। ट्रांजेक्शन एरर होने पर मशीन कंट्रोल रुम तक मैसेज पहुंचाती है। लेकिन इससे पता नहीं चलता है कि पैसा निकाल लिया गया है।

एमपी और यूपी में दे चुके हैं घटना को अंजाम

एटीएम मशीन इंस्टाल करने वाले कंपनी के इंजीनियर सुनील देवांगन के मुताबिक करीब 2 हजार मशीन लगी है। इसके साथ दूसरी कंपनी के एटीएम मशीन हैं। भिलाई ट्रांजिक्शन ज्यादा है। इसलिए आरोपी यहां के एटीएम टार्गेट कर रहे। जबलपुर में 100 व यूपी के 150 एटीएम में ऐसे ही चोरी हुई।

राजस्थान और यूपी के गैंग पर पैसा उड़ाने की शंका

पुलिस के मुताबिक हालही में दुर्ग कोतवाली और भट्‌टी थाना क्षेत्र के एटीएम से 5.15 हजार रुपए निकाला गया था। जांच के बाद पुलिस ने राजस्थान के भरतपुर जिले से दो आरोपियों को पकड़ लिया था। एमपी और अन्य राज्यों में भी इसी तरह एटीएम से पैसा निकला है।

9 महीने पहले भी शहर के तीन एटीएम से इसी तरह निकले थे पैसे

नवंबर 2020 में इसी तरह एक तरह की खास एटीएम मशीन को ठगों ने अपना निशाना बनाया था। तीन एटीएम से ठगों ने करीब 1 लाख रुपए निकाल लिए थे। इसी तरह ठग ने रायपुर के भी कई एटीएम से पैसे निकाले थे। जिसके बाद पुलिस ने यूपी की गैंग के चार सदस्यों को पकड़ लिया था।

ठगों ने एटीएम के कैश डिस्पेंसर के शटर पर प्लास फंसाकर पैसे निकाले थे। हालही में दुर्ग और सेक्टर एरिया के एटीएम से पैसे निकालने वाले ठग ने बताया था कि कैश डिस्पेंसर पर अंगुली डालकर पैसा निकाल लेते थे। ठग के मुताबिक पैसे निकालने की तरीका जामताड़ा के बदमाशों से सीखा है।

शहर के तीन एटीएम से पैसा निकालने की सूचना बैंक प्रबंधन से मिली है। यह भी पता चला है कि बिलासपुर, पेंड्रा और रायपुर से भी इसी तरह पैसा निकाला गया। शहर में करीब 250 एटीएम लगे हुए है। बैंक प्रबंधन से इस बारे में जानकारी जुटाई जा रही है। लापरवाही पर अब बैंक, एटीएम सिक्योरिटी और मेंटेनेंस देखने वाली कंपनी के जिम्मेदारों पर कार्रवाई की जाएगी। संजय ध्रुव, एएसपी सिटी दुर्ग

खबरें और भी हैं...