पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Chhattisgarh
  • Bhilai
  • Inauguration Of 114 Beds, The Union Minister Told The Mantra Of PM Modi, Where There Is Treatment For The Sick, Bhilai Steel Plant Has Started The Center, Chhattisgarh

भिलाई में जंबो कोविड केयर सेंटर:114 बेड का हुआ उद्धघाटन, केन्द्रीय मंत्री ने पीएम मोदी के मंत्र को बताया, जहां बीमार वहीं उपचार, भिलाई स्टील प्लांट ने शुरु किया है सेंटर

भिलाई8 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
भिलाई में 114 बेड के कोविड केयर सेंटर का उद्धघाटन किया गया। - Dainik Bhaskar
भिलाई में 114 बेड के कोविड केयर सेंटर का उद्धघाटन किया गया।

छत्तीसगढ़ के भिलाई स्टील प्लांट(BSP) में केंद्रीय इस्पात मंत्री धर्मेन्द्र प्रधान ने 114 बेड के जम्बो कोविड केयर की सुविधा को देश को समर्पित किया। यह मेडिकल ऑक्सीजन से लैस है, और इसको प्लांट से गैसीय ऑक्सीजन की आपूर्ति के लिए डेढ किमी की पाइपलाइन बिछाने के बाद की गई है। इस परियोजना का यह पहला चरण है, जिसका उद्देश्य अगले दो चरणों में ऑक्सीजनयुक्त 500 बेड तक विस्तार करना है।
प्रधानमंत्री ने दिया मंत्र, जहां बीमार वहीं उपचार
केन्द्रीय इस्पात मंत्री धर्मेन्द्र प्रधान ने वर्चुअल समारोह में कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कोविड नियंत्रण के लिए मंत्र दिया जहां बीमार, वहीं उपचार, इस जम्बो कोविड केयर सेंटर के माध्यम से पीएम की परिकल्पना को साकार किया जा रहा है। मेरी प्रभु से प्रार्थना है कि यह केयर सेंटर खाली ही रहे। परन्तु हमें अपने पुराने अनुभवों को ध्यान में रखते हुए सभी प्रकार की तैयारियां करके रखनी होगी और हमें सुविधा को संभाल कर रखना है। जिससे जरुरत पड़ने पर इसका उपयोग किया जा सकें।

BSP ने जम्बो कोविड केयर सेंटर बनाया है।
BSP ने जम्बो कोविड केयर सेंटर बनाया है।

मुश्किल समय में BSP ने दी सांसें
कोविड काल में BSP की भूमिका की तारीफ करते हुए केन्द्रीय मंत्री ने कहा कि कोविड-19 की दूसरी लहर के दौरान मरीजों के इलाज में महत्वपूर्ण भूमिका अदा की है, और देश में मेडिकल ऑक्सीजन की आपूर्ति और तरल चिकित्सा ऑक्सीजन(एलएमओ) की बढ़ती मांग को पूरी करने में भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। कोविड-19 की दूसरी लहर में ऑक्सीजन की मांग में अचानक वृद्धि हुई। अप्रैल के शुरु में एलएमओ की मांग रोजाना 1300 मीट्रिक टन थी, जो बीच में मई तक बढ़कर 10 हजार मीट्रिक टन तक हो गई। कई कदम उठा कर इस बोझ को प्रबंधित किया गया और स्टील क्षेत्र ने इसमें मुख्य भूमिका निभाई।

लिक्विड मेडिकल ऑक्सीजन प्लांट स्थापित किया गया है।
लिक्विड मेडिकल ऑक्सीजन प्लांट स्थापित किया गया है।

उन्होंने बताया कि स्टील प्लांटों ने खुद को साबित किया, और अपने उत्पाद में कमी करने की कीमत पर भी देश की आवश्यकताओं को पूरा किया। 2.8 लाख मीट्रिक टन एलएमओ की आपूर्ति की गई थी।जिसमें से 2 लाख मीट्रिक टन स्टील और पेट्रोलियम क्षेत्रों द्वारा दिए गए।
स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव
मंत्री टीएस सिंहदेव ने 50 बेड वाले आईसीयू की मांग की, उन्होंने कहा कि हम भिलाई में 50 बेड वाले आईसीयू सुविधा के साथ-साथ वेंटीलेटर्स व एक्मो मशीन की भी व्यवस्था करेंगे। कोविड से निजात पाने के लिए केन्द्र सरकार व राज्य शासन के साथ सेल-बीएसपी मिलकर प्रयास कर रहे है, और आगे भी करते रहेंगे।
जंबो कोविड केयर सेंटर की मुख्य विशेषताएं
BSP ने अपने एचआरडी केंद्र के परिसर में गैसीय ऑक्सीजन आधारित 114 बेड का सेंटर रहेगा। इसके लिए प्लांट से गैसीय ऑक्सीजन की आपूर्ति के लिए 1.5 किमी लंबी पाइपलाइन बिछायी गई है।

  • इन सुविधाओं में शामिल है रिसेप्शन एरिया, डॉक्टर कक्ष, नर्सिंग स्टेशन, डोनिंग और डोफिंग रूम, दवाओं और उपभोग्य सामग्रियों के लिए स्टोर, बायो-मेडिकल वेस्ट रूम के अलावा पानी, रेफ्रिजरेटर, पेंट्री और शौचालय जैसी बुनियादी सुविधाओं के अलावा अन्य सुविधाएं।
  • प्रत्येक बिस्तर, समर्पित पाइप्ड गैसीय ऑक्सीजन आपूर्ति से सुसज्जित है जो सीधे बेडसाइड पर उपलब्ध है।
  • कोविड के हल्के से लेकर मध्यम मामलों के इलाज के लिए प्रोटोकॉल के अनुसार उपचार किया जाएगा, जिसमें भर्ती की आवश्यकता होती है।
  • मरीजों के लिए बुनियादी फर्नीचर जैसे सेमी-फाउलर बेड, गद्दे, कंबल, रोगी लॉकर, व्हील चेयर, मरीजों के परिवहन के लिए ऑक्सीजनयुक्त स्ट्रेचर और अन्य सामान उपलब्ध कराए जा रहे हैं।
  • सेमी-फाउलर बिस्तरों की व्यवस्था की गई है जो 30 डिग्री की ऊंचाई पर शरीर की स्थिति की अवस्थित कर सिर रखने की सुविधा प्रदान करती हैं। फेफड़ों के विस्तार को बढ़ावा देने में यह स्थिति उपयोगी है।
  • आपात स्थिति में केंद्र में डबल ऑक्सीजन बैकअप आपूर्ति की सुविधा है। मुख्य स्रोत के रूप में गैसीय ऑक्सीजन के अलावा, संग्रहीत लिक्विड मेडिकल ऑक्सीजन एवं वेपोराइजर और ऑक्सीजन सिलेंडर मैनिफोल्ड के बैकअप का भी प्रावधान है।
  • मरीजों के वार्ड तक पहुँचने के लिए व्हील चेयर/स्ट्रेचर पर पहली मंजिल तक पहुँचने के लिए परिवहन की सुविधा के लिए रैंप का भी निर्माण किया गया है।
  • यह केन्द्र सभी आवश्यक अग्नि सुरक्षा उपायों से पूरी तरह सुसज्जित है, जिसमें विभिन्न स्थानों पर फायर हाइड्रेंट एवं फायर एक्सटींग्यूसर की व्यवस्था की गई है। इसके अतिरिक्त इस कोविड केयर सेंटर के ठीक बगल में, फायर ब्रिगेड स्थित है।
  • आईटी आवश्यकताओं और दूरस्थ परामर्श की सुविधा के लिए इस केन्द्र को आवश्यक इंटरनेट और दूरसंचार सेवाओं से भी सुसज्जित किया गया है।
  • आपातकालीन प्रबंधन के लिए बाई लेवल पाॅजीटिव एयर-वे प्रेषर (बयी-पैप) मशीनें और आपातकालीन दवाएं तब तक उपलब्ध कराई जाएंगी,जब तक कि रोगी को उन्नत कोविड देखभाल के लिए एक उच्च केंद्र में रेफर करने की व्यवस्था नहीं की जाती है।
  • स्थापित मानदंडों के अनुसार बायो मेडिकल वेस्ट निपटान की भी व्यवस्था की गई है।
  • बिना रुकें बिजली आपूर्ति सुनिश्चित करने के लिए अतिरिक्त व्यवस्था की गई है।
BSP में वर्चुअल कोविड केयर सेंटर का उद्धघाटन किया गया,जिसमें केन्द्रीय मंत्री व अन्य मंत्रियों के साथ सेल चेयरमैन शामिल हुई।
BSP में वर्चुअल कोविड केयर सेंटर का उद्धघाटन किया गया,जिसमें केन्द्रीय मंत्री व अन्य मंत्रियों के साथ सेल चेयरमैन शामिल हुई।
खबरें और भी हैं...