अब मौसमी बीमारी का कहर:दुर्ग में हर रोज OPD पहुंचने वाले मरीजों की संख्या 600 के पार पहुंची; सर्दी, खांसी और बुखार वालों को कोरोना जांच की सलाह

भिलाई8 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

छत्तीसगढ़ के दुर्ग जिले में बढ़ते कोरोना संक्रमण के बीच रोजाना OPD में उपचार के लिए पहुंचने वाले मरीजों की संख्या 600 के पार गई है। इसके पीछे वजह मौसम में आए दिन होने वाले बदलाव को बताया जा रहा है। विभाग द्वारा एहतियात के तौर पर ऐसे मरीज जिन्हें सर्दी, खांसी के अलावा बुखार है, उन्हें कोरोना जांच भी करवाने कहा जा रहा है।

मौसम के बदलाव का स्वास्थ्य पर असर
दरअसल, पिछले कुछ दिनों से मौसम में निरंतर उतार-चढ़ाव देखने को मिल रहा है। सुबह तेज धूप निकल रही है। वहीं दोपहर और शाम के समय आसमान पर बादल छा रहे हैं। पिछले शनिवार और रविवार को कहीं-कहीं हल्की बूंदा-बांदी भी हुई थी। चार दिन पहले जिले में दिन का अधिकतम तापमान 41 डिग्री से ऊपर पहुंच गया था। वो इन दिनों 39 डिग्री सेल्सियस से नीचे है। मौसम में रोजाना होने वाले बदलाव का असर लोगों के स्वास्थ्य पर देखने को मिल रहा है। लोग सर्दी-खांसी व बुखार व पीड़ित हो रहे हैं।

जिला अस्पताल दुर्ग के सिविल सर्जन पी. बालकिशोर ने बताया कि मौसम में बदलाव के बाद उपचार के लिए OPD में पहुंचने वाले मरीजों की संख्या बढ़कर 600 तक पहुंच गई है। इसके पहले करीब 400 के आसपास मरीज आ रहे थे। ज्यादातर मरीज सर्दी-खांसी से पीड़ित हैं। लेकिन इनमें से कुछ लोगों को सर्दी-खांसी के साथ बुखार भी आ रहा है। कोरोना संक्रमण की वर्तमान स्थिति को देखते हुए ऐसे सर्दी-खांसी व बुखार से पीड़ित मरीजों को कोरोना जांच कराने की सलाह दी जा रही है।

इसलिए भी अस्पताल पहुंच रहे लोग

जिला प्रशासन द्वारा बिना डाक्टरी पर्ची मेडिकल स्टोर्स से सर्दी-खांसी की दवा देने पर रोक लगा दी गई है। इस कारण भी कई लोग इलाज के लिए जिला अस्पताल पहुंच रहे हैं। उधर, मंगलवार को दुर्ग का अधिकतम तापमान 40 और न्यूनतम तापमान 26 डिग्री सेल्सियस रिकार्ड किया गया। मौसम विभाग से प्राप्त जानकारी के अनुसार आगे भी दो दिन तक मौसम में उतार-चढ़ाव बना रहेगा। आसमान पर बादल छाने के साथ ही कहीं-कहीं गरज-चमक के साथ हल्की बारिश भी हो सकती है।