• Hindi News
  • Local
  • Chhattisgarh
  • Bhilai
  • New Decision, Now The Professor In The College Will Not Be Able To Teach With The Guide And Key... Students Are Also Prohibited From Bringing It To The College

वर्ष 2022-23 के लिए नियम:नया निर्णय, अब कॉलेज में प्राध्यापक गाइड और कुंजी से नहीं पढ़ा सकेंगे... स्टूडेंट्स का भी कॉलेज में इसे लाना प्रतिबंधित

भिलाई2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • समन्वय समिति की बैठक में लिया गया फैसला, पदों पर नियुक्ति में बजट का अड़ंगा, अनुदान भी रहेगा नए सत्र में कम

कुलपतियों को भी अब विश्वविद्यालयों से बाहर निकलना होगा। किसी भी शासकीय या निजी महाविद्यालय का औचक निरीक्षण करना होगा, ताकि वहां अनुशासन और शैक्षणिक गतिविधियों की सही जानकारी मिल सके। अभी तक कुलपति सिर्फ विवि परिसर तक सीमित रहते थे। कोई कार्यक्रम होने पर ही किसी शासकीय या निजी कॉलेज में बतौर अतिथि जाते थे। इतना ही नहीं नए सत्र वर्ष 2022-23 से विश्वविद्यालयों और महाविद्यालयों में कुंजी या गाइड पर बैन रहेगा। इसके स्थान पर विद्यार्थियों को पाठ्य पुस्तक पढ़ना होगा।

लाइब्रेरी में समय बिताना होगा। समन्वय समिति की बुधवार को राजभवन में हुई बैठक में कुलपतियों को इसे लेकर निर्देश जारी किए गए। बैठक की अध्यक्षता कुलाधिपति और राज्यपाल अनुसुइया उइके ने की। उन्होंने कहा कि महाविद्यालय में वर्तमान समय की मांग को देखते हुए ई-लर्निंग और ई-क्लासेस पर ध्यान दें। विश्वविद्यालयों ने जिन गांवों को गोद लिया है, वहां शैक्षणिक वातावरण बनाने के साथ उसके सर्वांगीण विकास पर भी ध्यान दें। बैठक में मुख्यमंत्री के प्रतिनिधि के रूप में स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव, उच्च शिक्षा मंत्री उमेश पटेल, कुलपति डॉ. केसरीलाल वर्मा, डॉ. अरुणा पल्टा, डॉ. एसके सिंह, डॉ. एडीएन वाजपेयी सहित अन्य मौजूद थे।

निजी कॉलेज की होगी जांच : कुलपति निजी व सरकारी कॉेलजों का करेंगे नियमित दौरा

मेरिट के अनुसार होगी निजी कॉलेजों में भर्ती, डीयू की कुलपति ने रखा इसका प्रस्ताव
हेमचंद यादव विश्वविद्यालय की कुलपति डॉ. पल्टा ने निजी महाविद्यालयों में प्राध्यापकों की नियुक्ति संबंधी परिनियम -28 के संबंध में प्रस्ताव दिया। इसमें आरक्षण रोस्टर के पालन करने या नहीं करने का प्रस्ताव रखा गया। इस पर बताया गया कि शासकीय महाविद्यालयों में पीएससी से नियुक्ति की जाती है। निजी महाविद्यालयों के लिए विश्वविद्यालयों का अपना नियम है।

मेरिट के अनुसार होगी निजी कॉलेजों में भर्ती, डीयू की कुलपति ने रखा इसका प्रस्ताव
हेमचंद यादव विश्वविद्यालय की कुलपति डॉ. पल्टा ने निजी महाविद्यालयों में प्राध्यापकों की नियुक्ति संबंधी परिनियम -28 के संबंध में प्रस्ताव दिया। इसमें आरक्षण रोस्टर के पालन करने या नहीं करने का प्रस्ताव रखा गया। इस पर बताया गया कि शासकीय महाविद्यालयों में पीएससी से नियुक्ति की जाती है। निजी महाविद्यालयों के लिए विश्वविद्यालयों का अपना नियम है।

40 शासकीय महाविद्यालय नैक मूल्यांकन के लिए तैयार, जल्द दिल्ली से आएगी टीम
बैठक में बताया गया कि हेमचंद विवि से संबद्ध 40 शासकीय महाविद्यालय नैक मूल्यांकन के लिए तैयार हैं। वहां इसकी तैयारी चल रही है। इसके अलावा निजी महाविद्यालयों को भी इसके लिए तैयार किया जा रहा है। इसके लिए उनका मार्गदर्शन भी किया जा रहा है। प्रशिक्षण कार्यक्रम भी आयोजित किए जा रहे हैं। इसके सभी प्रमुख बिंदुओं पर तैयारी कराई जा रही है। जल्द दिल्ली से टीम आएगी।

खबरें और भी हैं...