• Hindi News
  • Local
  • Chhattisgarh
  • Bhilai
  • Now The Corporation Will Run A Campaign To Bring The Lamps Made Of Cow Dung From Door To Door, Stalls Will Be Set Up Every Day In All The Zone Offices

नया प्रयोग:गोबर से बने दीयों को घर-घर तक पहुंचाने अब निगम चलाएगा अभियान, सभी जोन कार्यालयों में हर दिन लगाए जाएंगेे स्टॉल

भिलाईएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • जोन-1 नेहरूनगर में 18 हजार से ज्यादा दीये बनकर तैयार, नगर निगम भिलाई बेचेगा दिवाली के दीयेे

इस दीपावली पर घरों को गोबर से बने दीयों से रोशन करने महिला समूहों ने सवा लाख दीयों का निर्माण किया है। गोधन से निर्मित इन उत्पादों को जनजन तक पहुंचाने निगम ने सूर्या मॉल समेत निगम क्षेत्र के सभी जोन में स्टॉल खोल दिए हैं। इस स्टॉलों पर लोगों को दीयों के अलावा घरों को सजाने के लिए सीनरी, श्रीलक्ष्मी गणेश की प्रतिमा व ग्वालिन उपलब्ध होगी।

जोन 1 नेहरू नगर में 18 हजार दीये तैयार भी किए जा चुके हैं। जोन 3 मदर टेरेसा नगर में 4 हजार दीयों का निर्माण किया गया है। जोन 4 शिवाजी नगर में 30 हजार दीये और पूजा के लिए मूर्तियां बनाई गई हैं। स्टाॅल में गोबर से बने चटक रंगों के दीये और मूर्तियां स्टाॅल का आकर्षण बनी हुई है। दीया पूर्ण रूप से ईको फ्रेंडली है। एक बार इसका उपयोग करने के पश्चात खाद के रूप में भी प्रयुक्त किया जा सकता है। सभी जगहों पर स्टॉल शुरू हो गई है। लोगों का भी अच्छा रिस्पॉंस मिल रहा है। ऐसे में उम्मीद है कि समूहों द्वार तय किए टारगेट को पूरा कर लिया जाएगा। 1 लाख से ज्यादा दीए बेचने का टारगेट रखा गया है। इसे लेकर तैयारी शुरू कर दी गई है। आयुक्त प्रकाश सर्वे ने सभी जोन के प्रमुख अधिकारियों को इसे लेकर आदेश भी जारी कर दिया है। गौशाला में तैयार किए गए दीयों को काउंटर लगाकर बेचने की तैयारी है।

भिलाई निगम के सभी जोन कार्यालयों में लगेंगे स्टॉल
जोन कार्यालयों में स्टॉल लगाया जाएगा। महिलाओं को प्रेरित किया जाएगा। आजीविका मिशन की महिला समूहों द्वारा गोबर से बने उत्पादों के विक्रय के लिए मुख्य कार्यालय, भिलाई के सूर्या माॅल, जोन 2 निगम कार्यालय एवं हाउसिंग बोर्ड पौनी पसारी, जोन 3 निगम कार्यालय, जोन 4 पावर हाउस बस स्टैण्ड एवं आईटीआई के पीछे गोधन न्याय योजना केंद्र, जोन 5 सेक्टर 6 ए-मार्केट एवं सेक्टर 6 में स्टॉल लगेंगे।

चटक रंगों से बने दीयों को सभी जगह मिल रहा रिस्पॉन्स, 1 लाख से ज्यादा दीये बेचने का लक्ष्य
सूर्या माॅल में शॉपिंग करने आई यामिन साहू की नजर स्टाॅल पर पड़ी तो चटक रंगों से निर्मित दीये को खरीदने उत्साहित हो गई उन्होंने बताया कि चाइनीज झालरों से अच्छा है कि प्राकृतिक रूप से बने दीये के उपयोग से घर को रोशन करेंगे। इससे हम पारंपरिक त्योहार में प्रकृति से जुड़ते है। खुर्सीपार के दिनेश ने गोधन केन्द्र से दीया खरीदते हुए बताया कि गोबर से निर्मित दीये व अन्य वस्तुएं उन्होंने त्योहार में सजाने के लिए खरीदा है। यह पूर्ण रूप से ईको फ्रेंडली है एक बार इसका उपयोग करने के पश्चात खाद के रूप में भी प्रयुक्त किया जा सकता है। इससे पर्यावरण भी सुरक्षित रहेगा।

खबरें और भी हैं...