पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

डिजिटल धोखाधड़ी:बंद फेसबुक अकाउंट को हैक व क्लोन करके भी हो रही ऑनलाइन ठगी

भिलाई9 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • 3 महीनों के अंदर 35 से अधिक शिकायतें सायबर सेल तक पहुंची, 18 शिकायतें समय पर मिलने के कारण सायबर सेल ने शिकायतकर्ताओं को बचाया

पर्सनल इंफर्मेशन के जरिए ऑनलाइन जेब कतरे डिएक्टिव फेसबुक अकाउंट को हैक व क्लोन करके ठगी कर रहे है। तीन महीने में सायबर सेल के पास करीब 35 एसी शिकायतें आई हैं। इनमें करीब 18 शिकायतें समय पर मिलने के कारण सायबर सेल ने ठगी होने से पहले शिकायतकर्ताओं को बचा लिया। जानकारी सही समय पर मिलने की वजह से सायबर सेल ने खाता ब्लॉक करवा दिया। इससे पैसा ठगों तक नहीं पहुंच पाया। पुलिस के मुताबिक ठग ऐसे फेसबुक अकाउंट होल्डर को निशाना बनाते हैं, जिन्होंने करीब चार साल पहले आईडी बनाया और फिर उसमें पोस्ट नहीं करते हैं।

पर्सनल इंफार्मेशन से हो रही ठगी : सायबर एक्सपर्ट के मुताबिक फेसबुक आईडी क्रिएट करते समय ज्यादातर यूजर्स अपनी पर्सनल इंफर्मेशन शेयर कर देते हैं। निजी जानकारी में डेट ऑफ बर्थ,मोबाइल नंबर,परिवार के सदस्यों का नाम शेयर करते हैं। कुछ यूजर्स पर्सनल इंफार्मेशन को ही पासवर्ड बना लेते है। ठग निजी जानकारी के जरिए फेसबुक पेज का क्लोन बना लेते है। कई बार ठग फेसबुक आईडी हैक कर लेते है। जिसके कारण ठगी करना बदमाशों के लिए आसान हो जाता है। लोग झांसे भी आसानी से जाते हैं। 

बीमारी और दुर्घटना का बहाना बनकर मांगते है पैसे :  बदमाश शिकायतकर्ताओं के फ्रेंड्स  को बीमारी या सड़क हादसे का बहाना बनाकर खाते में पैसे जमा करवा लेते है। पैसे अगर यूपीआई के माध्यम से ट्रांसफर होते हैं तो वापस कराना मुश्किल हो जाता है। अगल पैसे बैंक खातों में जमा होते है और समय पर सायबर सेल को सूचना मिल जाती है तो पैसा मिलने की संभावनाएं रहती है। ठगी करने के पहले बदमाश फेसबुक पर फ्रेंड रिक्वेस्ट भेजते है। परिचित होने की वजह से दोबारा रिक्वेस्ट एक्ससेप्ट कर लेते हैं।

टू वे ऑथेंटिकेशन से ठगी से बच सकते हैं :  वाट्सएप, फेसबुक, ट्विटर या इंस्टाग्राम जैसे सोशल मीडिया प्लेटफार्म का उपयोग लगातार बढ़ रहा है। कुछ लोग ऐसे सोशल मीडिया साइड पर लगातार सक्रिय रहते हैं। इनके इस्तेमाल के दौरान सावधानी बरतने से ठगी से बचा जा सकता है। टू वे ऑथेंटिकेशन चालू रखने से ठगी होने की संभावनाएं कम रहती है। ऑथेंटिकेशन चालू रखने से मेल और मैसेज पर जानकारी मिल जाती है। इसके साथ प्रोफाइल फोटो को भी लॉक करके रखना चाहिए।

हमें हर वक्त जागरूक रहने की है जरूरत...
"सोशल मीडिया के माध्यम से ठगी के मामले लगातार बढ़ रहे हैं। हमें इसे लेकर अलर्ट रहने की जरूरत है। सोशल मीडिया का उपयोग पूरी सावधानी से करें। जहां किसी पर संदेह हो, तत्काल इसकी सूचना सायबर सेल को दें। किसी अंजान से बात करने से बचें। संदिग्धों की जानकारी दें, ताकि समय रहते ऐसे लोगों को पकड़ा जा सके।"
-गौरव तिवारी, टीआई सायबर सेल दुर्ग

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- व्यक्तिगत तथा पारिवारिक गतिविधियों में आपकी व्यस्तता बनी रहेगी। किसी प्रिय व्यक्ति की मदद से आपका कोई रुका हुआ काम भी बन सकता है। बच्चों की शिक्षा व कैरियर से संबंधित महत्वपूर्ण कार्य भी संपन...

    और पढ़ें