नवजात ने जीती कोरोना से जंग:डेढ़ महीने का बच्चा 15 दिन SNCU में भर्ती रहा, जन्म के 29 दिन बाद मां और बेटे की रिपोर्ट आई थी पॉजिटिव

दुर्ग6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
दुर्ग जिला अस्पताल में नवजात बच्चे ने कोरोना से जंग जीत ली है। 15 दिनों तक बच्चे को ऑक्सीजन सपोर्ट पर रखा गया था। - Dainik Bhaskar
दुर्ग जिला अस्पताल में नवजात बच्चे ने कोरोना से जंग जीत ली है। 15 दिनों तक बच्चे को ऑक्सीजन सपोर्ट पर रखा गया था।

छत्तीसगढ़ के दुर्ग जिले में प्रिमैच्योर बच्चे ने कोरोना से जंग जीत ली है। 15 दिन तक ऑक्सीजन सपोर्ट पर भर्ती रहने के बाद उसकी रिपोर्ट निगेटिव आई है। दरअसल, जब वह 29 दिन का था, तो उसे सर्दी व बुखार हुआ, उसके बाद कोरोना टेस्ट कराया गया, तो रिपोर्ट पॉजिटिव आने पर अस्पताल में ही भर्ती किया गया था।

मां-बच्चा दोनों हुए थे कोरोना संक्रमित
दुर्ग जिला अस्पताल के स्पेशल न्यूबॉर्न केयर यूनिट (SNCU) में एक नवजात बच्चे को 15 दिन ऑक्सीजन सपोर्ट में रखकर पूरी तरह ठीक कर लिया गया है। यह बच्चा प्रिमैच्योर हुआ था। और जब 29 दिन का था, तब इसे सर्दी बुखार की समस्या हुई थी। फिर मां और बच्चे दोनों का टेस्ट कराया गया। दोनों की रिपोर्ट पॉजिटिव आयी, मां को होम आइसोलेशन में भेज दिया गया। बच्चे को SNCU में भेजा गया। बच्चे के लिए एक बेड अलग से आइसोलेट किया गया। बच्चे को ऑक्सीजन सपोर्ट दिया गया। जब बच्चे की मां निगेटिव आयी, तो उसे सौप दिया गया। इसके बाद मां का दूध पीने से बच्चा पूरी तरह स्वस्थ हो गया है। अब डिस्चार्ज कर दिया गया है।

नवजात बच्चों पर भी कोरोना का संक्रमण
SNCU इंचार्ज एवं शिशु रोग विशेषज्ञ डा आर के मल्होत्रा ने बताया कि मार्च व अप्रैल में 15 कोरोना पॉजिटिव महिलाओं व उनके बच्चों का इलाज किया गया है। जन्म के समय यदि बच्चे की मां कोरोना पॉजिटिव है, तो बच्चे की भी कोरोना जांच करवायी जाती है। मां व घर के सभी सदस्यों को मास्क लगाने व कोरोना से बचने के सभी नियमों का पालन करने की सलाह दी जाती है। इस समय शिशु रोग OPD में कुछ बच्चे कोरोना पॉजिटिव मिल रहे है। जिन्हें समान्य सर्दी-खांसी, बुखार, कमजोरी, सुस्ती की शिकायत होती है। इन बच्चों को घर पर रहने, समय पर दवा देने, अधिक तरल पदार्थ लेने व बिमारी के गंभीर लक्षण की पहचान की जानकारी के साथ इलाज किया जा रहा है।

खबरें और भी हैं...