शराब दुकान को लेकर सियासी जंग:वार्ड-44 से हटी तो कांग्रेस-BJP ने खेली होली, 41 में शिफ्ट हुई तो बनी मुसीबत; सड़क पर जमकर हंगामा

भिलाई7 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

भिलाई नगर विधायक देवेंद्र यादव के कहने पर वार्ड 44 लक्ष्मी नारायण वार्ड से वार्ड 41 में शराब की दुकानें शिफ्ट करना प्रशासन के लिए सिरदर्द बन गया है। शराब दुकान हटने से एक तरफ जहां वार्ड 44 में कांग्रेस और भाजपा दोनों दलों के उम्मीदवारों ने गुलाल की होली खेली, मिठाई बांटी तो वहीं वार्ड 41 में शिफ्ट होने से जमकर विरोध हुआ। सैकड़ों की संख्या में वार्ड 41 के निवासियों ने ट्रांसपोर्ट नगर में हंगामा किया और कई घंटे तक शासन प्रशासन के खिलाफ नारेबाजी की। समझाने के बाद भी जब लोग चौक से नहीं हटे तो पुलिस प्रशासन ने मंगलवार सुबह शराब दुकानों को दूसरी जगह शिफ्ट करने का आश्वासन दिया। इसके बाद लोग शांत होकर अपने-अपने घर लौटे।

सोमवार को जिला प्रशासन के निर्देश वार्ड 44 लक्ष्मी नारायण वार्ड से शराब भट्ठी को हटाकर ट्रांसपोर्ट नगर वार्ड नंबर 41 औद्योगिक नगर में शिफ्ट किया गया। प्रशासन ने अंग्रेजी और देशी शराब दुकानों को छावनी शासकीय स्कूल से महज 100 मीटर की दूरी पर बीरा ट्रांसपोर्ट चौक के पास रखा। जब लोगों को इसकी जानकारी हुई तो उन्होंने इसका विरोध किया। लोगों का कहना है कि यहां पहले से ही कुछ दूर पर शराब की दुकान है। दो और दुकान खुल जाने से लोगों का जीना दूभर हो जाएगा।

लोग शराब के नशे में गाड़ियों की नीचे आ जाएंगे। देखते ही देखते वहां सैकड़ों की संख्या में महिलाएं और मोहल्ले के लोग इकट्ठा हो गए। उन्होंने शराब भट्ठी को हटाने के विरोध में ट्रांसपोर्ट नगर में चक्का जाम कर दिया। कई घंटे तक लोगों ने जाम लगाकर शासन प्रशासन के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। इसके बाद छावनी सीएसपी केडी पटेल, खुर्सीपार टीआई दुर्गेश शर्मा, भिलाई तीन टीआई विनय सिंह बघेल मौके पर पहुंचे। उन्होंने लोगों को समझाकर जाम खुलवाया और आश्वासन दिया कि वह मंगलवार को यहां से शराब दुकान को दूसरी जगह शिफ्ट करेंगे।

निर्दलीय प्रत्याशी ने मुद्दे को भुनाया
एक तरफ जहां वार्ड 44 में शराब दुकान हटाने के मुद्दे को कांग्रेस और भाजपा दोनों के उम्मीदवार भुना रहे हैं वहीं वार्ड 41 में विरोध को देखते हुए यहां से निर्दलीय प्रत्याशी संदीप शर्मा लोगों के साथ खड़े हो गए हैं। संदीप का कहना है कि सबसे व्यस्त चौक के पास दो दो शराब दुकान खोलकर प्रशासन यहां के लोगों को मौत के मुंह में ढकेल रहा है। वह किसी भी कीमत में यहां शराब भट्ठी नहीं खुलने देंगे। संदीप का कहना है कि यदि मंगलवार को शराब दुकान को यहां से नहीं हटाया गया तो वह लोगों के साथ खड़े होकर आरपार की लड़ाई लड़ेगे।

एक तरफ खुशी लेने का श्रेय तो दूसरी तरफ मुसीबत
वार्ड 44 लक्ष्मी नारायण वार्ड इस समय कांग्रेस और भाजपा दोनों ही पार्टियों के लिए स्वाभिमान का वार्ड बन गया है। इस वार्ड से एक ओर जहां भाजपा प्रत्याशी दया सिंह खड़े हैं तो वहीं दूसरी तरफ कांग्रेस से मानवेंद्र सिंह उर्फ मंडल को प्रत्याशी बनाया गया है। मानवेंद्र चुनाव से पहले भाजपा युवा मंडल के अध्यक्ष और बीजेपी के सक्रिय कार्यकर्ता थे। मानवेंद्र को बीजेपी ने टिकट देने से मना किया तो विधायक देवेंद्र यादव ने उसे कांग्रेस से टिकट दिलाया। इसलिए देवेंद्र यादव किसी भी कीमत में मानवेंद्र की जीत चाहते हैं।

इस वार्ड की शराब भट्ठी हटाने की पुरानी मांग को देवेंद्र यादव ने पूरा किया और सोमवार सुबह खुद खड़े होकर उसे हटवाया। इधर दया सिंह ने जिला प्रशासन का धन्यवाद देते हुए कहा कि उनकी मांग पूरी की गई। दोनों ही नेताओं ने लोगों के बीच मिठाई गुलाल होली खेली और शराब दुकान हटने की खुशी में मिठाइयां बांटी थी। लेकिन इसी भट्ठी को शिफ्ट करने का जब वार्ड 41 औद्योगिक नगर के लोगों ने विरोध कर दिया तो यह दोनों ही पार्टियों के लिए मुसीबत बन गया है।

खबरें और भी हैं...