अच्छी पहल:पीएचडी करने वालों की लगेगी ऑनलाइन क्लास, इसमें कुलपति और एक्सपर्ट्स बताएंगे रिसर्च मेथेडोलॉजी के साथ अन्य बारीकियां

भिलाई9 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • कोर्स वर्क की तैयारी के लिए हेमचंद यादव विश्वविद्यालय ने ऑनलाइन क्लासेस करने का निर्णय लिया

लॉकडाउन अवधि का सदुपयोग करने के लिए हेमचंद यादव विश्वविद्यालय की ओर से 21 से 30 अप्रैल तक पीएचडी करने वाले शोधार्थी छात्र-छात्राओं के लिए ऑनलाइन क्लासेस लगाई जाएगी। इसके पहले दिन 21 अप्रैल को कुलपति डॉ. अरुणा पल्टा और साइंस कॉलेज दुर्ग की डॉ. सुचित्रा शर्मा रिसर्च मेथेडोलॉजी की क्लास लेंगे। इसके अलावा बाद के दिनों में लगातार रविवि, आयुष विवि, डीबी गर्ल्स कॉलेज, सिमगा कॉलेज के प्राध्यापक शोध से जुड़े अन्य पहलुओं की जानकारी देंगे। इससे शोधार्थी छात्रों को सहुलियत मिलने की उम्मीद की जा रही है।

हर दिन दोपहर 3 से शाम 5 बजे तक चलेगी क्लास
कुलसचिव डॉ. सीएल देवांगन ने बताया कि दस दिनी यह ऑनलाइन क्लास दोपहर 3 से शाम 5 बजे तक लगेगी। सत्र 2020-21 की पीएचडी प्रवेश परीक्षा उत्तीर्ण नए शोधार्थी तथा नेट, सेट परीक्षा उत्तीर्ण या महाविद्यालयों के नियमित शिक्षक जिन्हें पीएचडी परीक्षा से छूट प्राप्त थी, कक्षाओं का लाभ उठा सकेंगे। इस विद्यार्थी लॉकडाउन के समय का सदुपयोग कर सकेंगे। उन्हें पीएचडी कोर्स वर्क को पाठ्यक्रम को पूरा करने में मदद मिलेगी। इसमें करीब एक हजार शोधार्थियों के शामिल होने की संभावना है।

कक्षाओं में शोधार्थियों को दिए जाएंगे जरूरी टिप्स
डीएसडब्ल्यू डॉ. प्रशांत श्रीवास्तव ने बताया कि पहले दिन कुलपति डॉ. अरुणा पल्टा और साइंस कॉलेज की डॉ. सुचित्रा शर्मा रिसर्च मेथेडोलॉजी पर जानकारी देंगी। 22 एवं 23 को डीबी गर्ल्स कालेज, रायपुर की डाॅ. उषा किरण अग्रवाल दर्शन शास्त्र, नैतिकता, वैज्ञानिक संहिता के बारे में बताएंगी। 24 एवं 25 को दुराचरण तथा साफ्टवेयर उपकरणों के उपयोग के बारे में सिमगा महाविद्यालय की डाॅ. प्रीता लाल की जानकारी देंगी। 26 एवं 27 को आयुष विवि के डाॅ. इम्तियाज अहमद अन्य के बारे में बताएंगे।

ओपन एक्सेस पब्लिशिंग व शोध के बारे में भी जानेंगे
ऑनलाइन क्लास के क्रम में 28 एवं 29 को रविवि के ग्रंथालय विज्ञान विभाग के अध्यक्ष डाॅ. सुपर्ण सेनगुप्ता ओपन एक्सेस पब्लिशिंग तथा शोध पत्रिका की जानकारी प्रदान करेंगे। इसके आखिरी दिन 30 को डीयू के डीएसडब्ल्यू डाॅ. प्रशांत श्रीवास्तव शोध पत्र प्रकाशन संबंधी नैतिकता पर अपनी बातें रखेंगे। इसी दिन ऑनलाइन क्लास का समापन होगा। ऑनलाइन कक्षाओं में उन्हीं विषयों को शामिल किया गया है, जिन्हें यूजीसी ने पीएचडी शोधार्थियों के कोर्स वर्क के लिए अनिवार्य किया है।

यूजी और पीजी कक्षा के के लिए ऑनलाइन क्लास
उच्च शिक्षा के निर्देश पर अंडर ग्रेजुएशन और पोस्ट ग्रेजुएशन के विद्यार्थियों को परीक्षा की तैयारी के लिए पढ़ाया जा रहा है। उन्हें रिवीजन कराया जा रहा है और पांच साल पुराने प्रश्न पत्र भी हल कराए जा रहे हैं। साथ ही संभाग के दुर्ग, बेमेतरा, बालोद, कवर्धा, राजनांदगांव समेत नारायणपुर और कांकेर के महाविद्यालयों के विद्यार्थियों को ऑनलाइन पढ़ाया जा रहा है। उनके डाउट्स क्लियर किए जा रहे हैं। इस बार छात्र शंका समाधान के लिए क्लास के दौरान ही प्रोफेसरों को फोन कर सकें ऐसी व्यवस्था की गई है।

खबरें और भी हैं...