पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Chhattisgarh
  • Bhilai
  • Posted In Social Media As Soon As He Was Released From Jail, This Back Police Sent Him Behind Bars As Soon As The Police Got The News.

इनाम देगी सरकार:जेल से रिहा होते ही सोशल मीडिया में पोस्ट किया मथुरा इस बैक पुलिस को जैसे ही इसकी खबर मिली, उसे सलाखों के पीछे भेजा

भिलाई18 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • पुलिस विभाग ने तय किया ऐसे निगरानीशुदा व वारंटियों को पकड़ने पर जवानों को इनाम मिलेगा

पुलिस ने वारंटियों और निगरानीशुदा अपराधियों की धरपकड़ शुरू कर दी है। वजह लॉकडाउन के दौरान जिले में चोरी और लूट की घटनाओं में तेजी से बढ़ोत्तरी को बताया गया है। ऐसे अपराधियों को पकड़ने पर पुलिस विभाग संबंधित थाना पुलिस को इनाम देगा। इसके बाद से अभियान तेजी से शुरू कर दिया गया है।

इन सबके बीच पुलिस के हाथों एक ऐसा निगरानीशुदा गिरफ्तार किया गया, जिसने सोशल मीडिया में जेल से बाहर आते ही पोस्ट किया कि मथुरा इस बैक। पोस्ट के बाद पुलिस ने संतोष उर्फ मथुरा शर्मा निवासी खुर्सीपार को पकड़ा। उसे जेल भेज दिया गया है। दो महीने पहले ही बदमाश 7 साल की सजा काट कर जेल से छूटा था। खबर है कि उसने जेल में ही मिले अपराधियों की जानकारी जुटाई और नई गैंग बनाई। इधर पुलिस अन्य वारंटियों की तलाश जारी है। अन्य थानों में भी शुरुआत हो चुकी है।

वारंटी पकड़ो और इनाम ले जाओ, आदेश दिया है
एएसपी संजय ध्रुव ने बताया कि पुलिस विभाग तय किया है वारंट तमिल करने वाले जवानों को इनाम दिया जाएगा। इसके लिए तीन अलग अलग श्रेणी बनाई गई है। 1 से 3 साल तक, 3 से 5 और 5 से अधिक साल से फरार वारंटी को पकड़ने पर इनाम दिए जाएंगे। इनाम की राशि 500 से 5 हजार के बीच होगी। थाना प्रभारियों के प्रतिवेदन पर एसपी से इनाम मिलेगा।

दो थानों की पुलिस ने की कॉम्बिंग गश्त की शुरुआत
खुर्सीपार और छावनी पुलिस ने दो दिनों तक लगातार कॉम्बिंग गश्त की। बाइक से पेट्रोलिंग की। इस दौरान करीब 100 पुलिस कर्मी निगरानीशुदा बदमाशों व वारंटियों की तलाश करते रहे। पुलिस ने घर और सड़कों और आवारा घूमने वाले 50 अपराधियों को पकड़ा। वारंटियों को जेल भेजा। इस दौरान ही खुर्सीपार का मथुरा भी पुलिस के हत्थे चढ़ा।

30 दिनों में 70 चोरियां, 35 सूने मकाने निशाने पर
जिले में पिछले दो महीने में चोरी की घटनाएं तेजी से बढ़ी हैं। 21 थाना क्षेत्रों में 70 मामले दर्ज किए गए हैं। इनमें से 35 मामले ऐसे हैं, जिनमें चोरों ने सूने मकानों को निशाना बनाया। लगातार चोरी की बढ़ती घटनाओं को देखते हुए ही पुलिस ने कॉम्बिंग गश्त शुरू की है। हर थाना क्षेत्र में इस प्रकार की गश्त किया जाना तय किया गया है। ताकि चोरी की घटनाएं रुके।

खबरें और भी हैं...