• Hindi News
  • Local
  • Chhattisgarh
  • Bhilai
  • Preparation For 3% Increase In Electricity Tariff Of Township Regulatory Commission Has Called For Objections, There Will Be Public Hearing

बीएसपी:टाउनशिप के बिजली टैरिफ में 3% बढ़ोत्तरी की तैयारी नियामक आयोग ने मंगवाई आपत्तियां, होगी जनसुनवाई

भिलाई2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

बीएसपी प्रबंधन ने टाउनशिप की बिजली टैरिफ में 3% के वृद्धि के प्रस्ताव पर नियामक आयोग ने दावा आपत्ति मंगवाई है। प्रबंधन का मानना है कि कब्जेधारियों की वजह से बिजली खर्च का लोड बढ़ रहा है, जिसे वह नियमित उपभोक्ताओं से वसूलने का प्रयास कर रहा है। इधर बीते चार वर्षों से बिजली टैरिफ में वृद्धि नहीं की गई है। हर साल उसने टैरिफ में बढ़ोतरी के लिए नियामक आयोग को प्रस्ताव भेजा। पहले 3 वर्ष उपभोक्ताओं के विरोध के कारण आयोग ने मंजूरी नहीं दी। अब पुन: तैयारी है।

जनसुनवाई की जगह को लेकर स्थिति स्पष्ट नहीं
जनसुनवाई की प्रक्रिया को लेकर आयोग ने स्थिति स्पष्ट नहीं है। अब तक जितनी भी जनसुनवाई हुई है वह बीएसपी के टाउनशिप में ही हुई है। इस बार स्थिति भिन्न है। कोरोना गाइडलाइन की वजह से अभी भी निर्धारित से अधिक संख्या में लोगों के एकसाथ जमा होने पर अभी भी प्रतिबंध लगा हुआ है। इस बार जनसुनवाई नियामक आयोग के रायपुर दफ्तर में होनी है। राज्य की बिजली कंपनी के टैरिफ निर्धारण के लिए आयोग में ही जनसुनवाई हुई थी।

प्रबंधन इसलिए चाहता है टैरिफ बढ़ाना, जानिए
प्रस्ताव में बीएसपी प्रबंधन ने बिजली टैरिफ 3 प्रतिशत बढ़ाए जाने की वजह भी बताई है। जिसके मुताबिक वित्तीय वर्ष 2020-21 तक टाउनशिप में नियमित बिजली सप्लाई के लिए बड़े खर्च की आवश्यकता है। वर्ष 2016-17 में 89.32 करोड़, वर्ष 2017-18 में 96.79 करोड़, वर्ष 2018-19 में 102.28 करोड़, वर्ष 2019-20 में 108 करोड़ और वर्ष 2020-21 में 113.80 करोड़ रुपए की आवश्यकता थी, लेकिन मंजूरी नहीं मिलने से अटक गया।

बढ़ोत्तरी की तैयारी को लेकर विरोध: यूनियन
इसे लेकर उपभोक्ताओं के साथ यूनियनों ने भी विरोध शुरू कर दिया है। 6 दिसंबर को लोकतांत्रिक इस्पात एवं इंजीनियरिंग मजदूर यूनियन (लोईमू)ने आईआर विभाग को ज्ञापन सौंपा। इसमें प्रस्तावित बिजली दर को पूर्णता अनुचित बताया गया। वैसे भी बीएसपी टाउनशिप के कर्मी राज्य शासन द्वारा निर्धारित बिजली दर से ज्यादा का भुगतान पहले ही कर रहे हैं। उसके साथ-साथ टाउनशिप में लगभग 6000 अवैध कब्जा है जिसका भार कर्मियों पर पड़ता है।

खबरें और भी हैं...