दुर्ग कलेक्टर की सख्त हिदायद:रेमडेसिवीर इंजेक्शन की कालाबाजारी हुई तो होगी सीधे जेल, डॉक्टर न लिखें पर्ची

भिलाई6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
दुर्ग जिले में रेमडेसिवीर इंजेक्शन कालाबाजारी करने वाले सीधे जेल जाएगे। - Dainik Bhaskar
दुर्ग जिले में रेमडेसिवीर इंजेक्शन कालाबाजारी करने वाले सीधे जेल जाएगे।

छत्तीसगढ़ के दुर्ग जिले के कलेक्टर डॉ सर्वेश्वर नरेंद्र भुरे ने रेमडेसिवीर इंजेक्शन की कालाबाजारी करने वालों को जेल भेजने के निर्देश जारी किए हैं। इसके साथ ही डाक्टरों को निर्देश दिये हैं कि वो रेमडेसिवीर इंजेक्शन की पर्ची न लिखें। अस्पतालों को जितना स्टॉक उपयोग के लिए दिया गया है। उसका ही उपयोग करें।

रेमडेसिवीर इंजेक्शन की हेराफेरी के बाद जागा प्रशासन

दुर्ग जिले में इंजेक्शन की कालाबाजारी को रोकने के लिए सख्त निर्देश जारी किए हैं। अगर कोई भी व्यक्ति इंजेक्शन की कालाबाजारी करता पाया जायेगा तो उसे जेल भेजा जायेगा। साथ ही अस्पताल प्रबंधकों को निर्देश दिए गए हैं कि मरीजों के परिजनों को वर्तमान में उपलब्ध नहीं होने की वजह से मेडिकल स्टोर्स के लिए रेमडेसिवीर की पर्ची लिखकर ना दें। उपलब्ध होते ही इसकी सूचना जारी कर दी जाएगी। अस्पतालों को जितना स्टॉक उपयोग के लिए दिया गया है। उसका उपयोग करें। नोडल अधिकारी हर दिन अस्पताल में इस दवा के स्टॉक की ऑडिट करेंगे।

कलेक्टर ने कहा कि स्टॉक विक्रय के लिए उपलब्ध होने पर इसकी सूचना नागरिकों को दी जाएगी। सीधे लोग बाजार में रेमडेसिवीर दवा खरीदने ना पहुंचे। दरअसल दुर्ग जिले में कोरोना का संक्रमण तेजी से फैल रहा हैं। इस लिए यहां पर कलेक्टर ने इस तरह से निर्देश जारी किए हैं।

अपर मुख्य स्वास्थ्य सचिव ने ली वीडियो कांफ्रेसिंग
अपर मुख्य स्वास्थ्य सचिव रेणु पिल्ले ने प्रदेश के सभी सीईओ जिला पंचायत और कंटेनमेंट जोन प्रभारियों की बैठक ली हैं। जिसमें खासतौर पर निर्देश दिये गये हैं कि जो भी प्रवासी मजदूर वापस आ रहे हैं। ऐसे मजदूरों का रेलवे स्टेशन और बस स्टैंड पर ही कोरोना का टेस्ट किया जाए। साथ ही रेमडेसिवीर इंजेक्शन की कालाबाजारी को रोकने के भी सख्त निर्देश दिए हैं। जिन लोगो को इस दवा की जरुरत हैं। उन्हीं मरीजों को दी जानी चाहिए।

खबरें और भी हैं...