दुर्ग में वैक्सीनेट टीचर को ही स्कूल में एंट्री:बैलून और आकर्षक पेंटिंग्स के जरिए हुआ बच्चों का वेलकम, पहले दिन क्लास नहीं, बातों में बीता समय; बच्चे बोले- ऑनलाइन में डाउट क्लीयर नहीं

भिलाई10 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
स्कूल खुल गए है। सबसे बड़ी जिम्मेदारी स्कूल प्रबंधन की कोरोना गाइडलाइन का पालन कराने की होगी। - Dainik Bhaskar
स्कूल खुल गए है। सबसे बड़ी जिम्मेदारी स्कूल प्रबंधन की कोरोना गाइडलाइन का पालन कराने की होगी।

छत्तीसगढ़ के दुर्ग जिले में 15 महीने बाद स्कूल खुले। स्कूलों में बच्चों के स्वागत के लिए गेट पर बैलून व तरह-तरह की आकर्षक पेंटिंग को शिक्षकों द्वारा बनाकर लगाया गया। क्लास के अंदर ब्लैक बोर्ड में ज्ञानवर्धक जानकारियां उकेरी गईं। स्कूल में फिर से वही पुराना माहौल बनाने की पूरी कोशिश हुई।

स्कूल में कुछ इस तरह से दीवारों पर कोरोना को लेकर संदेश दिया गया।
स्कूल में कुछ इस तरह से दीवारों पर कोरोना को लेकर संदेश दिया गया।

दुर्ग जिले में सोमवार से पहली से 5वी,8वीं,10वीं और 12वीं की कक्षाएं शुरू हो गई हैं। जिले में 1011 सरकारी स्कूल जहां पर 1 लाख 63 हजार 19 स्टूडेंट और 6300 टीचर है। वहीं 589 निजी स्कूल के 1 लाख 56 हजार स्टूडेंट और 9300 टीचर है। साथ ही सरकारी स्कूल में 16 अंग्रेजी माध्यम के स्कूलों में भी पढ़ाई शुरू हो गई। पहले दिन देखने को मिला कि ज्यादातर स्कूलों में बच्चों के स्वागत का कार्यक्रम मनाया गया।

दुर्ग विधायक अरुण वोरा ने दीपक नगर स्थित स्कूल के बच्चों को गिफ्ट देकर स्वागत किया।
दुर्ग विधायक अरुण वोरा ने दीपक नगर स्थित स्कूल के बच्चों को गिफ्ट देकर स्वागत किया।

बच्चों में दिखा उत्साह, पैरेंट्स ने कहा-ऑफलाइन क्लास की ठीक
भिलाई के सेक्टर-6 के अंग्रेजी माध्यम के स्कूल की 8वीं की छात्रा दवी सोनकर ने बताया कि उन्हें ऑनलाइन क्लास में काफी दिक्तत होती थी, वहां बार-बार अपने डाउट को क्लीयर नहीं कर पाती थी। लेकिन ऑफ लाइन क्लास में हम सीधे अपने टीचर से सवाल कर सकते है। वहीं पैरेंट्स का कहना है कि ऑनलाइन क्लास से बच्चों को समझने में दिक्कत आती थी। इस लिए ऑफ लाइन क्लासेस ही ठीक है वो सीधे अपने टीचर से सवाल-जवाब कर सकते है।

स्कूल की टाइमिंग को लेकर कंफ्यूजन रहा
दुर्ग-भिलाई में पहले दिन स्कूलों की टाइमिंग को लेकर पैरेंट्स काफी परेशान हुए। उन्हें सही समय की जानकारी नहीं थी कि कब स्कूल खुलेगा और कब क्लास लगेगी। भिलाई सेक्टर-6 की रहने वाली मीनाक्षी अपनी 8वीं कक्षा में पढ़ने वाली बच्ची को लेकर स्कूल पहुंची थीं। वहां पता चला कि क्लास तो सुबह की थी जो खत्म हो चुकी है। इस तरह से पैरेंट्स क्लास की टाइमिंग को लेकर परेशान होते रहे।

क्लास में मास्क अनिवार्य है।
क्लास में मास्क अनिवार्य है।

वैक्सीनेशन वाले टीचर को ही मिलेगी अनुमति
जिले में 6300 टीचर है। इनमें से 2520 टीचरों को पहला और दूसरा वैक्सीन का डोज लग चुका है। और 3591 टीचरों को पहला डोज लगा है। और उनका दूसरा डोज बाकी है। मात्र 3 फीसदी ही 210 टीचर को वैक्सीन नहीं लगी है। इनमें से कई टीचर या तो कोरोना पॉजिटिव,गंभीर बीमारी या फिर गर्भवती महिला टीचर है। शिक्षा विभाग से सीधे निर्देश है कि जिन टीचरों को वैक्सीन नहीं लगा है, उन्हें स्कूल आने की अनुमति नहीं है।

कंटेनमेंट जोन में नहीं खुलेगी स्कूल
शिक्षा सचिव डॉ.कमलप्रीत सिंह ने कहा कि ज़िला प्रशासन द्वारा घोषित कंटेनमेंट ज़ोन के अंदर यदि कोई शाला स्थित है तो उसका संचालन कंटेनमेंट ज़ोन के समाप्त होने के बाद ही होगा। कंटेनमेंट ज़ोन के भीतर निवास रत बच्चे भी ज़ोन के समाप्त होने के उपरांत ही शाला अटेंड कर सकेंगे।

स्वामी आत्मानंद शासकीय अंग्रेजी स्कूल भिलाई में पहले दिन क्लास लगी।
स्वामी आत्मानंद शासकीय अंग्रेजी स्कूल भिलाई में पहले दिन क्लास लगी।

हर क्लास के लिए पढ़ाई के अलग-अलग घंटे निर्धारित

प्राइमरी स्तर पर पहली से लेकर पांचवी क्लास में आगामी आदेश तक दो घंटे पढ़ाई होगी। एक घंटे के बीच में करीब 20 मिनट का ब्रेक रहेगा। और एक दिन में पांच विषयों की पढ़ाई होगी। सोशल डिस्टेंसिंग के साथ मास्क लगाना अनिवार्य होगा। मिडिल स्तर पर 8वीं के बच्चों की क्लास 4 घंटे लगेगी। इस दौरान 15-15 मिनट का दो बार ब्रेक भी होगा। 10वीं और 12वीं के बच्चों के लिए चार विषय की रोजाना क्लास लगेगी, जो तीन घंटे की होगी। बीच में 15 मिनट का ब्रेक होगा।

स्कूल टाइमिंग को लेकर शिक्षा अधिकारी ने बताया
जिला शिक्षा अधिकारी प्रवास सिंह बघेल ने टाइमिंग को लेकर बताया कि स्कूल अपने स्टैंडर्ड टाइम के अनुसार ही खुलेगे। अगर सिंगल शिफ्ट का स्कूल है तो सुबह 10 से 5 बजे तक क्लास होगी। और अगर दो शिफ्ट वाला स्कूल है तो सुबह 7 बजे से 11 बजे तक क्लास होगी, फिर दूसरी शिफ्ट दोपहर 12 बजे से 5 बजे तक रहेगी। जिस स्कूल में मिडिल और हाई स्कूल व हायर सेकेंडरी स्कूल है। वहां मिडिल सुबह की पाली में और हाई व हायर सेकेंडरी के छात्र दूसरी पाली में दोपहर 12 बजे के बाद बुलाए जाएंगे। इसके अलावा ऑनलाइन क्लासेस भी जारी रहेगी।

खबरें और भी हैं...