सिपाही की सड़क दुर्घटना में मौत:भिलाई में ड्यूटी से घर लौट रहे कॉन्स्टेबल की बाइक को तेज रफ्तार बुलेट ने मारी टक्कर; बुलेट सवार भी गंभीर रूप से घायल

​​​​​​​भिलाई20 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
आरक्षक राधेश्याम सिन्हा का फाइल फोटो - Dainik Bhaskar
आरक्षक राधेश्याम सिन्हा का फाइल फोटो

भिलाई नगर थाने में पदस्थ आरक्षक राधेश्याम सिन्हा की बुधवार देर रात सड़क दुर्घटना में मौत हो गई। आरक्षक देर रात ड्यूटी खत्म कर बाइक से अपने घर सेक्टर- 2 लौट रहा था। वह जैसे ही सेक्टर- 1 पहुंचा सामने से तेज रफ्तार आ रही बुलेट सवार ने उसे टक्कर मार दी। दुर्घटना के बाद आरक्षक और बुलेट सवार को सेक्टर-9 हॉस्पिटल भेजा। वहां डॉक्टरों ने आरक्षक को मृत घोषित कर दिया। बुलेट सवार की हालत गंभीर बताई जा रही है। भट्ठी थाना प्रभारी से मिली जानकारी के अनुसार आरक्षक क्रमांक 1149 राधेश्याम सिन्हा सेक्टर-2 में रहता है। वर्तमान में वह भिलाई नगर थाने में पदस्थ है। वहां ड्यूटी खत्म करके रात 10 बजे के करीब थाने से अपने घर के लिए बाइक से निकला था। रात 11 बजे के करीब वह जैसे ही सेक्टर-1 पहुंचा सामने से बोरसी निवासी एक युवक बुलेट से आ रहा था। बुलेट की स्पीड काफी तेज थी, इससे वह अपना संतुलन खो बैठा और आरक्षक की बाइक और बुलेट में जोरदार टक्कर हो गई। टक्कर होते ही आरक्षक सड़क पर ही दूर जा गिरा। उसके सिर में गहरी चोट आई। राधेश्याम का परिवार सेक्टर टू में ही रहता है, उसके दो छोटे-छोटे बच्चे हैं।

इसी दौरान वहां से खुर्सीपार टीआई दुर्गेश शर्मा अपनी कार से निकल रहे थे। उन्होंने तुरंत कार रोकी और सिपाही को सेक्टर-9 हॉस्पिटल भिजवाया। वहां डॉक्टरों ने आरक्षक को मृत घोषित कर दिया। सड़क दुर्घटना में बुलेट सवार को भी काफी चोटें आई हैं। उसका इलाज जारी है। बुलेट बोरसी निवासी एम श्रीमूराव के नाम पर रजिस्टर्ड बताई जा रही है।

बेहद ईमानदार था राधेश्याम
भिलाई नगर थाने के टीआई एमएल शुक्ला ने बताया कि आरक्षक राधेश्याम काफी कर्तव्यनिष्ठ और ईमानदार था। उसके अंदर अनुशासन कूट-कूट कर भरा था। वह समय पर ड्यूटी आ जाता और काम खत्म कर रोज अपने घर लौटता था। थाने में हमेशा वर्दी पर ही रहता था। वह मददगार का काम देखता था।

खबरें और भी हैं...