BJP-कांग्रेस के टिकट बंटवारे की अजब कहानी:कहीं प्रत्याशी भतीजे की दावेदारी से परेशान, कहीं बिना मांगे BJP नेता को कांग्रेस ने बना दिया उम्मीदवार

भिलाई10 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

दुर्ग जिले में नगरीय निकाय चुनाव में कांग्रेस और भाजपा में टिकट बंटवारे के बाद प्रत्याशियों और दावेदारों को लेकर खूब चर्चा हो रही है। चुनाव इस मोड़ पर आ गया है कि कोई अपने भतीजे की दावेदारी से परेशान है तो कहीं कांग्रेस ने बिन मांगे ही बीजेपी नेता को अपना उम्मीदवार बना दिया है। जिसके चलते जिले में लोग इन कहानियों की खूब चर्चा कर रहे हैं

भिलाई, रिसाली, भिलाई तीन चरौदा नगर निगम और जामुल नगर पालिका में टिकट बंटवारे से लेकर अब तक एक दो नहीं बल्कि कई ऐसी घटना घटित हो चुकी हैं, जो चर्चा का विषय बने हुए हैं। इसे कांग्रेस व भाजपा के बड़े नेताओं की गलती कहें या प्रत्याशियों के आरोप, लेकिन ये घटनाएं हैं बड़ी मजेदार। आपको हम कुछ ऐसी प्रमुख घटनाओं के बारे में बता रहे हैं, जो इस समय मीडिया और माउथ पब्लिसिटी में सुर्खियों पर हैं।

भिलाई नगर निगम भाजपा नेता रिकेश सेन वार्ड 26 रामनगर मुक्तिधाम से भाजपा के पार्षद प्रत्याशी हैं। इससे पहले भी वह तीन बार भाजपा के पार्षद रह चुके हैं। इस समय रिकेश मानसिक परेशानी से गुजर रहे हैं। उनका कहना है कि उनका भतीजा वार्ड 14 से दावेदारी कर रहा है। वह उसे मना कर रहे हैं तो वह मानने को तैयार नहीं है। इसे लेकर उनका विवाद भी चल रहा है। हालांकि दोनों की दावेदारी अलग-अलग वार्ड से है और रिकेश इसे मुद्दा क्यों बना रहे हैं यह वहीं बता सकते हैं।

रिकेश सेन
रिकेश सेन

कुछ लोगों का इतना जरूर कहना है कि रिकेश मीडिया में बने रहने के लिए सभी तरह के हथकंडे अपनाते हैं। यह भी उसका एक तरह का पब्लिक स्टंट है। रिकेश सेन इससे पहले वार्ड 14 से ही पार्षद बनकर आए थे। कहा जाता है यह वार्ड बीजेपी का गढ़ है। लेकिन रिकेश के भतीजे के इस तरह से दावेदारी करने से मुकाबला बीजेपी के लिए थोड़ा कठिन हो सकता है।

बीजेपी नेत्री बोलीं-हमारी ही पार्टी ने डमी कैंडीडेट उतार दिया

भिलाई नगर निगम सेक्टर 10 वार्ड 65 से भाजपा से दावेदारी करने वाली नेत्री सुमन उन्नी टिकट न मिलने से काफी परेशान हैं। उनका आरोप है कि कांग्रेस उम्मीदवार सुभद्रा सिंह को जीत दिलाने के लिए भाजपा ने ऐसे डमी कैंडीडेट को टिकट दे दिया है, जो कभी भाजपा की सदस्य रही ही नहीं। इतना ही नहीं पिछले 5 सालों में वह कभी पार्टी कार्य के लिए घर से नहीं निकली। सुमन उन्नी का कहना है उन्होंने इसकी शिकायत भाजपा के बड़े नेताओं से की है। यदि उन्हें टिकट नहीं मिलता तो वह केंद्रीय कमेटी से शिकायत करेंगी और निर्दलीय चुनाव लड़ेंगी।

भाजपा नेत्री सुमन उन्नी।
भाजपा नेत्री सुमन उन्नी।

नेता जी भाजपा से लड़ना चाह रहे थे चुनाव, कांग्रेस ने बना दिया अपना प्रत्याशी

भिलाई नगर निगम से एक और दिलचस्प वाकया सामने आया है। वार्ड 44 लक्ष्मी नारायण नगर से बीजेपी के पुराने कार्यकर्ता मानवेंद्र सिंह ने भाजपा से टिकट मांगी थी। भाजपा ने उन्हें टिकट न देकर दया सिंह को टिकट दे दिया। इसके बाद कांग्रेस ने बिना देरी किए मानवेंद्र सिंह को अपना प्रत्याशी घोषित कर दिया। मानवेंद्र अब भाजपा की विचारधारा को छोड़कर कांग्रेस की विचारधारा अपना कर चुनाव मैदान में उतर गए हैं। अब ऐसा कहा जा रहा है कि भिलाई नगर निगम मुख्यमंत्री का क्षेत्र है और ऐसे में कांग्रेस के पास कोई ढंग का नेता नहीं था, तभी उसने भाजपा नेता को टिकट दिया है।

कांग्रेस ने दिया आपराधिक तत्वों को टिकट, चर्चा का विषय

जामुल नगर पालिका में कांग्रेस पर आपराधिक तत्वों को टिकट देने का आरोप लग रहा है। जोगी कांग्रेस के दुर्ग संभाग के अध्यक्ष ईश्वर उपाध्याय ने आरोप लगाया है कि कांग्रेस की जो सूची जारी हुई है, उसमें दो प्रमुख दागदार लोगों को टिकट दिया गया है। इनकी आपराधिक पृष्ठभूमि रही है। दोनों के पीछे पूर्व में कई आपराधिक मामले दर्ज हैं। इनमें एक के ऊपर सार्वजनिक स्थल पर गोलीबारी करने का आरोप रहा है और दूसरे ऊपर लोगों को लगातार डराने धमकाने और मारपीट करने के आरोप लगते रहे हैं। ऐसे में लोगों में चर्चा है कि अगर यह उम्मीदवार जीतते हैं तो उस वार्ड में आपराधिक गतिविधियां और बढ़ जाएंगी।

भाजपा नेता ने फेसबुक पोस्ट में जताई नाराजगी

भाजपा ने इस बार भिलाई नगर निगम में वार्ड 14 शांति नगर से अरविंद पाण्डेय को अपना उम्मीदवार बनाया है। इससे वहां के दिग्गज भाजपाइयों में अंतरकलह बढ़ गई है। यहां से पूर्व पार्षद ललित मोहन और विनोद चौबे ने भी टिकट की दावेदारी की थी। जब इन्हें टिकट नहीं मिला तो ललित मोहन ने अपने फेसबुक पोस्ट में मैसेज लिखकर नाराजगी जाहिर की। उन्होंने उसमें अपनी दिवंगत पत्नी माधुरी के कार्यकाल में किए गए विकास कार्यों का हवाला दिया और जनता से उनके ऊपर आशीर्वाद बनाए रखने की अपील जारी की। ललित मोहन का यह फेसबुक पोस्ट काफी चर्चा में है।