मार्केट में पकड़ होगी मजबूत:बीएसपी में 75 एमएम एंगल की पहली बार सफल रोलिंग

भिलाई18 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

भिलाई इस्पात संयंत्र के मर्चेंट मिल ने 6 अक्टूबर को एसएमएस-3 से प्राप्त बिलेट्स का प्रयोग करते हुए 75x75 मिलीमीटर वाले एंगल के 1864 टन रोलिंग करने में सफलता हासिल की है। इस सफलता से बीएसपी की स्टील के ओपन मार्केट में पकड़ मजबूत होगी।एक्सपांशन प्रोजेक्ट के तहत एसएमएस-3 में उत्पादन शुरू होने के पहले तक एंगल चैनल जैसे ओपन मार्केट में बिकने वाले उत्पाद को लिए मर्चेंट मिल में बिलेट की सप्लाई एसएमएस-1 से की जा रही थी। एसएमएस-3 से उत्पादन शुरू होने के बाद एसएमएस-1 में उत्पादन बंद कर दिया गया। उसके बाद से मर्चेंट मिल में एंगल के उत्पादन को लेकर तकनीकी दिक्कतें सामने आ रही थी। क्योंकि एसएमएस-1 व एसएमएस-3 के कास्ट बिलेट की साइज में अंतर है, जिसकी वजह से रोलिंग स्टैंड में बिलेट को रोल करना आसान नहीं रह गया था। पर इसे कर दिखाया गया।

रोलिंग टेबल को किया मॉडिफाई, मिली उपलब्धि

इस समस्या को दूर करने के लिए के लिए प्रबंधन ने रोलिंग टेबल को मोडिफाई करने का निर्णय लिया। जिसके बाद मर्चेंट मिल में 100x100 एमएम तक एंगल रोल किया जा सकता है। यानि रोलिंग टेबल को मोडिफाई करने के बाद एसएमएस-3 के भारी बिलेट को झेलने में सक्षम हो गया है। जिसके बाद मर्चेंट मिल एक बार सामान्य ढंग से उत्पादन करने लगा है।

बीएसपी का उत्पादन बढ़कर हो गया दोगुना
मर्चेंट मिल में रोलिंग टेबल को मोडिफाई करने का असर उत्पादन पर दिखाई देने लगा है। अब मिल में उत्पादन बढ़कर दोगुना हो गया है। मोडिफाई के पहले मिल में जहां करीब एक हजार टन एंगल की रोलिंग की जा रही थी। वह अब बढ़कर दोगुनी हो गई है। 6 सितंबर को ही 1864 टन एंगल की रोलिंग की गई। प्रबंधन ने इसे 2 हजार टन तक पहुंचाने का लक्ष्य रखा है।

मार्केट की डिमांड को पूरा करने में संयंत्र होगा सक्षम
बीएसपी के मेजर उत्पाद एक्सक्लूसिव है। जिनके कस्टमर की खास केटेगरी है। ओपन मार्केट में डिमांड वाले उत्पादों का बीएसपी में उत्पादन दुर्गापुर और राउरकेला प्लांट की अपेक्षा कम होता है। टीएमटी सिक्योर के बाद एंगल के खास केटेगरी का उत्पादन बढ़ने के बाद बीएसपी स्टील मार्केट में पकड़ मजबूत होना तय माना जा रहा है।

डायरेक्टर इंचार्ज मिल में कर्मियों से मिलने पहुंचे
मर्चेंट मिल में एंगल के उत्पादन में हुई बढ़ोतरी के बाद बीएसपी के डायरेक्टर इंचार्ज अनिर्बान दासगुप्ता और ईडी वर्क्स अंजनी कुमार ने विभाग का भ्रमण कर मर्चेंट मिल बिरादरी का उत्साहवर्धन किया। साथ ही उन्होंने दैनिक उत्पादन लक्ष्य 2,000 टन को पार करने का आव्हान करते हुए लोगों को प्रेरित किया। सफल रोलिंग के बाद एसएमएस-3 के कर्मियों का उत्साह बढ़ा हुआ है। कर्मी अपनी उपलब्धियों को और ऊंचाई देने की तैयारी में लगे हुए हैं। उनका कहना है कि सफल रोलिंग से बीएसपी का नाम देश में ऊंचा होगा। इस दौरान मर्चेंट मिल व वायर राॅड मिल के मुख्य महाप्रबंधक अजय बेदी सहित मर्चेंट मिल के अधिकारी व कर्मचारी उपस्थित थे।

खबरें और भी हैं...