• Hindi News
  • Local
  • Chhattisgarh
  • Bhilai
  • The Identity Of The Youth Who Committed Suicide By Jumping From The Water Tank, Took Such A Step After Getting Angry With His Father's Scolding.

पिता से नाराज होकर बेटे ने किया था सुसाइड:85 फीट ऊंची टंकी से कूदने वाले युवक की हुई पहचान; पहले भी कर चुका था आत्महत्या का प्रयास

दुर्गएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
युवक ने दिवाली की रात को सुसाइड किया था। - Dainik Bhaskar
युवक ने दिवाली की रात को सुसाइड किया था।

दुर्ग में निर्माणाधीन पानी के टंकी के ऊपर से कूदकर खुदकुशी करने वाले युवक की पहचान योगेंद्र तांडी पिता युधिष्ठिर तांडी (19 साल) के रूप में हुई है। वह पद्नाभपुर चौकी अंतर्गत पोस्ट ऑफिस के पास रहता था। दिवाली की रात खाना खाने की बात को लेकर पिता से उसका झगड़ा हुआ था। पिता ने उसे घर से निकल जाने के लिए बोला तो वह घर से चला गया और 85 फीट ऊंची निर्माणाधीन पानी की टंकी से कूदकर खुदकुशी कर ली है।

पद्नाभपुर चौकी प्रभारी धरम सिंह मंडावी ने बताया कि 4-5 नवंबर की दरमियानी रात डेढ़ बजे के करीब 19 वर्षीय योगेंद्र ने स्टेट पॉवर ग्रेड कंपनी के पास निर्माणाधीन पानी की टंकी के ऊपर चढ़कर छलांग लगा दिया। 85 फीट ऊंचाई से गिरने से उसकी मौके पर ही मौत हो गई थी। जांच में पता कि दिवाली की रात योगेंद्र अपने घर पर बैठकर नमकीन खा रहा था। इस पर उसके पिता युधिष्ठिर तांडी ने उसे डांटा कि घऱ में खाना बना है और वह नमकीन खा रहा है। उसकी सेहत खऱाब होने की बात कहते हुए पिता ने उसे घऱ का खाना खाने की नसीहत दी थी।

इस बात पर योगेंद्र नाराज होकर पिता से लड़ने लगा। गुस्से में आकर पिता ने योगेंद्र को घर निकल जाने के लए कहा। पिता की डांट व घऱ से निकालने की बात से वह काफी नाराज हो गया। वह घर से जाने लगा तो घऱवालों ने सोचा कि गुस्सा शांत हो जाएगा तो वापस आ जाएगा, लेकिन योगेंद्र ने ऐसा कदम उठाया कि वहां से वह दुबारा कभी नहीं आ सका। उसकी मौत की जानकारी होने के बाद से पिरजनों का रो-रोकर बुरा हाल है।

पहले भी कर चुका है खुदकुशी का प्रयास

योगेंद्र 12वीं पास करने के बाद पढ़ाई बंद कर घर में ही रहता था। पेशे से कुक उसके पिता उसे काम करने के लिए कहते थे तो वह बात नहीं सुनता था। घर वाले उसे काम के लिए दबाव न बनाएं इसके लिए 4-5 महीने पहले भी उसने नींद की गोलियां खाकर खुदकुशी करने का प्रयास किया था। पिता ने समय रहते उसे अस्पताल पहुंचाया तब जाकर उसकी जान बची थी।