सायबर फ्रॉड:रिटायर कर्मी के 16 लाख रुपए की एफडी से ठग ने 7 लाख का लोन निकाला, साढ़े 3 लाख राशि ट्रांसफर की

भिलाई16 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
बैंक खाते का ई-मेल एड्रेस और मोबाइल नंबर बदलकर की ठगी। - Dainik Bhaskar
बैंक खाते का ई-मेल एड्रेस और मोबाइल नंबर बदलकर की ठगी।

पुरानी भिलाई के पंचशील नगर निवासी 62 वर्षीय सेवानिवृत्त रेलवे कर्मी वीएस शर्मा ऑनलाइन ठगी का शिकार हो गए। रेलवेकर्मी को ठगी का पता तब चला जब उन्होंने 23 दिसंबर को अपनी पासबुक अपडेट करवाई। खाते में बैलेंस जीरो होने पर मैनेजर से स्टेटमेंट निकलवाया। पता चला कि 15 और 16 दिसंबर को उनके खाते से ऑनलाइन ट्रांजिक्शन के जरिए साढ़े 10 लाख रुपए निकाल गए। 16 लाख रुपए की एफडी के आधार पर ठग ने बैंक से 7 लाख रुपए लोन ले लिया। इसके बाद बैंक खाते से साढ़े तीन लाख रुपए निकाल लिए।

दूध लेने गए तब गुम गया था मोबाइल : रेलवेकर्मी के मुताबिक 16 दिसंबर को शाम 5.30 बजे दूध लेने गए थे। इसी दौरान उसका मोबाइल जेब से गिर गया। घर लौटने के बाद मोबाइल गिरने का पता चला। 17 दिसंबर को पुराने मोबाइल में उक्त नंबर की नई सिम निकालकर चालू करवा ली। इसी दौरान तबीयत खराब हो गई। 23 दिसंबर को हालत ठीक होने पर बैंक गया और पासबुक अपडेट करवा लिया।

ऑनलाइन बैंकिंग एप्लीकेशन से की ठगी : पुलिस ने बताया कि उसने बैंकिंग ट्रांजिक्शन के लिए अपने मोबाइल पर बैंक का ऑनलाइन एप्लीकेशन डाउनलोड कर रखा था। एप्लीकेशन के जरिए उसे बैंक बैंलेंस और ट्रांजेक्शन की जानकारी पता चलती थी। इसी एप्लीकेशन के जरिए ठग को एफडी की जानकारी पता चली। जानकारी जुटाकर ठग ने 16 लाख की एफडी से 7 लाख रुपए निकाल लिए।

अब 7 लाख लोन की राशि पीड़ित के पेंशन से होगी जमा
बैंक ने पीड़ित तो बताया कि उसके एफडी खाते से 7 लाख रुपए का लोन लिया गया है। उक्त लोन की राशि ठग ने निकाले हैं। अब बैंक 7 लाख रुपए की लोन की राशि का पैसा रेलवे कर्मी के पेंशन खाते से काटकर जमा करेगा। पीड़ित के मुताबिक पहले ही ठग ने उसके खाते से 10.30 लाख रुपए निकाल लिए है। इसके बाद एफडी पर 7 लाख रुपए के लोन की किश्त भी उसे ही जमा करना होगा। इससे उससे करीब साढ़े 17 लाख रुपए का नुकसान होगा। ठग ने 7 लाख रुपए दो एजुकेशन ट्रस्ट के खाते में जमा किए हंै।

खबरें और भी हैं...