पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

इंजीनियर्स के रिसर्च को बेहतर करने बनेगा एक्सीलेंस सेंटर:सॉफ्टवेयर और इलेक्ट्रॉनिक्स के इंजीनियर्स के लिए एसटीपीआई और चिप्स तैयार करेगा यह सेंटर

भिलाई16 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

ट्विनसिटी के सॉफ्टवेयर और इलेक्ट्रॉनिक इंजीनियर्स के लिए बड़ी खबर है। सॉफ्टवेयर टेक्नोलॉजी पार्क्स ऑफ़ इंडिया (एसटीपीआई) और राज्य की चिप्स एजेंसी मिलकर एक्सीलेंस सेंटर के नाम पर एक नया सेंटर विकसित करेगा। जहां इंजीनियर्स को अपने अनुसंधान को मूर्त रूप देने प्लेटफार्म उपलब्ध हो सकेगा। यह सेंटर स्मृति नगर स्थित एसटीपीआई परिसर में स्थापित किया जाएगा। सेंट्रिक सेंटर ऑफ एक्सीलेंस (सीओई) में सॉफ्टवेयर और इलेक्ट्रॉनिक्स सेक्टर में रिसर्च करने वाले इंजीनियर्स को स्थान के साथ इंफ्रास्ट्रक्चर और आर्थिक मदद भी दी जाएगी। ताकि इंजीनियर्स रिसर्च को पूरा कर सकें।

कमेटी इन बिंदुओं पर प्रोजेक्ट को परखेगी, फिर मिलेगा प्रवेश
एसटीपीआई इंजीनियर्स को संसाधन और आर्थिक मदद मुहैया कराने के पूर्व उसके अनुसंधान वाले विषय को बारीकी से परखेगी। जिसमें प्रोजेक्ट की पब्लिक यूटिलिटी और रेवेन्यू जनरेट करने की क्षमता प्रमुख रूप से शामिल होगी। इस जानकारी के आधार पर ही सॉफ्टवेयर और इलेक्ट्रॉनिक्स से जुड़े इंजीनियर्स को इसमें प्रवेश दिया जाएगा। लंबे समय से इसकी डिमांड ट्विनसिटी में की जा रही थी। अब इसे जल्द ही शुरू किए जाने की तैयारी है।

केंद्र के प्रोजेक्ट के अनुरूप चल रहा काम, एक्सपर्ट् की लेंगे मदद
दरअसल एसटीपीआई हाल ही में भारत सरकार द्वारा अनुमोदित “सॉफ्टवेयर उत्पादों पर राष्ट्रीय नीति” के तहत कई पहलुओं को सक्रिय कर रहा है। इसी के तहत एसटीपीआई भारत भर में सहयोगात्मक तरीके से 21+ डोमेन-सेंट्रिक सेंटर ऑफ एक्सीलेंस (सीओई) स्थापित करने जा रहा है। ये सीओई आने वाले समय में एक अखिल भारतीय जीवंत तकनीकी स्टार्टअप के सेटअप को सक्षम बनाएंगे। केंद्र सरकार द्वारा लगातार इसके लिए मदद दी जा रही है।

भिलाई सेंटर से 124 करोड़ का निर्यात
छत्तीसगढ़ में एसटीपीआई के एकमात्र सेंटर भिलाई में स्थित है। यहां पंजीकृत 22 आईटी कंपनियों द्वारा वर्ष 2020-21 में 124 करोड़ रुपए के सॉफ्टवेयर व अन्य तकनीक निर्यात किया है। इन एसटीपीआई केन्द्रों के माध्यम से इन्क्यूबेशन सेवाएं आईटी/आईटीइएस कंपनियों को प्रदान की जा रही हैं। भारत सरकार की इंडिया बीपीओ प्रमोशन योजना के अंतर्गत प्रदेश के विभिन्न स्थानों पर 3 कंपनियों ने बीपीओ केंद्र की स्थापना की है। जिससे की इन शहरों के युवाओं को रोजगार मिल सके। उन्हें विदेशों के डिमांड के अनुरूप तैयार किया जाएगा।

इन क्षेत्रों में अनुसंधान करने वालों को दी जाएगी प्राथमिकता
आईओटी, ब्लॉकचेन, आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस, ऑगमेंटेड एंड वर्चुअल रियलिटी, फिनटेक, मेडिकल इलेक्ट्रॉनिक्स, हेल्थ इंफॉर्मेटिक्स, गेमिंग एंड एनिमेशन, मशीन लर्निंग, डेटा विज्ञान और एक्सपर्टी, सायबर सुरक्षा, चिप डिजाइनिंग, ईएसडीएम आदि पर रिसर्च करने वालों को सेंटर में प्राथमिकता दी जाएगी।

रिसर्च पूरा करने के लिए मिलेगी मदद
क्षेत्र के सॉफ्टवेयर और इलेक्ट्रॉनिक्स इंजीनियर को अपना रिसर्च पूरा करने में मदद मिलेगी। इस उद्देश्य से इस स्थान एक्सीलेंस सेंटर स्थापित किया जा रहा है। इसके लिए इंफ्रास्ट्रक्चर और आर्थिक संसाधन उपलब्ध कराने चिप्स को शामिल किया गया है।
-डीएन बेहरा, ज्वाइंट डायरेक्टर एसटीपीआई भिलाई

खबरें और भी हैं...