पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

मौसम का हाल:अब तक दुर्ग जिले में हो चुकी 29 फीसदी ज्यादा बारिश

भिलाई10 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
तस्वीर बुधवार की देर शाम की है, अचानक बादल छाए और बारिश हुई। - Dainik Bhaskar
तस्वीर बुधवार की देर शाम की है, अचानक बादल छाए और बारिश हुई।
  • मौसम विभाग की चेतावनी
  • वायु मंडल में बने कम दबाव के क्षेत्र से हमारे जिले में बारिश की आस

दक्षिण पूर्व से हवा की दिशा इन दिनों दक्षिण पश्चिम और पश्चिमी हो गई है। इसके प्रभाव से दो दिनों से शाम को तेज हवा, गरज-चमक के साथ बौछारें पड़ रही हैं। ट्विनसिटी में दो दिन में करीब 4 मिमी बारिश हो चुकी है। अभी दो दिनों तक इसी तरह की स्थिति बने रहने की संभावना है। बारिश की वजह से वातावरण में नमी की मात्रा बढ़ी है। इसी कारण दिन के तापमान में थोड़ी कमी आई है। हालांकि अभी भी दिन का तापमान सामान्य से 1 डिग्री सेल्सियस ऊपर बना हुआ है। आने वाले दिनों में इसमें आंशिक गिरावट आने की संभावना है।

बंगाल की खाड़ी में बन रहा हवा का घेरा, बनेगा लो-प्रेशर

रायपुर मौसम विज्ञान विभाग के मौसम वैज्ञानिक हरिप्रसाद चंद्रा ने बताया कि अभी एक चक्रवाती घेरा पूर्वी उत्तर प्रदेश में बना हुआ है। साथ ही बंगाल की खाड़ी में एक हवा का घेरा बना रहा है। इसके आने वाले 48 घंटे में सक्रिय होने और इसके आसपास एक लो प्रेशर एरिया बनने की संभावना है। इसके प्रभाव से ट्विनसिटी समेत आसपास के क्षेत्र में अच्छी बारिश होने की संभावना है। आगामी 24 घंटे के दौरान गरज-चमक के साथ बौछारें पड़ सकती हैं। कुछ स्थानों पर बिजली भी गिर सकती है।

15 दिन तक रूठा रहा मौसम फिर लौट आया

दुर्ग में 29% से अधिक बारिश हो चुकी

दुर्ग जिले में 1 जून से लेकर अभी तक 300.1 मिमी बारिश होनी थी। इसके स्थान पर अभी तक 387.8 मिमी बारिश हो चुकी है। यह सामान्य से 29 फीसदी अधिक है। आने वाले दिनों में बारिश की मात्रा और इसके औसत दोनों में वृद्धि होने की संभावना है। इससे जल स्तर में वृद्धि होने की भी संभावना है। नदी और नालों में पानी की स्थिति अच्छी रह सकती है। अच्छी बारिश होने की संभावना अब भी बनी हुई है।

दो दिन से आसमान पर छाए हुए हैं बादल

इन दिनों आसमान में बादलों की उपस्थिति लगातार बनी हुई है। बुधवार को आसमान में 95 फीसदी बादल छाए रहे। सुबह वातावरण में नमी की मात्रा 85 फीसदी और शाम को 71 फीसदी रही। हवा की औसत गति 6 किलोमीटर प्रतिघंटे रही। हालांकि बारिश के दौरान हवा की गति 8 से 10 किलोमीटर प्रतिघंटे रही। इस तरह हवा की गति में लगातार उतार-चढ़ाव बना रहा। बारिश की वजह से वातावरण में अब नमी की मात्रा में बढ़ी है।

खबरें और भी हैं...