पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Local
  • Chhattisgarh
  • Bhilai
  • Today 80 To 90 Percent Of The Population In The Country Is Connected With Agriculture, But We Do Not Provide Education For Agriculture: Dr. Sharma

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

सेमिनार:आज देश में 80 से 90 फीसदी आबादी कृषि कार्य से जुड़ी है, पर हम कृषि की नहीं देते शिक्षा: डॉ. शर्मा

भिलाईएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • स्वरूपानंद कॉलेज में अंतरराष्ट्रीय वेबीनार में वक्ताओं ने रखे अपने-अपने विचार

आज देश में 80 से 90 प्रतिशत आबादी कृषि कार्यों से जुड़ी हुई है। लेकिन इसके बाद भी हम कृषि पर कोई शिक्षा नहीं देते हैं, जो साहित्य भाषा, देश, संस्कृति के प्रति सम्मान जागृत करें, वहीं वास्तविक साहित्य है। यह बाते स्वामी स्वरूपानंद महाविद्यालय में हिंदी विभाग द्वारा अंतरराष्ट्रीय वेबीनार में मुख्य अतिथि डाॅ. शैलेन्द्र कुमार शर्मा ने कही। उन्होंने महात्मा गांधी विचार और नवाचार के बारे में विस्तृत जानकारी दी। वेबिनार का आयोजन कॉलेज के हिन्दी विभाग एवं राष्ट्रीय शिक्षक संचेतना के संयुक्त तत्वावधान में आयोजित किया। कार्यक्रम के मुख्य अतिथि डाॅ. शैलेंद्र षर्मा, अध्यक्ष हिन्दी अध्ययन शाला विक्रम विश्वविद्यालय उज्जैन, विशेष अतिथि डाॅ. शहाबुद्दीन शेख कार्यकारी अध्यक्ष, नागरी लिपि परिषद पुणे, विशिष्ट अतिथि डाॅ. प्रभु चौधरी, सचिव राष्ट्रीय शिक्षक संचेतना उज्जैन, मुख्य वक्ता सुरेश चन्द्र शुक्ल साहित्यकार और अनुवादक ओस्लो नार्वे थे। कार्यक्रम की अध्यक्षता डाॅ.दीपक शर्मा, सीईओ, प्राचार्य डाॅ. हंसा शुक्ला, कार्यक्रम की संयोजिका डाॅ. सुनीता वर्मा, विभागाध्यक्ष हिन्दी व तकनीकी सहयोग, सप्रा. निशा पाठक, टी बबीता ने दिया।

नार्वे में जगह-जगह पर गांधी की प्रतिमा: डॉ. शुक्ल
इस अंतरराष्ट्रीय वेबीनार में मुख्य वक्ता डाॅ. सरेश चन्द्र शुक्ल ने कहा कि नार्वे में स्थान-स्थान पर गांधी की प्रतिमा है। वहां लोग महात्मा गंाधी व उनके सिद्धांतों से परिचित है। विशिष्ट अतिथि डाॅ. शहाबुद्दीन शेख ने महात्मा गांधी के शिक्षा सिद्धांतों की विवेचना करते हुए कहा कि महात्मा गांधी की धारणा थी कि शिक्षा सरकार की अपेक्षा समाज के अधीन होनी चाहिए। 14 वर्ष तक अनिवार्य शिक्षा व शिक्षा का माध्यम मातृ भाषा होनी चाहिए। क्योंकि मातृभाषा में शिक्षा होने से बच्चों का सर्वागींण विकास होता है।

गांधीजी के विचारों को अपने जीवन में उतारें : डॉ. हंसा
प्राचार्य डाॅ. हंसा शुक्ला ने कहा कि गांधी के विचारों को हम पढ़ रहें है पर हम उन्हें जी नहीं रहे है। डॉ. दीपक शर्मा ने कहा कि गांधीजी ज्ञान आधारित शिक्षा के स्थान पर आचरण आधारित शिक्षा के समर्थक थे। डाॅ. मीता अग्रवाल, शासकीय महाविद्यालय रायपुर, डाॅ. मीना सोनी, कन्या महाविद्यालय उड़ीसा, डाॅ. शमा ए बेग स्वरूपानंद महाविद्यालय भिलाई ने अपने शोधपत्र पढ़े। डाॅ. सुनीता वर्मा और डाॅ. प्रभु चौधरी उपस्थित रहीं।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- दिन उन्नतिकारक है। आपकी प्रतिभा व योग्यता के अनुरूप आपको अपने कार्यों के उचित परिणाम प्राप्त होंगे। कामकाज व कैरियर को महत्व देंगे परंतु पहली प्राथमिकता आपकी परिवार ही रहेगी। संतान के विवाह क...

और पढ़ें