पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

ऐसा भी होता है:खुर्सीपार से गायब ट्रक फास्टैग से रीवा में हुआ ट्रेस, 4 अप्रैल को खुर्सीपार के मिलावट पारा से गायब हुआ था ट्रक

भिलाईएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • पुलिस रीवा हुई रवाना

4 अप्रैल को खुर्सीपार के मिलावट पारा स्थित अग्रवाल धर्मकांटा के सामने खड़ी की गई ट्रक अगले दिन अचानक मौके से गायब हो गई। ट्रक कहां गई यह किसी को पता नहीं चल पाया। पिछले करीब एक महीने से ट्रक का मालिक देवेंद्र यादव ट्रक की तलाश करते रहा। उसने इस बीच पुलिस से भी शिकायत की, लेकिन पुलिस ने आवेदन लेकर मामले को जांच में रख लिया। करीब महीनेभर तक ट्रक के बारे में कोई जानकारी नहीं मिली। इसके बाद खबर आई कि ट्रक में लगे फास्ट टैग से टोल दिया गया है। पुलिस ट्रक लाने रवाना हो गई है।

महीनेभर पहले गायब हुआ ट्रक, पुलिस खोजते रही
पुलिस ने बताया कि ट्रक सीजी 07 एमवी 6142 का चालक 4 अप्रैल को ट्रक को घटना स्थल पर देर रात खड़ा कर घर चला गया था। अगले दिन जब ट्रक के पास पहुंचा तो ट्रक मौके से गायब थी। उसने इसकी खबर मालिक देवेंद्र यादव को दी। इसके बाद देवेंद्र के कहने पर उसने मामले की शिकायत पुलिस से की। पुलिस ने मामले में जांच शुरू की। इस दौरान ट्रक के बारे में कहीं कोई जानकारी पुलिस को नहीं मिल पा रही थी। दो दिन पहले रीवा में होने की खबर मिली। मामले में जांच जारी है।

फास्ट टैग से पैसे कटते ही मोबाइल आया मैसेज
ड्राइवर सदन सिंह की शिकायत पर पुलिस ने अज्ञात आरोपी के विरुद्ध धारा 379 के तहत अपराध दर्ज कर लिया है। पुलिस के मुताबिक रीवा के पास अज्ञात ने फास्ट टैग से टोल नाके पर टैक्स जमा किया। जिसकी जानकारी फास्ट टैग से जुड़े मोबाइल नंबर पर मिल गई। देवेंद्र के मोबाइल पर यह जानकारी मिली। देवेंद्र ने इसके बारे में पुलिस को जानकारी दी। स्थानीय पुलिस ने रीवा पुलिस से संपर्क किया। फुटेज चेक किया गया। इससे गाड़ी चोरी करने वाले कि जानकारी मिल गई।

हाइवे के बजाए अंदर की सड़कों से लेकर गया चोर
ट्रक को लेकर पुलिस लगातार पतासाजी करते रही। इस बीच जैसे ही ट्रक हाइवे पर आया, उसका लोकेशन मिलना शुरू हो गया। जैसे ही ट्रक चालक रीवा पहुंचा। पुलिस को खबर मिल गई। ट्रक मालिक के मोबाइल और सिस्टम पर ट्रक की पूरी हिस्ट्री मिल गई। आरोपी चालक टोल बैरियर पार करने के बाद उसे सुरक्षित स्थान पर ले गया। लोकेशन की मदद से रीवा पुलिस ट्रक और आरोपी तक पहुंच गई। चोर के नाम का खुलासा नहीं हो पाया है।

ट्रक में जीपीएस भी एक्टिव मिलते रही लोकेशन
पुलिस के मुताबिक ट्रक में जीआईएस भी एक्टिव था। लेकिन नेटवर्क प्रॉब्लम के कारण ट्रक की सही लोकेशन नही मिल पा रही थी। रीवा शहर में ट्रक की एंट्री के बाद गाड़ी की सही लोकेशन मिलना शुरू हुा। जीपीएस की हिस्ट्री देखने से पता चला कि चोर गाड़ी को हाइवे की बजाय अंदर की सड़क से लेकर गया। इस वजह से बाकी की टोल टैक्स पर उसकी लोकेशन या फुटेज नहीं मिल पाया। जीपीएस से ट्रेसिंग के बाद पुलिस ने आरोपी के खिलाफ शिकंजा कसना शुरू कर दिया।

खबरें और भी हैं...