सामान्य सभा:आबादी पट्‌टा वितरण में हुआ लेनदेन, ढाई साल से अटकी है जल आवर्धन योजना, सदन में हुआ हंगामा

भिलाई18 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
भिलाई-चरोद निगम की सामान्य सभी की बैठक पूरे दिन हंगामेदार रही। आयुक्त ने जवाब के बाद मामला हुआ शांत। - Dainik Bhaskar
भिलाई-चरोद निगम की सामान्य सभी की बैठक पूरे दिन हंगामेदार रही। आयुक्त ने जवाब के बाद मामला हुआ शांत।
  • विपक्ष ने मेयर चंद्रकांता मांडले को आइना दिखाया तो मेयर ने भी सभापति से मांगा ढाई साल का हिसाब

चरोदा निगम की सामान्य सभा में विकास कार्यों को लेकर जमकर हंगामा हुआ। विपक्ष ने महापौर चंद्रकांता मांडले से पांच साल में विकास कार्यों का हिसाब मांगते हुए आइना भेंट किया। वहीं महापौर ने पलटवार करते हुए आइना सभापति विजय जैन को देते हुए कहा कि उनके मुखिया से पूछा जाए कि उन्होंने ढाई साल में क्या किया। इसे लेकर दोनों पक्षों काफी देर तक बहस चलती रही।

बुधवार को भिलाई-चरोदा निगम की सामान्य सभा हुई। विपक्ष ने विकास कार्यों के मुद्दे पर सत्ता पक्ष को घेरने का प्रयास किया। इसमें जल आवर्धन योजना में हो रही देरी, पट्टा वितरण में भ्रष्टाचार, राशन कार्ड, भिलाई तीन में गोठान निर्माण, पौनी पसरी योजना का क्रियान्वयन, सड़क, पानी, बिजली जैसे कई सवाल उठाए गए। इस दौरान पार्षद राजेश दांडेकर ने महापौर चंद्रकांता मांडले को आइना दिखाते हुए आइना भेंट किया गया। मांडले ने आइना सभापति विजय जैन के माध्यम से विपक्ष को वापस भेज दिया। महापौर ने कहा कि प्रदेश सराकर के मुखिया को यह आइना भेजकर पूछे कि ढाई साल में उन्होंने क्या किया। इस बात पर सदन में काफी देर तक हंगामा होता रहा। इस दौरान विपक्ष के पार्षदों ने आयुक्त के बैठक में शामिल नहीं होने पर नाराजगी व्यक्त की, विरोध दर्ज कराया।

जल आवर्धन योजना की देरी पर भड़के पार्षद, कहा-ढाई साल से अटका है काम
चरोदा निगम में जल आवर्धन की योजना की लेटलतीफी को लेकर पार्षदों ने हंगामा मचाया। कहा कि ढाई साल पुरानी यह योजना अब तक पूरी नहीं हो पाई है। बैठक में लगभग साढ़े 3 करोड़ की लागत से होने वाले सीवरेज लाइन के कार्यों को मंजूरी प्रदान की गई। इसके अलावा पालिका बाजार में बनी दुकानों की नीलामी सहित अन्य विषयों पर निर्णय लिया गया।

पट्टा वितरण पर लगाया लेनदेन करने का आरोप, नहीं दे रहे पार्षदों को जानकारी
1984 में पट्टों का वितरण किया गया था। वह वर्ष 2014 में लैप्स हो चुका है। उसका नवीनीकरण किया गया है। पार्षदों ने आरोप लगाया कि इसके वितरण व नवीनीकरण में लेनदेन हुआ है। उन्होंने इसकी जानकारी तक नहीं दी जा रही। इस पर हंगामा होते रहा। इस मामले को लेकर आयुक्त से जवाब मांगा गया, लेकिन आयुक्त मौके पर नहीं थे।

9 महीने बाद हुई बैठक, प्रश्नकाल के जवाब भी नहीं मिल पाए पार्षदों को
सदन में चर्चा के दौरान पार्षदों ने पूछा कि जल आवर्धन योजना के तहत खारुन नदी से निगम क्षेत्र के करीब सवा लाख लोगों को पानी कब से मिलना शुरू होगा। इस पर आयुक्त कीर्तिमान सिंह राठौर ने कोविड-19 की वजह से काम में हो रही देरी की सफाई दी। पार्षदों ने 9 महीने बाद हुई सभा में प्रश्नकाल के प्रश्नों को उत्तर चाहे, जिसे देने का भरोसा दिलाया गया।

सीवर लाइन निर्माण के कार्यों को दी गई मंजूरी, खर्च होंगे साढ़े 3 करोड़
मानसरोवर कालोनी वार्ड 17 में सिवर लाइन निर्माण के लिए 1.80 करोड़ रुपए की स्वीकृति दी गई। पदुमनगर वार्ड 18 में सिवर लाइन निर्माण के लिए 1.85 करोड़ रुपए की स्वीकृति। मुख्यमंत्री पालिका बाजार योजना के तहत निर्मित दुकानों की नीलामी से प्राप्त उच्चतम बोली की स्वीकृति मिली। चंदूलाल व्यवसायिक परिसर एवं वसुंधरा नगर व्यवसायिक परिसर के भूखंडों की आम नीलामी पर स्वीकृति दी गई।

खबरें और भी हैं...