पुलिस की कार्रवाई:ग्रामीणों से पांच करोड़ की ठगी करने वाली चिटफंड कंपनी के दो डायरेक्टर्स गिरफ्तार

भिलाई5 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

उतई पुलिस ने शनिवार को चिटफंड कंपनी सनशाइन हाईटेक इंफ्राकॉन लिमिटेड के दो फरार डायरेक्टर दीपक गहलोेत और दिनेश भूरिया को प्रोटेक्शन वारंट में दुर्ग लाया। इसके बाद दोनों को लोक अभियोजक बाल मुकुंद चंद्राकर के माध्यम से न्यायाधीश राजेश श्रीवास्तव की कोर्ट में पेश किया गया।

कोर्ट ने पूछताछ के लिए दोनों आरोपियों का दो दिन की पुलिस रिमांड पर भेज दिया। रविवार को दोनों आरोपियों को दोबारा कोर्ट में पेश किया जाएगा। आरोपियों ने अपने 4 डायरेक्टरों के साथ मिलकर ग्रामीणों से रकम दोगुना करने के नाम पर 5 करोड़ रुपए ठग लिए थे। ठगी का पता चलने के बाद खम्हरिया, मचांदुर, करगाडीह समेत एक अन्य गांव के पांच ग्रामीणों ने कंपनी के डायरेक्टर्स के खिलाफ थाने में शिकायत की थी। पुलिस ने वर्ष 2017 में आरोपियों के खिलाफ धारा 420, 409, 32 और छग निक्षेपकों को हितों का संरक्षण अधिनियम के तहत केस दर्ज किया था। एसएसपी बद्रीनारायण मीणा ने बताया कि आरोपी दीपक गहलोत अलीराजपुर और दिनेश भूरिया झाबुआ के रहने वाले हैं। दोनों के पहले मध्यप्रदेश के झाबुआ जिले में जेल में निरुद्ध होने की सूचना मिली। टीम झाबुआ पहुंची तो पता चला कि दोनों राजस्थान के बांसबाड़ा जेल में बंद हैं।

इसके बाद टीम राजस्थान पहुंची और प्रोटेक्शन वारंट पर आरोपियों को दुर्ग लेकर आई। वर्ष 2017 में केस दर्ज करने के बाद पुलिस ने कंपनी के दो डायरेक्टर रमेश नायक और दिनेश नायक को गिरफ्तार करके जेल भेज दिया था। अब भी गिरोह में शामिल देवास निवासी राकेश आर्य और परमानंद प्रजापति निवासी झाबुआ फरार हैं। चिटफंड कंपनी ने छत्तीसगढ़, मध्यप्रदेश, राजस्थान, महाराष्ट्र और गुजरात में सौ से अधिक लोगों के साथ ठगी की है। मामले में पुलिस की जांच जारी है।

खबरें और भी हैं...