राहत की खबर:सीएम मेडिकल कॉलेज से ऑपरेट होगा वायरोलॉजी लैब माइक्रोबायाेलाॅजिस्ट व 4 तकनीशियन को मिला जिम्मा

भिलाईएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
मेडिकल कॉलेज में कोरोना टेस्टिंग होने पर बाहर नहीं जाना होगा। - Dainik Bhaskar
मेडिकल कॉलेज में कोरोना टेस्टिंग होने पर बाहर नहीं जाना होगा।

सीएम मेडिकल कॉलेज में बनी नई वायरोलॉजी लैब अब स्वास्थ्य विभाग चलाएगा। 3 सितंबर 2021 को इस निजी मेडिकल कॉलेज के अधिग्रहण की अधिसूचना के बाद से यह लैब बंद थी। इसे चलाने कलेक्टर डॉ. सर्वेश्वर नरेंद्र भुरे ने शनिवार को एक माइक्रोबायोलॉजिस्ट और 4 लैब टेक्नॉलॉजिस्ट को जिम्मेदारी दी है। 3 सितंबर 21 से पूर्व निजी मेडिकल कॉलेज प्रबंधन शुल्क लेकर आरटीपीसीआर जांच कर रहा था।

अधिग्रहण के बाद से उसका अधिकार खत्म हो गया और सरकार को इसकी जरूरत नहीं थी, इसलिए बंद कर दी गई। अब जरूरत पड़ी तो इसे पुन: संचालित किया जा रहा है। स्वास्थ्य विभाग स्वयं द्वारा कलेक्ट किए जा रहे आरटीपीसीआर के सैंपलों को मेडिकल कॉलेज भेजेगा। पहले की तरह उन्हें आरटीपीसीआर के सैंपलों को रायपुर, जगदलपुर व राजनांदगांव नहीं भेजना होगा। इससे मरीजों और उनके परिजनों को समय पर रिपोर्ट मिल सकेगी।

सात दिनों की ट्रेनिंग मेकाहारा में, फिर टेस्टिंग होगी शुरू

आज से पांचों की मेडिकल कॉलेज रायपुर में ट्रेनिंग

सीएम मेडिकल कॉलेज की लैब के लिए पदस्थ डॉक्टर और सहयोगी स्टॉफ सोमवार से मेकाहारा के माइक्रोबॉयोलॉजी डिपार्टमेंट में 7 दिन की ट्रेनिंग लेंगे। 21 दिसंबर के बीच लैब में जांच शुरू होने की संभावना जताई जा रही है।

जिला अस्पताल की माइक्रोबायोलॉजी लैब अधर में

सीएम मेडिकल कॉलेज की माइक्रोबायोलॉजी लैब शुरू करने से जिला अस्पताल में बनाई जा रही माइक्रोबायोलॉजी लैब रोक दी गई है। यहां पहले से कुछ काम हो चुका है। यहां की लैब का अभी 10 फीसदी काम ही हुआ है।

ये माइक्रोबायोलॉजिस्ट व लैब टेक्नॉलॉजिस्ट नियुक्त
डॉ. आरके दामले, माइक्राबायोलॉजिस्ट, प्रेमलाल सिन्हा, लैब टेक्नॉलॉजिस्ट, दीपक चंद्राकर, लैब टेक्नॉलॉजिस्ट, आशीष सिदार, लैब टेक्नॉलॉजिस्ट, रमेश कुमार कंुभकार, लैब टेक्नॉलॉजिस्ट

कचांदुर की वायरोलॉजी लैब हम चलाएंगे
कोरोना की आरटीपीसीआर जांच के लिए कोई सरकारी लैब नहीं होने से हमें जिले के सैंपल रायपुर या राजनांदगांव मेडिकल कॉलेज भेजने पड़ रहे थे। जिला अस्पताल में बन रही लैब अधूरी है। सीएम मेडिकल कॉलेज के अधिग्रहण से हमें तैयार लैब मिल गई है, इसलिए अब हम उसे ही संचालित करेंगे।-डॉ. गंभीर सिंह, सीएमएचओ दुर्ग

खबरें और भी हैं...