ताकि कम हो संक्रमण:51 वार्ड में 51 सर्विलेंस टीम, घर-घर जानकारी जुटा रही, रोज 4 हजार से अधिक टेस्ट, 111 एम्बुलेंस भी

राजनांदगांव13 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

कोरोना संक्रमण के मामले लगातार बढ़ रहे हैं। इस हालात से निपटने के जिला प्रशासन ने मेगा एक्शन प्लान लांच किया है। इसके तहत हर हिस्से में टीम पहुंचकर लोगों के स्वास्थ्य की जानकारी जुटा रही है। वहीं मरीजों की सुविधा के लिए एंबुलेंस से लेकर चिकित्सक तक को एक्टिव मोड में रखा गया है।

कलेक्टर तारन प्रकाश सिन्हा ने दिग्विजय स्टेडियम बनाए गए डिस्ट्रिक वार रूम में संक्रमण के नियंत्रण एवं स्वास्थ्य सुविधाओं की समीक्षा के लिए अधिकारियों व स्वास्थ्य विभाग की बैठक ली। उन्होंने कहा कि कोविड नियंत्रण के लिए जिले में तैयारी पूरी कर ली गई है।

चिकित्सकों द्वारा होम आइसोलेशन में रहने वाले मरीजों से लगातार संपर्क कर स्वास्थ्य की जानकारी ली जा रही है। वहीं कोविड टेस्टिंग कर संक्रमित व्यक्तियों की पहचान कर होम आइसोलेशन और अस्पतालों में इलाज किया जा रहा है। साथ ही उन्हें दवाइयां व भोजन उपलब्ध कराई जा रही हैं। उन्होंने कहा कि कोरोना संक्रमित मरीज मिलने पर कॉन्टैक्ट ट्रेसिंग कर प्रायमरी संपर्क में आने वाले लोगों की कोरोना जांच जरूर करें।

सैंपलिंग: स्वास्थ्य विभाग द्वारा रोजाना 4 हजार से अधिक लोगों का कोरोना जांच किया जा रहा है। कलेक्टर सिन्हा ने कोविड वैक्सीनेशन और सैम्पलिंग के लिए 50 कर्मचारियों की अतिरिक्त टीम बनाने के निर्देश दिए। ताकि वैक्सीनेशन और सैंपलिंग की रफ्तार और बढ़ सके। सैंपलिंग के लिए 90 स्पेशल टीम बनाई गई है।

सुविधा: जिलेभर में मरीजों की सहायता के लिए 111 एम्बुलेंस एक्टिव किए गए हैं। आपातकाल या जरूरत की स्थिति में 108 और 112 में संपर्क कर एम्बुलेंस सुविधा प्राप्त की जा सकती है। इसके अलावा जिले में कोरोना संक्रमित मरीजों के उपचार के लिए 1148 बेड उपलब्ध है। आवश्यकता अनुसार बेड बढ़ाया जा रहा है।

सहायता: संक्रमित मरीजों की सहायता के लिए जिला स्तरीय कंट्रोल रूम स्थापित किया गया है। जिसमें 24 घंटे दूरभाष नंबर 74402-03333 से संपर्क कर कोई भी जानकारी प्राप्त कर सकते हैं। वहीं 6 कर्मचारियों द्वारा होम आइसोलेशन में रहने वाले मरीजों से फालोअप कर दवाईयों, ऑक्सीजन सेचुरेशन तथा स्वास्थ्य के संबंध में जानकारी ली जा रही है।

होम आइसालेशन वाले मरीजों को कर रहे जागरुक

फिलहाल कोरोना के ज्यादातर मरीज होम आइसोलशन में ही रह रहे हैं। इसे देखते हुए प्रशासन ने इन मरीजों को भी जागरुक रखने का प्लान तैयार किया है। जिसके चलते होम आइसोलेशन में रहने वाले मरीजों को होम आइसोलेशन प्रोटोकॉल के संबंध में पाम्पलेट दिया जा रहा है। जिससे संक्रमित मरीज प्रोटोकॉल का पालन करते हुए उचित उपचार प्राप्त कर सकें। आपातकाल स्थिति में चिकित्सकों से संपर्क कर स्वास्थ्य संबंधी समस्या के बारे में जानकारी दे सकते हैं। होम आइसोलेशन में रहने वाले मरीज को भोजन की आवश्यकता होने पर सामाज सेवी संस्था द्वारा भोजन उपलब्ध कराया जा रहा है। मरीज 07744-296622 और 07744-299920 पर संपर्क कर भोजन प्राप्त कर सकते हैं।

स्टेशनों में यात्रियों की जांच
कोरोना के फैलाव को रोकने के लिए जिले के बॉर्डर से लेकर बस स्टैंड और रेलवे स्टेशन में भी सख्ती बढ़ा दी गई है। महाराष्ट्र बॉर्डर में आने वाले हर यात्रियों व वाहनों के चालक की जांच की जा रही है। जांच के बाद ही उन्हें जिले की सीमा पर प्रवेश दिया जा रहा है। इसी तरह रेलवे स्टेशनों में भी बगैर जांच रिपोर्ट के पहुंच रहे यात्रियों की जांच की जा रही है। इसके अलावा बस स्टैंड में भी कोविड टेस्ट की व्यवस्था की गई है। सावधानी बरत रहे हैं।

ग्रामीण इलाकों में अलर्ट
बढ़ते संक्रमण को देखते हुए प्रशासनिक टीम गांव-गांव में भी सक्रियता दिखा रही है। ग्रामीण इलाकों में लोगों को कोरोना के तीसरी लहर के संबंध में जानकारी दी जा रही है। उन्हें सतर्क और प्रोटोकॉल का पालन करने की समझाइश दी जा रही है। इसके अलावा ग्रामीण क्षेत्र में होने वाले भीड़ बढ़ाने वाले आयोजनों को रद्द कराया जा रहा है। इसके लिए अफसर लगातार ग्रामीण इलाकों साप्ताहिक बाजारों का दौरा कर रहे हैं, ताकि संक्रमण रोका जा सके।

खबरें और भी हैं...