खैरागढ़ नगर पालिका में लॉटरी से बना कांग्रेसी अध्यक्ष:BJP-कांग्रेस को मिले थे 10-10 वोट, उपाध्यक्ष भी कांग्रेस का; भाजपा ने चुनाव प्रक्रिया पर उठाए सवाल

राजनांदगांव6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
जीत के बाद कांग्रेसियों ने जमकर जश्न मनाया। - Dainik Bhaskar
जीत के बाद कांग्रेसियों ने जमकर जश्न मनाया।

राजनांदगांव जिले की खैरागढ़ नगर पालिका में भी कांग्रेस ने कब्जा कर लिया है। यहां लॉटरी से अध्यक्ष और उपाध्यक्ष का फैसला हुआ। दोनों ही पद में कांग्रेस उम्मीदवारों को जीत मिली है। बुधवार को जब मतदान हुए तो दोनों ही दलों को बराबर 10-10 वोट मिले थे। अध्यक्ष और उपाध्यक्ष पद का फैसला होने के बाद भाजपा ने पूरी चुनावी प्रक्रिया पर ही सवाल उठाए हैं।

20 सीटों वाली इस नगर पालिका में कांग्रेस और भाजपा दोनों ही दलों के 10-10 पार्षद जीतकर आए थे। यहां किसी भी दल को पूर्ण बहुमत नहीं था। ऐसे में मुकाबला काफी रोचक माना जा रहा था। मगर जब रिजल्ट घोषित किए गए तो बीजेपी कार्यकर्ताओं ने नाराजगी जाहिर की है।

कांग्रेस ने यहां अध्यक्ष पद के लिए शैलेंद्र वर्मा को उम्मीदवार बनाया था। उपाध्यक्ष पद के लिए रज्जाक खान कांग्रेस की तरफ से मैदान में थे। बीजेपी की तरफ से चंद्रशेखर यादव अध्यक्ष और विनय देवांगन उपाध्यक्ष पद के लिए चुनाव लड़ रहे थे।

जीत के बाद कांग्रेसियों ने दिखाया विक्ट्री साइन।
जीत के बाद कांग्रेसियों ने दिखाया विक्ट्री साइन।

दोनों पदों के चुनाव के लिए बीजेपी-कांग्रेस के पार्षद सुबह ही नगर पालिका दफ्तर पहुंच गए थे। इसके अलावा बीजेपी कांग्रेस के बड़े नेता भी वहां पहुंच हुए थे। इसके बाद मतदान संपन्न हुआ। जिसमें दोनों ही दलों को बराबर वोट मिले। जिसके बाद पर्ची निकालकर ये फैसला किया गया है।

रिसाली की मेयर बनीं शशि सिन्हा:केशव बंछोर चुने गए सभापति; कांग्रेस प्रत्याशी को मिले 27 वोट, BJP से उसके पार्षदों ने किया किनारा

फैसला आने के बाद कांग्रेसी कार्यकर्ता खुशी से झूमने लगे। उन्होंने जमकर जश्न मनाया। वहीं बीजेपी नेताओं ने चुनावी प्रकिया पर सवाल खड़े किए और कहा कि कांग्रेस ने लोकतंत्र की हत्या की है। उन्होंने कहा कि इससे पहले भी एक वार्ड में इसी तरह से कांग्रेस प्रत्याशी को जिता दिया गया था।

मुुंगेली नगर पालिका में भी कांग्रेसी अध्यक्ष:हेमेंद्र गोस्वामी ने बीजेपी की गायत्री देवांगन को 8 वोटों से हराया, BJP के 2 पार्षदों ने की क्रॉस वोटिंग

23 दिसंबर को जब चुनाव परिणाम घोषित किए गए थे। तब वार्ड 4 से कांग्रेस प्रत्याशी और बीजेपी प्रत्याशी के बीच मुकाबला टाई हो गया था। इसके बाद जब रिकाउंटिंग हुआ तो बीजेपी का एक वोट निरस्त कर दिया गया था। इस तरह कांग्रेस उम्मीदवार ने यहां जीत दर्ज की थी। ये परिणाम आने के बाद बीजेपी कार्यकर्ताओं ने उस दौरान जमकर हंगामा भी कर दिया। कार्यकर्ताओं ने मतदान स्थल पर ही कुर्सियां तोड़ दी थी।

खबरें और भी हैं...