लंबित प्रकरणों का किया निरीक्षण:कलेक्टर बोले- चिटफंड कंपनी के झांसे में आकर राशि निवेश न करें

राजनांदगांव3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
कलेक्टर ने न्यायालय में प्रकरणों की ली जानकारी। - Dainik Bhaskar
कलेक्टर ने न्यायालय में प्रकरणों की ली जानकारी।
  • एसडीएम और तहसील न्यायालय में लंबित प्रकरणों का किया निरीक्षण

कलेक्टर तारन प्रकाश सिन्हा ने अनुविभागीय न्यायालय और तहसील न्यायालय का निरीक्षण करते हुए लंबित प्रकरणों का निराकरण करने अधिकारियों को निर्देश दिए। कलेक्टर सिन्हा लगातार अनुविभागीय न्यायालय और तहसील न्यायालय में पहुंचकर प्रकरणों की स्वयं जांच कर रहे हैं। इसके परिणाम स्वरूप जिले में जुलाई महीने में लगभग 7 हजार प्रकरणों का निराकरण किया गया।

कलेक्टर सिन्हा ने साप्ताहिक दौरे में गण्डई के अनुविभागीय न्यायालय एवं तहसील न्यायालय में प्रकरणों का गहन निरीक्षण किया। उन्होंने अनुविभागीय एवं तहसील कोर्ट में नामांकन, सीमांकन, बटवारा सहित अन्य राजस्व प्रकरणों की जांच की। उन्होंने कहा कि ऐसे प्रकरणों जो अविवादित है और जिनमें सभी कार्रवाई हो चुकी है, उन प्रकरणों का निराकरण जल्द करें। कोर्ट में अधिक समय देकर यादा से यादा प्रकरणों पर कार्रवाई करते हुए निराकरण करें। कोई भी केस अधिक समय तक नहीं चलना चाहिए। उन्होंने कहा कि प्रकरणों की स्थिति को देखे और उनका निराकरण जल्द करें। कलेक्टर सिन्हा ने अनुविभागीय न्यायालय गण्डई में चिटफंड कंपनी से राशि वापसी के लिए फाॅर्म जमा करने आए निवेशकों से चर्चा की। निवेशकों ने बताया कि विभिन्न चिटफंड कंपनियों में अपना पैसा निवेश किए हैं, लेकिन परिपक्वता अवधि पूर्ण होने के बाद भी पैसा वापस नहीं मिला है। कलेक्टर सिन्हा ने कहा कि चिटफंड कंपनियांे की संपत्ति कुर्क कर निवेशकों के पैसे वापस लौटाए जाएंगे। उन्होंने कहा कि अधिक लाभ के झांसे में आकर अपनी राशि भी निवेश न करें।

खबरें और भी हैं...