पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

मुहिम:कहगांव में 25 परिवारों ने मूल धर्म में की वापसी समाज के पदाधिकारियों, भाजपा नेत्री ने धोए पांव

राजनांदगांव6 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • कोसरिया महार समाज के पदाधिकारियों ने भी दी समझाइश, अब पूरे इलाके में चलेगा मूल धर्म में लौटाने का अभियान

प्रदेश सहित जिलेभर में धर्मांतरण का मुद्दा सियासी बवाल मचाए हुए है। इसी बीच मानपुर के कहगांव में 25 परिवारों ने अपने मूल धर्म में वापसी की है। ये परिवार कभी ईसाई धर्म अपना चुके थे। जिन्हें समाज के पदाधिकारियों व भाजपा नेत्री नम्रता सिंह की मौजूदगी में समझाइश दी गई।

रविवार को इसके लिए कहगांव में सामाजिक कार्यक्रम का भी आयोजन किया गया। जिसमें सभी 25 परिवारों के सदस्यों का पैर धोकर उन्हें अपने मूल धर्म और पूजा पद्धति में लौटाया गया। इस दौरान कोसरिया महार समाज के प्रदेश व जिला पदाधिकारियों ने कहा कि धर्म बदल चुके समाज के दूसरे लोगों को भी अपने मूल धर्म में वापस लाने पूरे इलाके में अभियान चलाया जाएगा । कहगांव में बड़ी संख्या में आदिवासी और कोसरिया महार समाज के लोगों ने धर्मांतरण कर लिया है, उन्होंने अपनी सभी पूजा पद्धति भी बदल दी है। इस गंभीर स्थिति को देखते हुए समाज के प्रांत पदाधिकारियों ने अभियान शुरू किया है।

कराई ईष्ट देव की पूजा
कार्यक्रम में पहले तो धर्म बदल चुके परिवार के सदस्यों को समझाइश दी गई। उन्हें अपनी परंपरा और पूजा पद्धति के संबंध में जागरूक किया गया। इसके बाद मौके पर ही सभी पदाधिकारियों ने इन परिवार के सदस्यों का पैर धोया और अपने समाज के ईष्ट देव की पूजा अर्चना कराई गई।

पूरे क्षेत्र में चलाएंगे अभियान, जल्द बड़ी संख्या में लौटेंगे
कहगांव में आयोजित कार्यक्रम में समाज के पदाधिकारियों ने जल्द ही और भी लोगों के मूल धर्म में वापसी की बात कही। उन्होंने कहा कि तेजी से हो रहा धर्मांतरण चिंताजनक है। भोले भाले लोगों को कई तरह का झांसा देकर अपनी मूल संस्कृति से दूर करने का प्रयास किया जा रहा है। इसके खिलाफ समाज के द्वारा पूरे इलाके में अभियान चलाया जाएगा। समाज के सदस्यों ने कहा कि यह अभियान तब तक जारी रहेगा, जब तक समाज का अंतिम व्यक्ति अपने मूल धर्म व पूजा पद्धति में वापसी न कर लें। आने वाले दिनों में बड़ी संख्या में लोग मूल धर्म में वापस होंगे।

सनातन हिंदू पंचायत के सदस्य भी दे रहे समझाइश
इधर जिले में लगातार बढ़ रहे धर्मांतरण केा रोकने के लिए सनातन हिंदू पंचायत का गठन भी किया गया है। इस संगठन में करीब 40 हिंदू समाज के पदाधिकारी व सदस्य शामिल हैं। जो लगातार जिले के अलग-अलग हिस्सों में धर्मांतरण रोकने अभियान चला रहे हैं। वहीं अपना धर्म बदल चुके लोगों को भी मूल धर्म में वापसी की समझाइश दी जा रही है। बीते दिनों लखोली क्षेत्र में भी कुछ परिवारों को समझाइश देकर अपने मूल धर्म में लौटाया गया । जहां पूजा अर्चना के बाद सभी ने मूल परंपरा और संस्कृति के अनुसरण की बात कही। इस दौरान उन्हें अन्य जानकारी भी दी गई।

महार समाज के प्रदेश पदाधिकारी मौके पर रहे मौजूद
रविवार को हुए घर वापसी के इस कार्यक्रम में कोसरिया महार समाज के प्रदेश अध्यक्ष श्रीराम शैलेंद्र, उपाध्यक्ष नारायण केसरिया, सचिव भक्ता राम मंडावी, जिलाध्यक्ष शिवचरण डोंगरे, उपाध्यक्ष प्रवीण मंडावी सहित समाज सेवी व भाजपा नेत्री नम्रता सिंह, कौशलेंद्र प्रताप सहित बड़ी संख्या में समाज के पदाधिकारी व सदस्य मौजूद रहें। बड़ी संख्या में मौजूद पदाधिकारियों ने गांव के दूसरे धर्मांतरित लोगों को भी समझाने का प्रयास किया। उम्मीद जताई की आने वाले दिनों में स्थिति सुधरेगी।

वनांचल क्षेत्र में धर्मांतरण की सबसे अधिक शिकायत
धर्मांतरण को लेकर जिले के वनांचल क्षेत्र मानपुर मोहला में सबसे अधिक शिकायत सामने आ रही है। इन हिस्सों में गरीब, बीमार व भोले भाले लोगों को बहकाकर उनकी मूल पूजा पद्धति से अलग किया जा रहा है। इस मामले की शिकायत पहले भी की जा चुकी है। इसके लिए धर्मांतरण कराने वाली अलग-अलग टीम भी काम कर रही है। बीते कुछ समय से बदले हालातों को देखते हुए अब समाज पदाधिकारियों ने भी बैठकें शुरु कर दी है। धर्मांतरण रोकने बड़े पैमाने पर इन हिस्सों में अभियान चलाने की तैयारी है।

खबरें और भी हैं...