पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

खिलाडि़यों को सुविधा नहीं:करोड़ों का इंटरनेशनल स्टेडियम लेकिन मेंटेनेंस के लिए फंड नहीं, टर्फ उखड़ रहा, परिसर में झाड़ियां भी

राजनांदगांव8 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • एस्ट्राेटर्फ हॉकी स्टेडियम का बुरा हाल, जिम्मेदार फंड नहीं होने का रोना रोकर बदहाली देख रहे

हॉकी की नर्सरी को विकसित करने के लिए करोड़ों रुपए खर्च कर एस्ट्रोटर्फयुक्त हॉकी स्टेडियम तो बनाया गया है पर साल दर साल इसके मेंटेनेंस में कोताही बरते जाने की वजह से यहां बदहाली नजर आ रही है। टर्फ उखड़ रहा है। ग्राउंड के आसपास खरपतवार उग आए हैं। बाउंड्री के आसपास कटीली झाड़ियों की वजह से स्टेडियम की देखरेख में की जा रही अनदेखी साफ नजर आ रही है। जिम्मेदार अफसर फंड का रोना रोकर खामोश हैं। जबकि खिलाड़ी यह दशा देखकर चिंतित हैं कि हालात ऐसे ही रहे तो करोड़ों का यह स्टेडियम अस्तित्व की लड़ाई लड़ता नजर आएगा। 
शहर में हॉकी को लेकर लोगों में रुचि और खिलाड़ियों में उत्साह होने की वजह से पूर्ववर्ती भाजपा सरकार की ओर से एस्ट्रोटर्फयुक्त हॉकी स्टेडियम की सौगात दी गई है। पहले यहां के खिलाड़ी चट मैदान में खेला करते थे पर इंटरनेशनल लेवल पर पहुंचने के लिए टर्फ में खेल की प्रैक्टिस जरूरी होने की वजह से एस्ट्रोटर्फ लगाया गया। इसे राजनीतिक दलों की ओर से बड़ी सौगात बताई गई पर शासन स्तर से मेंटेनेंस के नाम से फंड ही जारी नहीं किया जा रहा है। 
तकनीकी एक्सपर्ट नहीं, सफाई तक नहीं हो रही 
टर्फ जगह-जगह उखड़ने लगा है। कई दिनों से इसमें पानी का छिड़काव भी नहीं किया गया है। इसकी सफाई तक नहीं हो रही है, जबकि साई सेंटर की ओर से सफाई कराने के लिए मशीनें दी गई हैं। बताया गया कि सफाई को लेकर तकनीकी एक्स्पर्ट भी नहीं है। खेल एवं युवा कल्याण विभाग की ओर से दैनिक वेतनभोगी कर्मचारी को रखा गया है जो कि विभागीय काम में ही उलझा रहता है। 
जनवरी में किया हैंडओवर, अब फंड नहीं मिल रहा
पीडब्ल्यूडी की ओर से स्टेडियम का निर्माण किया गया है। लंबे समय तक पीडब्ल्यूडी के अफसर ही इसकी देखरेख करते थे। जनवरी 2020 में इसे खेल एवं युवा कल्याण विभाग के हैंडओवर कर दिया गया। इसकी पूरी देखरेख की जिम्मेदारी अब संबंधित विभाग की है पर अफसर यह कहकर जिम्मेदारी से पल्ला झाड़ते आ रहे हैं कि शासन को फंड जारी करने पत्र लिखा गया है। 
कोच की भी नियुक्ति नहीं 
इंटरनेशनल स्टेडियम तो बनवाया गया है पर नए खिलाड़ियों को ट्रेनिंग देने के लिए यहां कोच तक नहीं हैं। साई हॉस्टल व अन्य स्कूलों के कोच ही ट्रेनिंग देते हैं, जबकि खेल विभाग में कोच के पोस्ट रिक्त पड़े हुए हैं। खिलाड़ियों ने बताया कि टर्फ में कैसे खेलना है? इसे लेकर स्पेशल ट्रेनिंग दी जाती है पर यहां ऐसे कोच भी नहीं हैं, जबकि इसकी मांग करते आ रहे हैं। खेल विभाग के सहायक संचालक ए एक्का का कहना है कि मेंटेनेंस के लिए पैसे नहीं आ रहे। सिर्फ बिजली का बिल जमा कर रहे हैं।

प्रैक्टिस करने भी नहीं देते
खिलाड़ियों ने बताया कि संबंधित विभाग के अफसर स्टेडियम में प्रैक्टिस करने से भी रोकते हैं। हॉकी प्लेयर बच्चों को भीतर जाने से रोका जाता है, जबकि इनके लिए ही टर्फ बनाया गया है ताकि ये प्रैक्टिस कर खेल में सुधार ला सके और टूर्नामेंट में बेहतर कर प्रदर्शन कर चुके पर रोक-टोक के चलते ये स्टेडियम आने से कतराने लगे हैं। 

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- व्यस्तता के बावजूद आप अपने घर परिवार की खुशियों के लिए भी समय निकालेंगे। घर की देखरेख से संबंधित कुछ गतिविधियां होंगी। इस समय अपनी कार्य क्षमता पर पूर्ण विश्वास रखकर अपनी योजनाओं को कार्य रूप...

और पढ़ें

Open Dainik Bhaskar in...
  • Dainik Bhaskar App
  • BrowserBrowser