पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

सराहनीय पहल:केबीसी में जीते रुपए से चवेली गांव में बनेगा मां बम्लेश्वरी वृद्धा आश्रय और ट्रेनिंग सेंटर

राजनांदगांवएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • स्पेशल एपिसोड कर्मवीर में पद्मश्री फुलबासन ने अमिताभ को भेंट की ठेठरी-खुरमी और यादव समाज की पारंपरिक वेशभूषा भी, संघर्ष की कहानी सुन भावुक हुए बिग बी और रेणुका शहाणे

कौन बनेगा करोड़पति के स्पेशल एपिसोड कर्मवीर में शुक्रवार को पद्मश्री फुलबासन यादव ने अभिनेत्री रेणुका शहाणे के साथ हॉट सीट शेयर की। इस दौरान उन्होंने 50 लाख रुपए जीते। फुलबासन ने क्विट तो नहीं किया लेकिन हूटर बजने की वजह से शो को समाप्त करना पड़ा। इस दौरान उन्होंने अपने संघर्ष की कहानी बयां की। जिसे सुनकर अभिनेता अमिताभ बच्चन और अभिनेत्री रेणुका शहाणे भी भावुक हो उठे। फुलबासन ने बताया कि केबीसी में जीते इन रुपयों से वे पदुमतरा के पास स्थित चवेली गांव में मां बम्लेश्वरी वृद्धा आश्रय और ट्रेनिंग सेंटर का निर्माण करेंगी। इससे महिलाओं को और भी आत्मबल मिलेगा, और भी महिलाएं जुड़ेंगी।

फुलबासन के घर पहुंची महिला आयोग अध्यक्ष नायक, की मुलाकात
फुलबासन की इस उपलब्धि पर राज्य महिला आयोग की अध्यक्ष किरणमयी नायक ने हर्ष जताया। उन्होंने और महापौर हेमा देशमुख ने सुकुलदैहान जाकर उनके घर में मुलाकात की और उन्होंने श्रीमती यादव को बधाई भी दी। फुलबासन ने कहा कि यह पूरे राज्य की महिलाओं का सम्मान है।

कैसे आगे बढ़ीं, यह बताया: फुलबासन ने इस दौरान संघर्ष की कहानी के साथ महिला सशक्तिकरण की बातों को रखा। कैसे वे आगे बढ़ीं और किन परिस्थितियों का उन्हें सामना करना पड़ा। उन्होंने कई उदाहरणों के माध्यम से समझाया कि कैसे विपरीत परिस्थितियों में संघर्ष किया जा सकता है।

वर्ष 2001 की यादों को उस समय महिला बाल विकास अधिकारी रहे सिंगी ने शेयर किया
वर्ष 2001 में जिला महिला बाल विकास विभाग के अधिकारी राजेश सिंगी ने सुकुलदैहान का दौरा किया और उस समय कलेक्टर दिनेश श्रीवास्तव के मार्गदर्शन में मां बम्लेश्वरी स्वयं सहायता समूह का गठन किया जा रहा था। जब गांव की महिलाओं से बात हुई तो एक ग्रामीण महिला जो गांव में पशु चराने का काम करती थी फूलबासन भी उस गांव की महिलाओं की मीटिंग में आई थी। चर्चा के दौरान जब सिंगी ने यह देखा कि यह बहुत अच्छी वक्ता हैं और संगठन की क्षमता है तो अगले दिन कलेक्टर का जब सुकुलदैहान में दौरा था तो, वहां पर कई समूहों का गठन किया गया और पहली बार फुलबासन को भाषण देने के लिए वहां पर आमंत्रित किया गया। इस प्रकार इनकी मां बम्लेश्वरी स्वयं सहायता समूह के साथ जुड़ाव हुआ। उस समय मां बम्लेश्वरी स्वयं सहायता समूह में करीब एक लाख महिलाओं को जोड़ा गया। 2004-05 में मिनीमाता सम्मान के बाद लगातार पुरस्कारों की झड़ी लग गई। राजनांदगांव से ही मां बम्लेश्वरी स्वयं सहायता समूह की शुरुआत हुई थी और वर्क 2001 से 2005 तक बहुत शक्तिशाली समूह के रूप में पहचान बनाई थी।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- परिस्थिति तथा समय में तालमेल बिठाकर कार्य करने में सक्षम रहेंगे। माता-पिता तथा बुजुर्गों के प्रति मन में सेवा भाव बना रहेगा। विद्यार्थी तथा युवा अपने अध्ययन तथा कैरियर के प्रति पूरी तरह फोकस ...

और पढ़ें